• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Grandmother Said Granddaughter Will Make Hat trick Of Medals, Brother Said, Sister's Studies Will Continue Till She Becomes RJS

मेरी पोती मेडल की हैट्रिक बनाएगी:अवनि की दादी बोलीं- वो अब रुकने वाली नहीं, एक और पदक जीतने की तैयारी में लगी है; भाई ने कहा- RJS बनने तक जारी रहेगी बहन की पढ़ाई

जयपुरएक वर्ष पहले
जयपुर में अवनि के घर पर जश्न।

जयपुर की अवनि लेखरा ने टोक्यो पैरालिंपिक में लगातार दूसरा मेडल जीत दुनियाभर में भारत का नाम रोशन कर दिया है। अवनि की जीत के बाद जयपुर के शास्त्री नगर में उनके घर पर परिजनों ने भी नाच-गाकर जश्न मनाया। इस दौरान भास्कर भी अवनि के परिवार के साथ जश्न में शामिल हुआ। यहां बधाई देने वालों का तांता लगा रहा।

अवनि की दादी ने बताया कि उनकी पोती ने एक ओलंपिक में दो मेडल का इतिहास रचा है। अवनि अभी रुकने वाली नहीं है। वह अभी 5 सितंबर को होने वाले मुकाबले के लिए तैयारी में जुटी है, ताकि भारत के लिए एक और पदक जीता जा सके। वहीं, अवनि के दादाजी आर लेखरा ने कहा कि उनकी पोती के संघर्ष की जीत हुई है। पिछले कई सालों से अवनि की जी तोड़ मेहनत का ही नतीजा है कि उसने दुनियाभर में भारत का परचम लहराया है। इन सबके बीच मुझे इस बात की भी खुशी है कि अब परिवार को लोग अवनि की वजह से पहचाने जाने लगे हैं।

शूटिंग के साथ जज बनने के लिए जारी रहेगी पढ़ाई

अवनि के भाई अरनव ने बताया कि उसकी जीत से पूरे घर में जश्न का माहौल है। फिलहाल हम सभी को अवनि के चौथे मुकाबले का इंतजार है। उसमें उसकी काफी अच्छी तैयारी है। फिलहाल अवनि का पूरा ध्यान पैरालिंपिक में है। इसके बाद वह फिर से पढ़ाई पर फोकस करेगी। अवनि का सपना जज बनने का है। उन्होंने कहा कि भले ही अवनि की नौकरी लग गई हो, लेकिन उसकी पढ़ाई आगे भी जारी रहेगी।

गोल्डन गर्ल अवनि ने बढ़ाया भारत का मान:50 मीटर एयर राइफल प्रतिस्पर्धा में जीता मेडल, एक ओलिंपिक में दो मेडल जीतने वाली देश की पहली खिलाड़ी बनीं अवनि

टोक्यो पैरालिंपिक में जयपुर की बेटी ने दी दोहरी खुशी:11 साल की उम्र में हुआ था एक्सीडेंट, पहली बार गन उठा तक नहीं पाई थीं, जज बनना चाहती हैं अवनि

खबरें और भी हैं...