शंकराचार्य बोले- गीता के अंश निकाल दो तो बाइबिल खत्म:धर्मसभा में कहा- खुद अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति इसे मानते थे

जयपुर2 महीने पहले

शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा कि बाइबिल में से यदि गीता के अंश को निकाल दिया जाए तो बाइबिल ही खत्म हो जाएगी। खुद अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति इसे मानते थे। पुरी पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती मंगलवार शाम 5 बजे जयपुर के गोविंद देवजी मंदिर में सर्व समाज हिंदू महासभा की ओर से आयोजित धर्मसभा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा- मोबाइल, कंप्यूटर और रॉकेट के युग में भी सनातन धर्म सबसे जरूरी है, क्योंकि सिर्फ सनातन ही है, जो सदा के लिए है। शंकराचार्य बोले- दुनिया के 50 से ज्यादा देशों में हिंदू रहते हैं। अगर भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित कर दिया जाए तो एक साल में मॉरिशस समेत 15 देश हिंदू राष्ट्र घोषित हो जाएंगे। मुस्लिम, ईसाई और दूसरे सभी धर्मों के लोगों के पूर्वज भी हिंदू ही थे।

शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा कि मोबाइल, कंप्यूटर और रॉकेट के युग में भी सनातन धर्म सबसे जरूरी है, क्योंकि सिर्फ सनातन ही है, जो सदा के लिए है।
शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा कि मोबाइल, कंप्यूटर और रॉकेट के युग में भी सनातन धर्म सबसे जरूरी है, क्योंकि सिर्फ सनातन ही है, जो सदा के लिए है।

नेता सिर्फ चुनावी वादे करते हैं
शंकराचार्य ने कहा- नेता सिर्फ चुनावी वादे करते हैं। चुनाव में कुछ नेता अब ऐसे भी कहेंगे कि आप तो बस मुझे वोट दें और आराम करें। आपके लिए खाना बनाने के लिए भी हमारा आदमी आएगा। यह सिर्फ चुनावी वादे होते हैं। हकीकत में ऐसा संभव नहीं है। इसलिए हमारे आसपास की सभी समस्याओं को हमें मिलकर ही हल करना होगा।

जयपुर के गोविंद देवजी मंदिर में सर्व समाज हिंदू महासभा की ओर से आयोजित धर्मसभा में बड़ी संख्या में साधु-संत भी पहुंचे।
जयपुर के गोविंद देवजी मंदिर में सर्व समाज हिंदू महासभा की ओर से आयोजित धर्मसभा में बड़ी संख्या में साधु-संत भी पहुंचे।

हिंदू अलग-अलग जातियों में बंट गया
धर्मसभा में कनक बिहारी मंदिर के महंत सियाराम ने कहा- हिंदू अलग-अलग जातियों में बंट गया है। जो हमारी सबसे बड़ी गलती है। हमें एक होना होगा। अगर अब हम एक नहीं हुए तो पिटेंगे। अगर हम एक हो जाएंगे तो पीटेंगे। उन्होंने कहा कि नुपुर शर्मा ने ठीक कहा था। न जाने क्यों उनकी बात पर इतना बवाल हो रहा है।

मोहम्मद साहब और ईसा के पूर्वज हिंदू- शंकराचार्य
इससे पहले सोमवार को जयपुर पहुंचे शंकराचार्य ने कहा था कि सबके पूर्वज सनातनी, वैदिक और हिन्दू थे। मोहम्मद साहब, ईसा मसीह के भी पूर्वज सनातनी, वैदिक और हिन्दू ही थे। वहीं लंपी के मुद्दे पर सरस्वती ने कहा कि गोवंश की सुरक्षा होनी चाहिए। देश के सबसे ऊंचे और प्रतिष्ठित पद पर बैठे एक महानुभाव ने कहा था- गोरक्षक गुंडे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा, गोरक्षक गुंडे हैं। जिस देश के सर्वोच्च पदाधिकारी और सुप्रीम कोर्ट ने एक वाक्य प्रसारित किया कि गोरक्षक गुंडे हैं। तो अपने आप ही गोहत्या का मार्ग प्रशस्त हो गया। अब गोवंश की हत्या तो होगी ही।

पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती महाराज से मिले राज्यपाल कलराज मिश्र।
पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती महाराज से मिले राज्यपाल कलराज मिश्र।

इस दौरान राज्यपाल कलराज मिश्र ने पुरी शंकराचार्य से आशीर्वाद लिया। राज्यसभा सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा, पीठ परिषद आदित्य वाहिनी के प्रदेशाध्यक्ष गोपाल शर्मा, मीडिया प्रभारी मनीष मुद्गल, सरपंच अनिल शर्मा भी मौजूद रहे।

पुरी पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती को सुनने के लिए महिलाएं भी पहुंचीं।
पुरी पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती को सुनने के लिए महिलाएं भी पहुंचीं।

श्रीगोवर्धनमठ के 145 वें शंकराचार्य हैं निश्चलानंद सरस्वती
जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती पुरी के श्रीगोवर्धनमठ के 145 वें शंकराचार्य हैं। मठ के 144 वें शंकराचार्य जगतगुरु स्वामी निरंजनदेव तीर्थ महाराज ने स्वामी निश्चलानंद सरस्वती को अपना उत्तराधिकारी मानकर 9 फरवरी 1992 को गोवर्धनमठ पुरी के 145 वें शंकराचार्य पद पर आसीन किया था। कहा जाता है कि वो भारत के एक ऐसे संत हैं, जिनसे संयुक्त राष्ट्र संघ ने अगस्त 2000 को न्यूयार्क में आयोजित विश्व शांति शिखर सम्मेलन और विश्व बैंक ने वर्ल्ड फेथ्स डेवलपमेंट डायलॉग- 2000 के वाशिंगटन सम्मेलन के अवसर पर लिखित मार्गदर्शन लिया था।

धर्मसभा में जयपुर समेत पूरे राजस्थान के प्रबुद्ध जन शामिल होंगे।
धर्मसभा में जयपुर समेत पूरे राजस्थान के प्रबुद्ध जन शामिल होंगे।

मक्का में मक्केश्वर महादेव हैं
पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चालानंद सरस्वती ने नागौर में रविवार को हिंदू राष्ट्र संगोष्ठी को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने ज्ञानवापी में मिले शिवलिंग के सवाल पर कहा, 'ज्ञानवापी की क्या बात करते हैं, हम तो मक्का तक पहुंच गए हैं, वहां भी मक्केश्वर महादेव हैं। भारत हिंदू राष्ट्र है, लेकिन अगर सरकार इसे हिंदू राष्ट्र घोषित करती है तो नेपाल, मॉरीशस समेत दुनिया के 15 देश हिंदू राष्ट्र घोषित होने की तैयारी में हैं।' पुरी पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती शनिवार को नागौर पहुंचे थे। पूरी खबर को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

ये भी पढ़ें..

शंकराचार्य बोले- मोहम्मद साहब, ईसा के पूर्वज हिंदू:कहा- मैं साइन कर देता तो नरसिम्हा राव सरकार में ही राम मंदिर और मस्जिद बन जाते

खबरें और भी हैं...