• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • In The Karan Arjun Film People Were Locked In Homes To Show Fear, After 26 Years In Bilwadi Village The Whole Picture Appear In Corona Lockdown In Jaipur

करण-अर्जुन की शूटिंग वाले गांव की कहानी:1995 में अमरीश पुरी का खौफ दिखाने के लिए बीलवाड़ी गांव के घरों में लोग बंद थे; 26 साल बाद कोरोना से फिल्म जैसा ही मंजर

जयपुर5 महीने पहलेलेखक: विष्णु शर्मा

आपने तो देखी ही होगी। इस फिल्म की शूटिंग राजस्थान की बीलवाड़ी गांव में हुई थी। फिल्म में एक सीन था, जिसमें ठाकुर बने अमरीश पुरी के खौफ से पूरे गांव के लोग अपने घरों में कैद हो जाते हैं। यह सीन नाटकीय था, लेकिन शूटिंग के 26 साल बाद आज इस गांव में वैसा ही मंजर है। तब खौफ नाटकीय था, लेकिन अब कोरोना की दहशत है।

राजस्थान में कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने इस बार काफी गांवों को चपेट में लिया है। करीब 40% आबादी संक्रमण का शिकार हुई है। इससे बचने के लिए लगे लॉकडाउन का असर अब गांवों में देखने को मिल रहा है। वहां लोग कोरोना के डर से घरों में बंद रहने को मजबूर हैं। जयपुर से 90 किलोमीटर दूर विराट नगर से भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट...

विराट नगर के मुख्य सड़क से लगा हुआ पहाड़ों और मिट्‌टी के टीलों से घिरा बीलवाड़ी गांव नजर आया। लॉकडाउन की वजह से लोग घरों में बंद मिले। वहीं, सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ नजर आया। बाजार में दुकानें बंद, चबूतरे और चौपाल सूने पड़े थे। इस सन्नाटे के बीच गांव में एंट्री प्वाइंट पर लगी पवनचक्की के हवा से घूमते पंखे बीलवाड़ी गांव में सन 1995 में फिल्माए करण-अर्जुन फिल्म के सीन की याद दिला रहे थे।

बीलवाड़ी गांव में आज भी यह पवन चक्की मौजूद है। मूवी में शाहरुख खान के साथ इसके शॉट फिल्माए गए थे।
बीलवाड़ी गांव में आज भी यह पवन चक्की मौजूद है। मूवी में शाहरुख खान के साथ इसके शॉट फिल्माए गए थे।

बीलवाड़ी में 26 साल पहले फिल्माए गए थे एक घंटे की मूवी के सीन
बॉलीवुड एक्टर सलमान खान और शाहरुख खान की करण-अर्जुन मूवी की शूटिंग की वजह से बीलवाड़ी गांव काफी चर्चित रहा है। करीब एक घंटे की फिल्म की शूटिंग यहीं हुई थी। भंगड़ा पाले गाना के सीन हो या फिर फिल्म में ठाकुर का रोल निभाने वाले अमरीश पूरी का खौफ दिखाने के लिए गांव में सन्नाटा पसरा होने और लोगों के घरों में बंद रहने के सीन यहीं फिल्माए गए थे। अब कोरोना वायरस की वजह से करीब 26 साल बाद कोरोना महामारी में यहां वैसा ही सन्नाटा देखने को मिल रहा है।

बीलवाड़ी गांव में सन्नाटे के बीच सूनी सड़क पर अभिनेत्री राखी को अकेले घूमते दिखाया था तब गांव में सन्नाटा पसरा होने के सीन फिल्माए गए थे।
बीलवाड़ी गांव में सन्नाटे के बीच सूनी सड़क पर अभिनेत्री राखी को अकेले घूमते दिखाया था तब गांव में सन्नाटा पसरा होने के सीन फिल्माए गए थे।

तब काल्पनिक डर दिखाकर घरों में बंद किया था, अब कोरोना ने वैसे हालात बना दिए
बीलवाड़ी गांव में ही रहने वाले रोहिताश सिंधू जिला परिषद के सदस्य रहे हैं। उन्होंने बताया कि करण-अर्जुन मूवी की शूटिंग के वक्त उनकी उम्र करीब 15 साल थी। करीब एक घंटे की फिल्म के सीन इसी गांव में फिल्माए गए थे। पुरानी यादें ताजा करते हुए रोहिताश बताते है कि तब शूटिंग देखने सैकड़ों लोग इकट्ठा हो जाते थे, लेकिन जब ग्रामीणों में ठाकुर का रोल निभा रहे अमरीश पुरी का खौफ दिखाना हो या फिर पुरानी हवेली में करण-अर्जुन के लौटकर आने का दृश्य।

आज भी लॉकडाउन की वजह से यही सड़क सूनी नजर आ रही है। गांव में कोई नजर नहीं आ रहा।
आज भी लॉकडाउन की वजह से यही सड़क सूनी नजर आ रही है। गांव में कोई नजर नहीं आ रहा।

काल्पनिक डर अब सच बना
तब गांव में सन्नाटा पसरा होने के सीन फिल्माए गए थे। तब शूटिंग वालों के कहने पर गांवों के लोग घरों में छिप गए थे। गांव में किसी भी बाहरी व्यक्ति को प्रवेश नहीं दिया जाता था। रोहिताश का कहना है कि 26 साल बाद ठीक वैसा ही माहौल अब गांव में नजर आ रहा है।

लॉकडाउन में बंद पड़ा गांव का पंचायत भवन
लॉकडाउन में बंद पड़ा गांव का पंचायत भवन

इसके पहले ऐसा कभी माहौल गांव में नहीं बना। तब महज एक काल्पनिक डर दिखाया गया था। लेकिन आज कोरोना की वजह से वैसे ही हालत बन गए हैं। लोग खुद ही घरों में बंद रहने को मजबूर है।

बीलवाड़ी गांव में लॉकडाउन में सूनी पड़ी सड़कें और बंद नजर आ रहे घरों के दरवाजे
बीलवाड़ी गांव में लॉकडाउन में सूनी पड़ी सड़कें और बंद नजर आ रहे घरों के दरवाजे

सुबह 11 बजे बंद हो जाती है सभी दुकानें, सख्ती से पालना करने पर पाई कोरोना से जीत रोहिताश सिंधू की माताजी लक्ष्मीदेवी गांव बीलवाड़ी की सरपंच हैं। इनका कहना है गांव में लॉकडाउन की सख्ती से पालना हो रही है। यहां सुबह 11 बजे बाद दुकानें बंद हो जाती है। रोहिताश का कहना है कि हमारे यहां कोरोना से एक भी मौत नहीं हुई है। अब तक करीब 25 लोग कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। यहां करीब चार हजार आबादी है, लेकिन सभी लोग सावधानी बरत रहे है।

कंटेंट सहयोग: मुकेश प्रजापति, वरिष्ठ संवाददाता (शाहपुरा)

खबरें और भी हैं...