कोरोना की मार से बेकाबू आंकड़े:राजस्थान में संक्रमण का ग्राफ गिर रहा, मौत के मामले बढ़ रहे; 23 दिन में औसतन रोज 150 लोग मरे हैं

जयपुरएक वर्ष पहले

राजस्थान में कोरोना की दूसरी लहर भले ही धीरे-धीरे थम रही हो, लेकिन मौत की रफ्तार अभी भी कम होने का नाम नहीं ले रही। इस साल मई के पिछले 23 दिन के आंकड़ों पर गौर करें तो हर रोज औसतन 150 लोग इस बीमारी से मर रहे हैं। राज्य में बीते 15 माह (मार्च 2020 से 23 मई 2021) तक करीब 7703 लोग जान गंवा चुके हैं। इसका 45 फीसदी आंकड़ा तो केवल इस माह के 23 दिनों में हुई है।

राजस्थान में स्थिति ये है कि पिछले 10 दिन के अंदर कोरोना के केस की रफ्तार आधी रह गई है। 14 मई को जहां प्रदेश में 14,289 संक्रमित केस मिले थे, वह 23 मई को घटकर 6521 पर पहुंच गया है। इधर के दिनों में तेजी से संक्रमित केसों की संख्या में कमी आ रही है, मौत के आंंकड़े बढ़ ही रहे हैं।

अप्रैल की तुलना में 3 गुना ज्यादा मौत

राजस्थान में पूरे कोरोनाकाल में अब तक 7703 लोगों की कोरोना से जान जा चुकी है। सबसे ज्यादा मौत मई में हुई है और ये अब भी जारी है। मई की शुरुआती 23 दिन में कुल 3464 लोगों की जान गई है, जो किसी भी माह में इस महामारी से अब हुई मौतों में सर्वाधिक है। इससे पहले पिछले माह अप्रैल में सबसे ज्यादा 1421 लोगों की मौत हुई थी। यानी हर रोज औसतन 47 लोगों ने अप्रैल में जान गंवाई। इस बार ये आंकड़ा 150 पर पहुंच गया, यानी तीन गुना बढ़ गया।

जयपुर में सबसे ज्यादा और बूंदी में सबसे कम
जिलेवार मौत की संख्या की स्थिति देखें तो जयपुर में सबसे ज्यादा लोगों ने इस बीमारी से जान गंवाई है। जयपुर में इस बीमारी से अब तक 1747 लोगों की मौत हुई, जबकि दूसरे नंबर पर जोधपुर है। यहां 1016 लोगों की जान गई। वहीं सबसे कम बूंदी जिले में इस बीमारी से लोग मरे हैं। यहां पूरे कोरोनाकाल में अब तक कुल 41 लोगों की जान गई है।