• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • In The First Meeting Of The Election Committees For Vallabhnagar And Dhariyavad By elections, The Names Of The Candidates Were Churned, 6 Out Of 14 Congress Leaders Were Absent From The Meeting.

उपचुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस:वल्लभनगर और धरियावद उपचुनाव के लिए चुनावी कमेटियों की पहली बैठक में उम्मीदवारों के नामों पर मंथन,14 में से 6 नेता बैठक से नदारद

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में उपचुनावों की तैयारी पर हुई बैठक में कांग्रेसी। - Dainik Bhaskar
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में उपचुनावों की तैयारी पर हुई बैठक में कांग्रेसी।

कांग्रेस ने 2 सीटों पर उपचुनावों के लिए अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा की अध्यक्षता में हुई बैठक में उपचुनाव की रणनीति तैयार की गई। धरियावद और वल्लभनगर सीटों पर उपुचनाव के लिए बनी चुनाव मैनजमेंट कमेटियों के नेताओं की बैठक में जिताऊ उम्मीदवारों के चयन पर चर्चा की गई। बैठक में सभी नेताओं से अपने स्तर पर फीडबैक लेकर संभावित उम्मीदवारों के नाम देने को कहा है। बैठक में दोनों सीटों पर उपचुनावों की तैयारी को लेकर विस्तार से चर्चा हुई। चुनावी मुद्दों के अलावा चुनावी अभियान चलाने और स्थानीय स्तर पर वोटर्स को पक्ष में करने की रणनीति पर मंथन हुआ। बैठक में यह भी तय हुआ कि पिछले उपचुनाव के मॉडल पर ही इस बार का चुनावी अभियान चलाया जाए। ग्राउंड पर वोटर्स तक ज्यादा से ज्यादा पहुंच पर फोकस करने की रणनीति बनाने को कहा है।

पहली बैठक से ही नहीं आए
दोनों सीटों पर चुनाव मैनेजमेंट के लिए सात—सात नेताओं की कमेटियां बनाई गई हैं। दोनों सीटों पर कुल 14 नेता चुनाव मैनेजमेंट कमेटी हैं। पहली बैठक में 14 में से 6 नेता नहीं आए। मंत्री प्रमोद जैन भाया, उदयलाल आंजना, विधायक रामलाल मीणा, गणेश घोघरा, सीडब्ल्यूसी सदस्य रघुवीर मीणा, कांग्रेस नेता लाखन मीणा बैठक में नहीं आए। बारां में बाढ़ के हालात के कारण प्रमोद जैन भाया बैठक में नहीं आए। मंत्री उदयलाल आंजना भी क्षेत्र में थे। कांग्रेस वर्किंग कमेटी सदस्य रघुवीर मीणा एक दिन पहले तक जयपुर में थे, लेकिन बैठक से ठीक पहले वे उदयपुर चले गए।

उम्मीदवार चयन अब असली परीक्षा

वल्लभनगर सीट सचिन पायलट समर्थक कांग्रेस विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत के निधन की वजह से खाली हुई थी। यह सीट जनवरी से खाली है। कोरोना के कारण इस सीट पर 6 महीने की अवधि में उपचुनाव के प्रावधान में चुनाव आयोग में छूट दी थी। धरियावाद सीट बीजेपी विधायक गौतम लाल मीणा के मई में कोरोना के निधन की वजह से खाली हुई है। इन सीटों पर उम्मीदवारों का चयन असली परीक्षा है।

अप्रैल में हुए उपुचनावों में सिम्पैथी कार्ड

पिछली बार अप्रैल में हुए उपचुनावों में सुजानगढ, सहाड़ा में कांग्रेस ने दिवगंत विधायकों के परिजनों को टिकट दिए और जीत दर्ज की। BJP ने भी राजसमंद से दिवगंत विधायक किरण माहेश्वरी की बेटी दीप्ति माहेश्वरी को टिकट दिया। वे भी चुनाव जीतीं। इस तरह तीनों सीटों पर सहानुभूति फैक्टर चला। इस बार कांग्रेस उदयपुर के वल्लभनगर से सिम्पैथी कार्ड खेल सकती है। वल्लभनगर से दिवंगत विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत की पत्नी प्रीति शक्तावत और बड़े भाई देवेंद्र सिंह शक्तावत दावेदारी कर रहे हैं। इनमें से किसी एक को टिकट दिया जा सकता है।

उपचुनावों में कांग्रेस भी राम नाम के सहारे:वल्लभनगर और धरियावद सीटों के उपचुनाव में राम होंगे प्रमुख मुद्दा, नेता प्रतिपक्ष के दिए बयान को कांग्रेस ने मुद्दा बनाने का फैसला किया

राजस्थान में पंचायत चुनावों की घोषणा:कोरोना की तीसरी लहर के खतरे के बीच 6 जिला परिषदों और 78 पंचायत समितियों में चुनाव; 3 चरणों के शेड्यूल में पहले दौर की वोटिंग 26 अगस्त को

खबरें और भी हैं...