• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Inside The Meeting Of Congress MLAs officials, Shouting Slogans In Support Of Pilot, Sloganeering Stopped At The Behest Of The Pro Pilot Leader

पायलट समर्थकों की नारेबाजी:सचिन के साथ वेणु-माकन विधायकों-पदाधिकारियों की बैठक ले रहे थे, बाहर पायलट के समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की; मुश्किल से चुप कराया

जयपुर3 महीने पहले
PCC के बाहर सचिन पायलट के समर्थन में नारेबाजी करते समर्थक।

कांग्रेस में जारी खींचतान को खत्म करने के लिए बुलाई गई विधायकों और पदाधिकारियों की बैठक के दौरान प्रदेश कांग्रेस कार्यालय के बाहर जमकर हंगामा हुआ। सचिन पायलट के समर्थकों ने उनके समर्थन में जमकर नारेबाजी की। जब इसकी जानकारी बैठक में मौजूद सचिन पायलट को दी गई तो उन्होंने अपने समर्थक नेताओं को बाहर भेजकर कार्यकर्ताओं को शांत कराया। हंगामे के समय गहलोत मीटिंग में नहीं थे।

राजस्थान कांग्रेस में अंदरूनी खींचतान मिटाने के लिए कांग्रेस हाईकमान ने मोर्चा संभाल लिया है। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में विधायकों और पार्टी पदाधिकारियों की बैठक बुलाकर इसी का संकेत दिया गया है। संगठन महासचिव केसी वेणुगापेाल और प्रभारी अजय माकन के जयपुर आकर मुख्यमंत्री से मिलने के बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय (PCC) में विधायकों और पदाधिकारियों के साथ साझा बैठक की। PCC के अंदर कांग्रेस की साझा बैठक के बीच बाहर सचिन पायलट समर्थकों ने समर्थन में नारेबाजी शुरू कर दी। कुछ देर नारेबाजी के बाद पायलट समर्थक नेताओं ने कार्यकर्ताओं को समझाया, जिसके बाद नारेबाजी बंद हुई।

सचिन पायलट समर्थक कार्यकर्ता सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक मुखर होकर अपने नेता का समर्थन करते हैंं। अंदर कांग्रेस की अहम बैठक के बीच बाहर सचिन पायलट के समर्थन में नारेबाजी भी इसी का संकेत माना जा रहा है। दिसंबर 2018 में जब चुनाव परिणाम के बाद मुख्यमंत्री चयन पर मंथन चल रहा था, उस वक्त भी PCC और सचिन पायलट के घर के बाहर पायलट समर्थकों ने तीन दिन तक नारेबाजी और प्रदर्शन किया था।

सचिन पायलट समर्थक विधायक लंबे समय से सत्ता संगठन में भागीदारी की मांग कर रहे हैें। पिछले साल पायलट खेमे की बगावत और उसके बाद हुई सुलह के वक्त तय हुए मुद्दे अब भी अनसुलझे हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रिमंडल फेरबदल का फैसला हाईकमान पर छोड़ दिया है।

खबरें और भी हैं...