पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

PM से किसान आंदोलन का हल निकालने की मांग:गहलोत बोले- लंबे समय से चल रहे किसान आंदोलन का अब तो सार्थक हल निकालिए, प्रधानमंत्री ने जवाब नहीं दिए

जयपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
PM के साथ CM की वर्चुअल बैठक। - Dainik Bhaskar
PM के साथ CM की वर्चुअल बैठक।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई गुरू तेग बहादुर जी की 400वीं जन्म शताब्दी उच्च स्तरीय समिति की वर्चुअल बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किसान आंदोलन का मुद्दा उठाया। गहलोत ने पीएम मोदी से कहा कि विभिन्न मांगों को लेकर देशभर में लंबे समय से चल रहे किसान आंदोलनों का कोई सार्थक हल निकाला जाए। किसान भरी सर्दी से खुले में बैठकर आंदोलन कर रहे हैं और गर्मी आ गई है, इतने लंबे अरसे बाद अब तो इसका हल निकालिए। गुरु तेग बहादुरजी के प्रकाश पर्व के पुनीत मौके पर सरकार को किसान आंदोलन का हल निकालना चाहिए।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इससे पहले भी कई बार पीएम से किसान आंदोलन का हल निकालने की मांग कर चुके हैं। हर सार्वजनिक समारोह में और प्रेस कॉन्फ्रेंस में गहलोत किसान आंदोलन का मुद्दा उठाने से नहीं चूकते हैं। आज पहली बार प्रधानमंत्री के सामने इस मुद्दे पर बात रखी। हालांकि प्रधानमंत्री मोदी ने इस पर कोई जवाब नहीं दिया, क्योंकि मुख्य मुद्दा गुरु तेगबहादुरजी के 400वें प्रकाश पर्व के कार्यक्रमों के आयोजन का था। आज उच्चधिकार प्राप्त समिति की पहली बैठक थी जिसमें मुख्यमंत्री के नाते गहलोत भी सदस्य हैं।

गहलोत ने बैठक में सुझाव दिया कि गुरु तेग बहादुर जी के 400वीं जन्म शताब्दी पर साल भर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों को प्रभावी ढंग से आयोजित करने के लिए समितियों का गठन किया जाए। ये समितियां कोरोना गाइडलाइन को देखते हुए कार्यक्रम आयोजित करें।

गहलोत बोले-सत्ता कितनी भी मजबूत हो, वह गलत हो तो उसके सामने कभी नहीं झुकें

वर्चुअल बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि गुरु तेग बहादुर जी का बलिदान केवल धर्म पालन के लिए ही नहीं समस्त मानवीय सांस्कृतिक विरासत की खातिर बलिदान था। दिल्ली का शीशगंज गुरुद्वारा साहिब आज भी हमें याद दिलाता है कि चाहे अधर्म कितना भी बढ़ जाए, सत्ता अपने आप को कितना भी मजबूत समझे लेकिन यदि वो गलत है तो उसके सामने कभी नहीं झुकना चाहिए। गुरु तेग बहादुर जी ने हमारी संस्कृति की महान परंपरा का निर्वहन करते हुए अपनी शहादत दी। गुरु तेग बहादुर जी की 400वीं जन्म शताब्दी जैसे अवसर हमें महापुरुषों के कृतित्व और व्यक्तित्व को नई पीढ़ी तक पहुंचाने की जिम्मेदारी का अहसास कराते हैं। देश और दुनिया में आज जो चुनौतियां हमारे सामने हैं, उनका मुकाबला हम शांति, सद्भाव और समरसता के माध्यम से ही कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

और पढ़ें