बच्चों के हक पर एक और कैंची:पहले गार्गी व बालिका प्रोत्साहन पुरस्कार में कटौती, अब 8वीं के मेधावियों को नहीं मिलेंगे लैपटॉप

जयपुर3 महीने पहलेलेखक: विनोद मित्तल
  • कॉपी लिंक
आठवीं कक्षा के दो सत्रों के मेधावी विद्यार्थियों को लैपटॉप नहीं मिलेंगे। इनकी संख्या 18 हजार से अधिक है। - Dainik Bhaskar
आठवीं कक्षा के दो सत्रों के मेधावी विद्यार्थियों को लैपटॉप नहीं मिलेंगे। इनकी संख्या 18 हजार से अधिक है।

गार्गी और बालिका प्रोत्साहन पुरस्कारों की संख्या में कटौती के बाद शिक्षा विभाग ने अब लैपटॉप योजना पर भी कैंची चलाई है। आठवीं कक्षा के दो सत्रों के मेधावी विद्यार्थियों को लैपटॉप नहीं मिलेंगे। इनकी संख्या 18 हजार से अधिक है। पिछले 3 साल से 8वीं के विद्यार्थियों को लैपटॉप नहीं मिल पाए थे। अब इन्हें केवल एक सत्र के ही लैपटॉप मिलेंगे। लैपटॉप नहीं देने के पीछे विभाग का तर्क है कि 2019-20 और 2020-21 में कोरोना के चलते 8वीं की बोर्ड परीक्षा नहीं हुई।

विद्यार्थियों को प्रमोट किए जाने के कारण अंकों के अभाव में तर्क संगत मेरिट का बनाना संभव नहीं। इसलिए मेरिट के अभाव में इन दो सत्रों 2019-20 और 2020-21 में 8वीं की लैपटॉप वितरण योजना को स्थगित किया जा रहा है। आठवीं कक्षा में हर सत्र में 9300 लैपटॉप दिए जाने की योजना है।

दो सत्रों के 18600 लैपटॉप वितरित नहीं होने पर सरकार को करीब 40 करोड़ रु. की बचत होगी। बता दें कि कोरोना के चलते सत्र 2018-19 से अब तक बोर्ड परीक्षाओं के सरकारी स्कूलों के मेधावी विद्यार्थियों को लैपटॉप का वितरण अब तक नहीं हुआ है।

केवल सरकारी स्कूलों के मेधावी विद्यार्थियों के लिए यह है लैपटॉप योजना
8वीं, 10वीं, 12वीं में सरकारी स्कूलों के मेधावी विद्यार्थियों को राज्य स्तर पर प्रत्येक कक्षा के 6-6 हजार व जिला स्तर पर प्रत्येक कक्षा में प्रत्येक जिले के 100-100 टॉपर को लैपटॉप दिए जाने की योजना है।

तीनों कक्षाओं में एक सत्र में 27,900 लैपटॉप देते हैं। तीन सत्रों से लैपटॉप नहीं मिलने के कारण 83,700 लैपटॉप नहीं दिए जा सके। अब 8वीं के दो सत्रों के 18,600 लैपटॉप नहीं दिए जाएंगे। इस तरह से 65,100 लैपटॉप वितरित होंगे।

पिछले 3 साल से लैपटॉप नहीं मिले, ये भी विद्यार्थियों को कब मिलेंगे, पता नहीं
बाकी विद्यार्थियों को भी पिछले 3 सत्र के लैपटॉप कब मिलेंगे, इसको लेकर अधिकारियों का कहना है लैपटॉप खरीदने के लिए राज्य स्तरीय समिति का गठन कर दिया है। सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग को लैपटॉप के तकनीकी स्पेशिफिकेशन निर्धारित होते ही खरीद प्रक्रिया प्रारंभ कर दी जाएगी।

4.30 लाख बालिकाएं इससे पहले गार्गी पुरस्कार की दौड़ से बाहर हो गईं थी। क्योंकि गार्गी व बालिका प्रोत्साहन पुरस्कार पाने वाली बेटियों की संख्या बढ़ी तो विभाग ने 75% प्राप्तांकों का क्राइटेरिया बढ़ाकर 90% कर दिया था।