• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • If The Government Will Not Give DA And Will Not Accept The Demand, Then We Will Not Listen To The Government In Elections

रेलकर्मियों ने दी सरकार को चुनौती:अगर सरकार डीए नहीं देगी और मांग नहीं मानेगी, तो हम चुनाव में सरकार की नहीं सुनेंगे

जयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन रेलवेमेंस (एनएफआईआर) के आह्वान पर गुरूवार को उत्तर पश्चिम रेलवे मजदूर संघ (यूपीआरएमएस) द्वारा त्रिदिवसीय मांग सप्ताह मनाया गया। जयपुर रेलवे स्टेशन और मुख्यालय पर भारत सरकार और रेल प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया। विरोध प्रदर्शन में संघ के अध्यक्ष विनोद मेहता ने रेल और अन्य सभी केंद्रीय कर्मियों का 1 जनवरी 2020 से बंद महंगाई भत्ते (डीए) और उसके बकाया एरियर का भुगतान करने की मांग की। जयपुर कैरिज विभाग के कर्मचारियों को फुलेरा कार्य के लिए भेजे जाने का यात्रा भत्ता (टीए) दिए जाने की, रेलवे को निजी हाथों में नहीं सौंपने की, न्यू पेंशन स्कीम बंद कर पुरानी पेंशन योजना शुरू करने, रेल कर्मचारियों को फ्रंट लाइन वर्कर्स घोषित करने, जेसीएम में जिन मुद्दो पर सहमति बन चुकी है, उनको शीघ्र प्रभाव से लागू करने, सातवें वेतन आयोग की वेतन विसंगतियो को दूर करने सहित अन्य मांगों को पूरा करने जैसी अनेक मांगो को नहीं मानने लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया। मेहता ने सरकार को चेतावनी दी कि अगर सरकार ने उनकी मांगे नहीं मानी, तो आगामी चुनावों में रेलकर्मी सहित अन्य केंद्रीय कर्मचारी उनकी भी नहीं सुनेंगे। इस दौरान मंडल अध्यक्ष सौरभ दीक्षित, उपाध्यक्ष प्रवीण चौहान, मोहन पूनिया, वीरेंद्र सिंह कविया, याकत अली, लोकेश शर्मा, अनिल चौधरी, राजेश मीना, सुधीर उपाध्याय सहित बड़ी संख्या में रेलकर्मी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...