राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा से जुड़ी जरूरी खबर:सरकार ने एनएफएस में नाम जुड़वाने के लिए आज से फिर खोला पोर्टल; 28 मई तक जुड़वा सकेंगे नाम

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा (NFS) में नाम जुड़वाने जो लोग रह गए है, उनके लिए अच्छी खबर है। राज्य सरकार ने NFS पोर्टल को एक बार फिर से खोल दिया है। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी किए है। आदेशों के मुताबिक पात्रता रखने वाले परिवार 28 मई तक नाम जुड़वाने के लिए आवेदन कर सकेंगे। इससे पहले सरकार ने नाम जुड़वाने के लिए पोर्टल को करीब 4 साल बाद पिछले महीने अप्रैल में खोला था।

तब आवेदनों की संख्या ज्यादा आने और पोर्टल पर तकनीकी खराबी होने के कारण कई लोग आवेदन करने से रह गए थे। उस समय सरकार ने पोर्टल को 3 दिन अतिरिक्त समय देते हुए खोला था, लेकिन उन 3 दिन में भी बड़ी संख्या में आवेदन आने और ई-मित्र के सर्वर में प्रोबल आने के कारण लोग आवेदन करने से रह गए थे।

आपको बता दें कि एनएफएस में जुड़े प्रत्येक व्यक्ति को सरकार 2 रुपए किलो की कीमत से राशन की दुकान से हर महीने गेंहू उपलब्ध करवाती है। हर व्यक्ति को एक महीने में 5 किलो गेंहू सरकार देती है। कोविडकाल में केन्द्र सरकार ने इस गेंहू की मात्रा को 5 से बढ़ाकर 10 किलोग्राम कर दिया था, जो इस साल अक्टूबर तक मिलेगा।

10 लाख यूनिट्स जुड़नी है और 14.86 लाख आवेदन आ गए
पिछले महीन एक से 30 अप्रैल तक प्रदेशभर में कुल 14.86 लाख परिवारों ने NFS में नाम जुड़वाने के लिए आवेदन किया था। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस साल बजट में 10 लाख यूनिट्स (एक यूनिट्स यानी एक व्यक्ति) का नाम जोड़ने की घोषणा की थी। वर्तमान में राज्य सरकार की खाद्य सुरक्षा सूची में 1.04 करोड़ से ज्यादा परिवार के करीब 4.30 करोड़ लोगों के नाम जुड़े है। केन्द्र सरकार की ओर से राज्य को 4.40 करोड़ लोगों के हिसाब से गेंहू के आवंटन का कोटा निर्धारित है। इसे देखते हुए सरकार ने 10 लाख नये लोगों को सूची में जोड़ने का निर्णय किया है।

नागौर से सबसे ज्यादा आवेदन आए
राज्य में मिले पिछले महीने आए 14.86 लाख आवेदनों में से 6.60 आवेदन नागौर जिले से मिले है। यहां से कुल 98 हजार 227 लोगों ने आवेदन किए है। इसके बाद दूसरे सबसे ज्यादा आवेदन वाले जिलों की सूची में जयपुर का नंबर है, जहां से कुल 94 हजार 831, जबकि बाड़मेर से 91 हजार 34 आवेदन आए है, जो तीसरे नंबर पर है। वहीं सबसे कम प्रतापगढ़ जिले से 16 हजार 888 आवेदन आए है।