IPS दिनेश एमएन के नाम से ठगी की कोशिश:वॉट्सऐप पर फोटो लगाकर मांगे रुपए, अफसर बोले- सावधान रहे

जयपुर6 महीने पहले

राजस्थान पुलिस के सीनियर आईपीएस दिनेश एमएन का वॉट्सऐप पर फोटो लगाकर पैसे मांगे जा रहे हैं। इस की जानकारी जब दिनेश एमएन को मिली को उन्होंने एसओजी और जयपुर कमिश्नरेट की साइबर सेल को जानकारी दी। साथ ही वह नम्बर भी दिया जिससे वॉट्सऐप कॉल और मैसेज आ रहे है। हैरानी की बात यह कि इतना सब कुछ होने के बाद भी यह नम्बर चालू हैं।

एडीजी एसीबी दिनेश एमएन ने घटना की जानकारी मीडिया को दी कि अगर किसी व्यक्ति के पास उनके नाम से कॉल या मैसेज कर के पैसा मांगा जा रहा है तो वह पुलिस को सूचना दे। साथ ही इस तरह की किसी भी कॉल या मैसेज पर विश्वास नहीं करें। जांच एजेंसिया नम्बर के आधार पर जांच करना शुरू कर चुकी है।

ट्सऐप पर मैसेज करने वाला केवल उन लोगों को मैसेज कर रहा है जो दिनेश एमएन को जानते हैं।
ट्सऐप पर मैसेज करने वाला केवल उन लोगों को मैसेज कर रहा है जो दिनेश एमएन को जानते हैं।

मुख्य सचिव सहित कई आईएएस और आईपीएस के नाम से हो रही ठगी
हालही में मुख्य सचिव ऊषा शर्मा की फोटो वॉट्सऐप पर लगाकर सचिवालय के अधिकारियों को मैसेज भेजा गया था। जिस में पैसों की डिमांड की गई थी। इसके बाद अशोक नगर थाने में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। हालांकि इस मामले में भी अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई।

लगभग एक माह पहले डीजी एसीबी बीएल सोनी के नाम से भी इसी तरह के बल्क मैसेज किए गए। सोनी को जानकारी मिलने पर उन्होंने भी एसओजी में मुकदमा दर्ज कराया। ऐसा ही एक मामला आईएएस अखिल अरोड़ा की फोटो लगाकर वॉट्सऐप पर मैसेज कर पैसा और गिफ्ट मांगने का है। इस बार एडीजी एसीबी दिनेश एमएन के नाम से पैसा मांगा जा रहा है।

एजेंसिया नम्बर के आधार पर जांच करना शुरू कर चुकी है।
एजेंसिया नम्बर के आधार पर जांच करना शुरू कर चुकी है।

जानने वालों के पास जा रहा मैसेज
बल्क में वॉट्सऐप पर मैसेज करने वाला केवल उन लोगों को मैसेज कर रहा है जो दिनेश एमएन को जानते हैं। जिस में उनके स्टाफ के लोग,पुलिस अधिकारी और कर्मचारी शामिल हैं। अब तक जिन भी अधिकारियों के नाम पर यह ठगी हुई उन्होंने मुकदमा दर्ज कराया, लेकिन आरोपी पकड़ा नहीं गया। देखना होगा की इस बार क्या आरोपी पकड़ा जाता है।