पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

राजस्थान में सियासी संकट खत्म:बसपा एमएलए की ट्रांसफर पिटीशन और दिलावर की एसएलपी पर सुनवाई आज

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बसपा के कांग्रेस में विलय का मामला सुप्रीम काेर्ट में

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को बसपा के कांग्रेस में गए छह एमएलए की ट्रांसफर पिटीशन व बीजेपी के एमएलए मदन दिलावर की एसएलपी पर सुनवाई होगी। बसपा एमएलए ने जहां ट्रांसफर पिटीशन के जरिए कांग्रेस में उनके विलय को चुनौती देने वाली हाईकोर्ट में लंबित याचिका को सुप्रीम कोर्ट ट्रांसफर करने का आग्रह किया है। वहीं मदन दिलावर ने भी एसएलपी में स्पीकर के 18 सितंबर 2019 के बसपा एमएलए के कांग्रेस में विलय के आदेश पर रोक लगाने और बसपा से कांग्रेस में गए सभी छह एमएलए को विधानसभा के फ्लोर टेस्ट में किसी भी पार्टी के पक्ष में मतदान से रोकने का आग्रह किया है।

दिलावर की एसएलपी पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में कुछ मिनट सुनवाई हुई। दिलावर की ओर से सीनियर एडवोकेट हरीश साल्वे ने कहा कि हमने पहले हाईकोर्ट की एकलपीठ में मामला दायर किया था। लेकिन हमें वहां से कोई राहत नहीं मिली है। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने दिलावर की एसएलपी पर भी मंगलवार को बसपा एमएलए की ट्रांसफर पिटीशन के साथ ही सुनवाई तय की। दरअसल बसपा के कांग्रेस में गए छह एमएलए लखन सिंह व अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में गाेवा विधानसभा के एमएलए के विलय मामले का हवाला देते हुए मामला जयपुर पीठ से सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर करवाने के लिए कहा है।

एकलपीठ में भी आज स्टे एप्लीकेशंस पर है सुनवाई
हाईकोर्ट की एकलपीठ बसपा के छह एमएलए के कांग्रेस में विलय को चुनौती देने के मामले में बीजेपी एमएलए मदन दिलावर व बसपा पार्टी की स्टे एप्लीकेशंस पर मंगलवार को सुनवाई होगी। दिलावर ने आग्रह किया है कि जब तक अदालत का फैसला नहीं आता तब तक छह एमएलए को विधानसभा सत्र की किसी भी कार्यवाही में भाग लेने नहीं दिया जाए।

कांग्रेस ने पक्षकार बनने की अर्जी दायर की
इस मामले में कांग्रेस ने हाईकोर्ट में लंबित बसपा व दिलावर की याचिका में पक्षकार बनने का प्रार्थना पत्र दायर कर कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा व चीफ व्हिप महेश जोशी को भी पक्षकार बनाने का आग्रह किया है। कांग्रेस ने कहा है कि 18 सितंबर 2019 को एक आदेश के जरिए बसपा के सभी 6 विधायकों का कांग्रेस में विलय हो गया। इसलिए अब ये सभी 6 विधायक बसपा के नहीं होकर राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के विधायक है।
बसपा ने याचिका में इन विधायकों की सदस्यता रद्द करने और वोटिंग अधिकार पर रोक लगाने की गुहार कि है। यदि अदालत ऐसा आदेश देती है तो मौजूदा सरकार के लिए मुश्किल होगी और कांग्रेस पार्टी व विधायक दल के हित प्रभावित होंंगे। इसलिए मामले में कोई भी आदेश देने से पहले कांग्रेस व चीफ व्हिप का भी पक्ष सुना जाए।

बसपा विधायकों ने कहा, देशभर में भाजपा ने किए हैं कई दलों का विलय
वहीं बसपा के बागी एमएलए ने हाईकोर्ट में सोमवार को जवाब पेश कर कहा कि मामले में याचिका चलने योग्य नहीं है। भाजपा खुद कई राज्यों में दलों का विलय करती रही है लेकिन यहां पर विलय को गलत बता रही है। राज्यसभा में भी टीडीपी के चार सांसदों का इसी तरह से विलय किया गया था।

गोवा में कांग्रेस के 15 में से दस विधायकों का विलय किया गया और सिक्किम में एसडीएफ के 13 में से 10 विधायकों का भाजपा में विलय हुआ है। इसके अलावा जब विधानसभा अध्यक्ष ने भाजपा विधायक की याचिका तकनीकी आधार पर खारिज कर दी थी तो उन्हें नए सिरे से वहीं पर याचिका लगाई चाहिए थी।

बसपा ने मदन दिलावर की याचिका का जवाब देते हुए कहा कि याचिका अखबारों में छपी खबरों के आधार पर दायर की गई। याचिका सही तरीके से नियमों के अनुसार विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष दुबारा पेश करने पर उसका फैसला वहीं पर संभव था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें