ब्रह्मपुरी एसटीपी में लापरवाही के लीकेज का खमियाजा भुगतेगा शहर:प्लांट चलाने को दूसरा ऑपरेटर नहीं तो बिना ट्रीट हुआ पानी छोड़ा

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

ब्रह्मपुरी स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से बिना ट्रीटेड वाटर सीवरेज को सीधे बाईपास किया गया है क्योंकि फर्म के वैकल्पिक तौर पर कोई ऑपरेटर नहीं है जो थे वो क्लोरीन गैस के प्रभाव में आकर अस्पताल पहुंच गए। हैरानी जनक है कि दूसरे ऑपरेटर की व्यवस्था होने तक निगम ने प्रदूषित पानी को सीधे छोड़ना ही बेहतर समझा।

वहीं जहां तक क्लोरीन सिलेंडर की बात है तो उसको तो अब ठीक होने को लेकर ही अवधि तय नहीं है। इसे दिल्ली भेजकर रिप्लेस कराना होगा। कमिश्नर ने जांच भी निगम के ही संबंधित अधीक्षण अभियंता को सौंपी है, जबकि यह काम चीफ इंजीनियर तक की रुटीन जिम्मेदारी में आता है।

शुक्रवार तड़के दिल्ली से क्लोरीन सिलेंडर के एक्सपर्ट प्लांट पर पहुंचे और डूबे हुए सिलेंडर को देख इसे ठीक किया। सामने आया कि नोब में ही परेशानी थी, जिसकी वजह से यह लीक कर रहा था।

परकोटे की गंदगी ट्रीट करता है एसटीपी
ब्रह्मपुरी एसटीपी से वॉलसिटी का सीवर ट्रीट होता है जो सीधे बाईपास किया जा रहा है। पुराने एसटीपी के बजाए दो साल पहले बनाए इस एसटीपी पर नई तकनीक के साथ क्लोरीन गैस से जोड़ा गया था।

खबरें और भी हैं...