पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विभाग की लेटलतीफी:कोविड से मौतों का दावा पेश करने के लिए 6 माह बाद भी नाेडल अफसर तक नहीं लगे

जयपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकार! मौत का दर्द कम नहीं कर सकते, पर मदद का हाथ तो न समेटें

राजस्थान सरकार ने ऐलान किया था कि राज्य कर्मचारियों और संविदा कर्मियों की कोरोना से मौत होेने पर 20 लाख रु. एक्सग्रेशिया और 50 लाख रु. की अनुग्रह राशि देंगे। ये राशि देना तो दूर, अब तक कई विभागों ने कोविड से मौतों का दावा पेश करने के लिए नोडल अफसर तक नहीं लगाए हैं। जबकि स्वास्थ्य विभाग ने 1 दिसंबर 2020 को ही इस बाबत आदेश जारी किया था। उसमें कहा गया था कि सभी विभाग कोविड ड्यूटी में मृतक राज्य कर्मियों के परिजनों को अनुग्रह राशि का भुगतान सुनिश्चित करने के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त करेंगे।

भास्कर की खबर के बाद जागा शिक्षा विभाग जिलों से पूछा- कोरोना से कितने शिक्षकों की मौत हुई

अवकाश के बावजूद रविवार को शिक्षा निदेशालय ने कोविड से शिक्षकों की मौतों को लेकर वीसी की। निदेशक सौरभ स्वामी ने जिला अधिकारियों को ऐसे शिक्षकों की रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए। साथ ही अनुकंपा नियुक्तियों का भी प्रस्ताव मांगा। टीका न लगवाने वाले शिक्षकों की सूची भी मांगी है, ताकि उनके लिए अलग कैंप लगवाएं।

किसी चिकित्सा कर्मचारी को मुआवजा नहीं मिला। मेडिकल टिकट में ह्रदयाघात (कोरोना) लिखने से कोरोना डेथ नहीं मानते। परिजन दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं। नोडल अफसर नियुक्त हों।
- शशिकान्त शर्मा, प्रदेश संयोजक राजस्थान नर्सेज एसोसिएशन

खबरें और भी हैं...