पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Independent MLA Khandela Called Gehlot Only Congress; Singhvi Said There Is No Alternative To Vasundhara, Dilawar's Answer The Pride Of Those Who Boast Is Not Good

सियासी टकराव:निर्दलीय विधायक खंडेला ने गहलोत को ही कांग्रेस बताया; सिंघवी बोले- वसुंधरा का कोई विकल्प नहीं, दिलावर का जवाब- घमंड करने वालों का हश्र अच्छा नहीं

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थान में सियासी घमासान जारी है, पूरे दिन नेताओं के बीच वार और पलटवार का दौर चलता रहा। - Dainik Bhaskar
राजस्थान में सियासी घमासान जारी है, पूरे दिन नेताओं के बीच वार और पलटवार का दौर चलता रहा।
  • कांग्रेस-भाजपा में सियासी घमासान जारी, पूरे दिन नेताओं के बीच चलता रहा वार और पलटवार का दौर

राजस्थान में कांग्रेस और भाजपा में सियासी घमासान जारी। गुरुवार को भी सीकर में गहलोत और पायलट गुट के बीच टकराव हुआ। जबकि भाजपा में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के समर्थन में पिछले कई दिन से पूर्व विधायक और विधायक बयानबाजी कर रहे हैं।

पहली बार पार्टी की ओर से प्रदेश महामंत्री और रामगंजमंडी से विधायक मदन दिलावर ने उन पर बिना नाम लिए ही पलटवार किया है। कहा है कि यदि कोई ऐसा सोचता है कि अमुख व्यक्ति के बिना पार्टी नहीं चल सकती तो यह महज भ्रम है, घमंड पालने वालों का हश्र ठीक नहीं रहा।

आमने-सामने : पायलट पर खंडेला के कटाक्ष पर मील बोले- कांग्रेस से बगावत की, तब निष्ठा कहां थी

कांग्रेस से बगावत करके 2018 निर्दलीय विधायक बने महादेव सिंह ने कहा कि वे जन्मजात कांग्रेसी हैं। खंडेला ने कहा कि राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ही कांग्रेस है, जो गांधी परिवार के सबसे विश्वसनीय व्यक्ति हैं। राज्य की जनता भी उन्हें ही चाहती है।

आलाकमान की ओर से सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने पर भी गहलोत के समर्थन में रहने के सवाल पर उन्होंने कहा कि ये संभव ही नहीं है। कांग्रेस आलाकमान सचिन पायलट को कभी मुख्यमंत्री नहीं बना सकता। गहलोत ही पांच साल तक मुख्यमंत्री पद पर रहेंगे।

पायलट को नसीहत देने से पहले अपने गिरेबां में झांकें: सुभाष मील
महादेव खंडेला जी उस समय आपकी निष्ठा कहां चली गई थी जब आपने कांग्रेस के खिलाफ चुनाव लड़ा था। पायलट काे नसीहत देने से पहले खुद अपनी गिरेबां में झांकने की जरूरत है। कांग्रेस ने आपकाे और आपके पुत्र तक काे टिकट दिए थे। उसके बावजूद आपने कांग्रेस के खिलाफ बिगुल फूंका।

सिंघवी ने कहा- वसुंधरा जाति-क्षेत्र विशेष की नेता नहीं, बीजेपी में बहुमत की सरकार वे अपने दम पर लाई थीं

छबड़ा विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने कहा कि पूर्व सीएम वसुंधरा राजे को किनारे करने की चर्चाएं अफवाह है। वसुंधरा देश की बड़ी नेता हैं। प्रदेश में जितनी लोकप्रियता राजे की है उतनी किसी दूसरे नेता की नहीं है। उनका कोई विकल्प नहीं है।

वसुंधरा राजे को प्रदेश की 36 कौम का समान रूप से समर्थन प्राप्त है। वे किसी जाति विशेष या क्षेत्र विशेष की नेता नहीं हैं। राजे में वोटों को 15 से 20 फीसदी स्विंग करने की क्षमता है। इसी कारण प्रदेश में पहली बार पूर्ण बहुमत की सरकार उनके नेतृत्व में ही बनी।

कोई यह भ्रम न पाले कि हमारे बिना पार्टी नहीं चल सकती : मदन दिलावर
वसुंधरा के समर्थन में बयानों के बाद प्रदेश महामंत्री मदन दिलावर ने पलटवार करते हुए कहा कि संगठन सर्वोपरि है। कुछ विधायक कह रहे हैं कि अमुक व्यक्ति के बिना पार्टी नहीं चल सकती, अमुक व्यक्ति ही पार्टी है। इनका कथन पार्टी की विचारधारा से मेल नहीं खाता। कोई यह भ्रम न पाले कि हमारे बिना पार्टी नहीं चल सकती। घमंड पालने वालों का हश्र अच्छा नहीं हुआ।

किरोड़ी मीणा का तंज: इंदिरा इज इंडिया का नारा लगने के बाद कांग्रेस बुरी तरह हारी थी
राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा ने महादेव सिंह खंडेला के बयान पर कहा कि एक बार इंदिरा गांधी के लिए भी ये कहा गया था कि इंदिरा इज इंडिया और इंडिया इज इंदिरा। उसके बाद वह चुनाव हार गई थी। अब अशाेक गहलोत के लिए ये भी कहा जा रहा है कि वहीं कांग्रेस है तो मैं ये याद दिलाना चाहता हूं कि 2013 में अशाेक गहलाेत के चेहरे पर सिर्फ 21 सीट ही मिली थी।

मीणा ने कहा कि सीएम काे ताे उनके विधायकाें ने बंधक बना रखा है। उन्होंने वसुंधरा राजे के लिए कहा कि काेई उनकी अालाेचना नहीं कर रहा है। हालांकि वसुंधरा समर्थकाें के बयान पर कहा कि पार्टी व्यक्तिगत नहीं है। पार्टी एक विचार है। वसुंधरा राजे जनाधार वाली नेता है। प्रदेश में दाे बार सीएम और कई महत्वपूर्ण पद पर रह चुकी है।

खबरें और भी हैं...