• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Gehlot Said, There Is A Danger In The Country To Find The Democracy, All The Agencies Have Come Under The Grip Of The Government.

केंद्र-भाजपा पर सीएम का हमला:गहलोत बोले- देश में डेमोक्रेसी को ढूंढना पड़ रहा है उसके सामने खतरे हैं, सारी एजेंसियां सरकार के शिकंजे में आ चुकीं

जयपुरएक वर्ष पहले
जयपुर में प्रतीकात्मक दांडी मार्च में हिस्सा लेते मुख्यमंत्री अशोक गहलोत।
  • सीएम ने कहा- मोदी मोहन भागवत से सलाह कर लें, देश को एक रखना है अखंड रखना है तो सही रास्ते पर आ जाएं, वरना जनता सही रास्ते पर ला देगी

देश में लोकतंत्र को लेकर राहुल गांधी के बाद अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी उसी लाइन पर बयान दिया है। मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि आज देश में डेमोक्रेसी को ढूंढना पड़ रहा है। डेमोक्रेसी के सामने खतरे हैं। देश के हालात ऐसे बन गए हैं कि सारी एजेंसियां सरकार के शिकंजे में आ गई हैं। स्वायत्तशासी संस्थाएं जैसे चुनाव आयोग, न्यायपालिका, ईडी, आयकर पर शिकंजा कसा हुआ है। सरकार से कोई असहमत है तो उसे देशद्रोही करार दिया जा रहा है। पूरी दुनिया के मुल्कों में हमारे देश की बदनामी हो रही है। शुक्रवार सुबह गहलोत ने बजाज नगर से गांधी सर्किल तक प्रतीकात्मक दांडी यात्रा की। गहलोत ने यात्रा से पहले मीडिया से बातचीत में और फिर यात्रा के समापन पर भाषण में केंद्र सरकार को निशाने पर लिया।

'मोदी, मोहन भागवत से सलाह कर लें'
गहलोत ने कहा- मोदीजी मोहन भागवत से सलाह कर लें। देश को एक रखना है, अखंड रखना है तो सही रास्ते पर आ जाएं। वरना जनता सही रास्ते पर ला देगी। आज अमेरिका स्वीडन में क्या लिखा जा रहा है। आप वास्तव में 56 इंच का सीना दिखाओ। आप सभी जाति वर्ग को साथ लेकर चलें। मोहन भागवत हिंदुओं की बात करते हैं और आज भी मानवता पर कलंक का प्रतीक छुआछूत है। मोहन भागवत और आरएसएस छुआछूत मिटाने पर काम करें। अगर वास्तव में वे खुद को हिंदू मानते हैं तो छुआछूत खत्म करें। भाजपा- आरएसएस हिंदू मुस्लिम के नाम पर लड़वाते हैं। बाद में ये दलित-गैर दलित के नाम पर लड़वाएंगे।

'सरकारों को जिद नहीं करनी चाहिए'
सीएम ने कहा- किसान आंदोलन पर अमेरिका यूरोप के देश क्या-क्या कह रहे हैं। वह पढ़ेंगे तो आपकी आंखें खुल जाएंगी। मोदीजी दुनिया में घूम रहे हैं लेकिन अब स्थिति उल्टी हो गई है। दुनिया के देशों में किसान आंदोलन को लेकर जो प्रतिक्रिया हो रही है, उम्मीद है विदेश मंत्री प्रधानमंत्री को सही सलाह देंगे। उन्होंने कहा कि देश का दुर्भाग्य है ​कि जिन किसानों ने देश की आजादी में हिस्सा लिया हो, उन किसानों के मामले में सरकार कृषि कानूनों पर जिद पकड़ बैठी है। सरकारों को कभी जिद नहीं करनी चाहिए। सरकारों को हमेशाा नतमस्तक होना चाहिए, जनता जनार्दन के सामने।

'उम्मीद है आज किसानों को लेकर मोदी की आत्मा झकझोरेगी'
गहलोत ने कहा कि कृषि कानूनों को लेकर गलतफहमी पैदा हो गई है तो क्या फर्क पड़ता है। छह माह के लिए कानून वापस ले लीजिए। राज्य सरकारों, किसानों से बात करके उन्हें विश्वास में लेकर फिर से नया कानून ले आइए। संवेदनहीनता की पराकाष्ठा हो चुकी है। किसानों को आंदोलन करते 4 माह ​हो गए, पूरे देश में गुस्सा है। इस पूरे मुद्दे में चार महीने से किसान ठंड में बैठे रहे। 200 से ज्यादा किसान मारे गए हैं। उनके परिवारों पर क्या बीती होगी। मोदी भी आज साबरमती से दांडी यात्रा शुरू कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि गांधीजी को याद कर मोदी के अंतर्मन को यह झकझोरेगा और शाम तक वे फैसला करें तो खुशी होगी।

'कोरोना में लापरवाही हुई तो सख्त कदम उठाएंगे'
गहलोत ने इस दौरान कोरोना को लेकर भी बात की। उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर लापरवाही नहीं होनी चाहिए। महाराष्ट्र के 5 शहरों में लॉकडाउन लग चुका है। संख्या राजस्थान में भी बढ़ चुकी है। लोगों को चाहिए कि कोराना की जीती जंग हम हार नहीं जाएं। इसलिए सावधानी बरतें। लापरवाही हुई तो सख्ती से कदम उठाए जाएंगे।

वैक्सीनेशन में राजस्थान नंबर वन
अब तक प्रदेश में 25 लाख का वैक्सीनेशन हो चुका है। राजस्थान देश में वैक्सीनेशन में नंबर वन है। हमें वैक्सीन नहीं मिल रही थी तो नीति आयोग में बात करनी पड़ी। स्वास्थ्य मंत्री से बात की। अब परसों से वैक्सीन आने लगी हैं। हमारे विपक्षी साथी जिनके लिए हम हमेशा कहते हैं कि हमें सबका सहयोग मिला है, फिर भी आलोचना करने से बाज नहीं आते हैं। हमारा मंगलवार से वैक्सीनेशन बंद होने वाला था। सीएचसी-पीएचसी पर बंद हो गया था। इसलिए हमें केंद्र से मांग करनी पड़ी। फिर भी हमारे कुछ बड़बोले नेता हैं जिन्हें कमेंट करना ही होता है। कोरोना में आलोचना होनी ही नहीं चाहिए, हमने सही समय पर सही बात ​कही।