पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरकारी नौकरी लगने के बाद भी बेरोजगारी भत्ता:हैलो! नीरज के पवन बोल रहा हूं, नौकरी लगने के बाद भी बेरोजगारी भत्ता क्यों ले रहे

जयपुर20 दिन पहलेलेखक: अर्पित शर्मा
  • कॉपी लिंक
श्रम एवं राेजगार विभाग के सचिव नीरज के पवन ने साेमवार काे खुद फाेन किया और मामले के बारे में पूछताछ की। - Dainik Bhaskar
श्रम एवं राेजगार विभाग के सचिव नीरज के पवन ने साेमवार काे खुद फाेन किया और मामले के बारे में पूछताछ की।
  • भास्कर एक्सक्लूसिव - 83 कर्मियों का बेरोजगारी भत्ता अप्रूव हो चुका, 2 तो ले भी चुके
  • अब हर महीने 2% का सैंपल वेरिफिकेशन होगा...ताकि ऐसे फर्जीवाड़े पकड़े जा सकें

राजस्थान में एकतरफ तो लाखों बेरोजगारों को भत्ता मिल नहीं पा रहा...वहीं 83 ऐसे कर्मचारी पकड़े गए हैं, जो सरकारी नौकरी लगने के बाद भी बेरोजगारी भत्ता अप्रूव करा चुके थे। इनमें से दो तो भत्ता उठा भी चुके थे। राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम (आरएसएलडीसी) ने स्टेट इंश्योरेंस एंड प्रोविडेंट फंड (एसआईपीएफ) से डेटा लेकर जांच की तो ये चौंकाने वाला खुलासा हुआ।

इनमें से दो तो सरकारी शिक्षक बनने के बाद भी बेरोजगारी भत्ता ले चुके थे। इसका पता चलते ही श्रम एवं राेजगार विभाग के सचिव नीरज के पवन ने साेमवार काे इन्हें खुद फाेन किया और मामले के बारे में पूछताछ की। सचिव का फाेन जाते ही दाेनाें चौंक गए। दाेनाें ने कहा कि हमसे गलती हाे गई, जाे भत्ता मिला है जल्दी वापस कर देंगे। हालांकि दाेनाें ने मिलाकर करीब 20 हजार रु. भत्ता लिया है। अब दाेनाें के खिलाफ ताे कार्रवाई हाेगी ही, बाकी की भी जांच हाेगी।

ऐसे आए पकड़ में; आधार कार्ड से डेटा मिलाया तो गड़बड़ी सामने आई
आरएसएलडीसी ने एसआईपीएफ से सरकारी कर्मचारियों के आधार कार्ड का डाटा लेकर बेरोजगारी भत्ता लेने वाले लोगों का डाटा मिलान किया। बेरोजगारी भत्ते के लिए आवेदन करने वाले ऐसे 385 लोग मिले, जिनकी नौकरी लग चुकी थी। जो दो सरकारी शिक्षक पकड़े गए हैं, वे प्रतापगढ़ व झालावाड़ के हैं। इनके अलावा 79 के आवेदन रिजेक्ट कर दिए गए। वहीं 217 ऐसे हैं जिनके फॉर्म में कोई कमी होने से लौटा दिए गए।

सचिव ने फोन किया तो बोले-गलती हाे गई, लौटा दूंगा

नौकरी लगने के बावजूद बेरोजगारी भत्ता लेने के मामले सामने आए हैं। हमने एसआईपीएफ से डेटा लेकर मिलान किया है। कार्यवाही कर रहे हैं। ऐसे लोगों की जांच के लिए जिलों में हर माह 2% के सैंपल वेरिफिकेशन करवाएंगे।
- नीरज के. पवन, सचिव श्रम एवं रोजगार विभाग

केस-1 : टीचर ने कहा- खाते में पैसे आए, मुझे पता नहीं चला

सचिव: हैलाे! मैं श्रम एवं राेजगार विभाग सचिव आईएएस नीरज के पवन बाेल रहा हूं। आप कहां पर शिक्षक हैं?
झालावाड़ के शिक्षक: हां सर, मैं कराैली का हूं और झालावाड में पाेस्टिंग है।

सचिव: आपकी नाैकरी लग चुकी है, लेकिन इसके बाद भी आपने बेराेजगारी भत्ता लिया।
शिक्षक: सर, खाते में पैसे आए उसके बारे में पता नहीं चला।

सचिव: हमारे पास रिकाॅर्ड मौजूद है आपने नौकरी के बाद भी बेरोजगारी भत्ता लिया है।
शिक्षक: सर, मुझसे गलती से हो गया, मैं वापस जमा करा दूंगा।

केस-2 : प्रतापगढ़ में पोस्टिंग है, मैं वापस जमा करवा दूंगी
सचिव- हैलाे, मैं नीरज के पवन बाेल रहा हूं। आपकी पाेस्टिंग कहां पर है?

प्रतापगढ़ के शिक्षक: सर प्रतापगढ़ में ही पाेस्टिंग है।
सचिव: आपने नाैकरी लगने के बाद भी बेराेजगारी भत्ता भी लिया है।
शिक्षक: सर मैं वापस जमा करवा दूंगी।

राजस्थान में 8.5 लाख बेरोजगार भत्ते के लिए आवेदन कर चुके हैं

रजिस्टर्ड बेरोजगार - 15,03,834 आवेदन करने वाले - 8.50 लाख अब तक भत्ता मिला - 2.51 लाख

सबसे कम आवेदन

जैसलमेर- 3,692 प्रतापगढ़- 3,457

सर्वाधिक आवेदन
जयपुर- 59,622
सीकर - 49,149

नई व्यवस्था- नौकरी के बाद भी बेरोजगारी भत्ता लेने वालों की खैर नहीं, विभाग ने सभी जिला अधिकारियों से कहा-वेरिफिकेशन करें
इस तरह के मामले सामने आते ही अब विभाग ने फैसला किया है कि सरकारी या प्राइवेट नौकरी के बावजूद बेरोजगारी भत्ता लेने वालों को पकड़ने के लिए हर महीने 2% बेरोजगारों का सैंपल वेरिफिकेशन करवाया जाएगा। विभाग ने सभी जिलों के अधिकारियाें को वेरिफिकेशन के लिए पत्र लिख दिया है। इससे सरकारी या नौकरी करने के बावजूद बेरोजगारी भत्ता लेने वाले पकड़ेे जाएंगे। अब तक जो बेरोजगारी भत्ते के लिए आवेदन कर चुके हैं, उनकी रैंडम जांच हो सकती है।

ये भी तैयारी...लोकल प्रशासन से भी करा सकते हैं वेरिफिकेशन
नौकरी के बावजूद भत्ता उठाने वालों को पकड़ने के लिए विभाग यह भी प्लान बना रहा है कि क्यों ना भत्ता शुरू करने से पहले लोकल प्रशासन/ तहसील से वेरिफिकेशन करवा लिया जाए। अधिकारियों का कहना है कि इसको लेकर एक बार प्रस्ताव मंत्री के पास भेजा जाएगा। अब तक 1.60 लाख बेरोजगारों को भत्ता दिया जा रहा था,ये संख्या 2 लाख करने का प्लान है। भत्ता भी एक हजार रु. बढ़ाया गया है, ऐसे में भत्ते के लिए ज्यादा उत्साह है।