जयपुर में कोरोना का कहर / 4 दिन बाद जयपुर का 9वां पॉजिटिव केस सामने आया, ओमान से भारत आया था व्यक्ति, रात 12 बजे से एक किलोमीटर इलाके में कर्फ्यू

जयपुर के रामगंज में कोरोना पोजिटिव मिलने पर  पहुंची मेडिकल टीम। जयपुर के रामगंज में कोरोना पोजिटिव मिलने पर पहुंची मेडिकल टीम।
रामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दिया रामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दिया
रामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दिया रामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दिया
X
जयपुर के रामगंज में कोरोना पोजिटिव मिलने पर  पहुंची मेडिकल टीम।जयपुर के रामगंज में कोरोना पोजिटिव मिलने पर पहुंची मेडिकल टीम।
रामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दियारामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दिया
रामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दियारामगंज में कोरोना पोजिटिव केस सामने आने पर इलाके को सील कर दिया

  • खांसी बुखार के लक्षण मिलने के बाद 25 मार्च को एसएमएस अस्पताल में भर्ती करवाया गया
  • कोरोना पीड़ित की पत्नी व बच्चों से सहित करीब 32 लोगों का लाइसोलेट वार्ड में भेजा 
  • पुलिस की पहल के बाद तमाम कंपनियां घर-घर जाकर खाने के सामान की डिलेवरी देंगी

दैनिक भास्कर

Mar 27, 2020, 12:43 AM IST

जयपुर. 21 दिन के लॉकडाउन के बीच गुरुवार को जयपुर का एक नया कोरोना पॉजिटिव केस सामने आया। जिसके बाद गुरुवार रात 12 बजे से रामगंज इलाके में रहमानिया मस्जिद से एक किलोमीटर के दायरे में कर्फ्यू लगा दिया गया। इस संबंध में डीसीपी नार्थ डॉ. राजीव पचार ने आदेश जारी किए। रामगंज में पोजिटिव केस सामने आने के बाद जयपुर में संक्रमित लोगों का आंकड़ा 9 पहुंच गया। रामगंज से पीड़ित व्यक्ति की पत्नी व बच्चों सहित करीब 32 जनों को एक बस में बैठाकर आईसोलेट करने के लिए एसएमएस और प्रताप नगर के आरयूएचएस अस्पताल भेज दिया गया।

वहीं गुरुवार को राज्य में कुल 43 पहुंच गया है। इनमें भीलवाड़ा के दो कोरोना पोजिटिव की गुरुवार को मौत हो गई। वहीं, जयपुर में करीब 4 दिन बाद रामगंज के रहने वाले व्यक्ति में कोरोना का नया केस सामने आया। इससे पहले शनिवार को जयपुर के एक युवक में कोरोना का आखिरी केस शनिवार को सामने आय़ा था। जयपुर में गुरुवार को जो नया केस मिला है। वह रामगंज में रहने वाला है। जो कि 12 मार्च को ओमान से भारत आया था। खांसी बुखार के लक्षण मिलने के बाद 25 मार्च को एसएमएस अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। जिसकी रिपोर्ट आने के बाद आइसोलेशन में शिफ्ट गिया गया। 

रामगंज में आवाजाही बंद

रामगंज में एक केस सामने आने के बाद यहां आवाजाही बंद कर दी गई है। अब बड़ी चौपड़ से रामगंज की तरफ रास्ता बंद कर दिया गया है। वहीं इंटरनेट बंद की अफवाह फैलाने वाले एक व्यक्ति के खिलाफ ज्योतिनगर थाने में मुकदमा भी दर्ज कर लिया गया है। यहां एडिश्नल डीसीपी नॉर्थ सुमित गुप्ता स्थिति का जायजा ले रहे हैं। पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव, अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा व डीसीपी डॉ. राजीव पचार सहित जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे। तब करीब तीन घंटे चली मीटिंग के बाद देर रात 12 बजे कर्फ्यू की घोषणा कर दी गई।

24 घंटे होगी जरूरत के सामान की होम डिलेवरी
पुलिस की पहल के बाद तमाम कंपनियां घर-घर जाकर खाने के सामान की डिलेवरी देंगी। बताया जा रहा है कि 24 घंटे ये सुविधा उप्लब्ध करवाई जाएगी। जिससे बाजारों में भीड़ नहीं लगे। इसके साथ ठेलों के माध्यम से भी सब्जियां पहुंचाई जाएगी। वहीं गुरुवार को भी जयुपर के परकोटे इलाके में शहर के अन्य हिस्सों की तुलना में लॉकडाउन का असर कम नजर आया। 

गली मोहल्ले किए जा रहे सैनेटाइज
जयपुर की गली , मोहल्लों और सड़कों को भी सैनेटाइज किया जा रहा है। नगर निगम की माउंटिंग मशीन और दमकल की गाड़ियों के जरिए सैनेटाइज की प्रोसेस की जा रही है। वहीं बाजार में खड़ी बाइकों की भी पुलिस ने हवा निकाल दी। बुधवार को हवा महल समेत कई पर्यटन स्थल भी सैनेटाइज किए गए।

चौमूं: बूंदाबांदी के बावजूद लोग खरीदारी करने पहुंचे
चौमूं के आसपास सुबह रुक-रुककर बूंदाबांदी होती रही। इसके बावजूद लोग खाने का सामान लेने बाजार पहुंचे। यहां कुछ दुकानदारों ने लोगों को दूर रखने के लिए दुकान के बाहर निशान बना दिया। लोग भी उन्ही गोल निशानों में खड़े होकर खरीदारी करते नजर आए।

भरतपुर: पुलिस ने वाहन रोककर लोगों को पैदल सामान लाने भेजा
भरतपुर में 9:00 से 12:00 के बीच राशन का सामान लेने निकले लोगों के स्कूटर मोटरसाइकिल पुलिस ने थाने में रखवा लिए। जिसके बाद सभी को पैदल ही सामान लेकर आने के लिए कहा गया। जब लोग सामान लेकर वापस आए तो उनके स्कूटर मोटरसाइकिल वापस नहीं लौटाए गए। जिसके कारण लोग थाने के बाहर परेशान खड़े रहे।

नियम तोड़े तो छह महीने तक की सजा
लॉकडाउन का पालन नहीं करने वालों पर महामारी रोग कानून-1897 के उल्लंघन का केस दर्ज हो रहा है। यह आईपीसी की धारा-188 के तहत दंडनीय अपराध है। इसे तोड़ने वालों को 6 महीने तक की जेल या एक हजार रुपए जुर्माना या दोनों सजाएं साथ हो सकती हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना