जयपुर के हेरिटेज होटल की जमीन का विवाद:सेंट्रल पार्क को दी गई लक्ष्मी विलास होटल की जमीन पर महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट खोलने की तैयारी, संघर्ष समिति ने सरकार को भेजा नोटिस

जयपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
होटल लक्ष्मी विलास (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
होटल लक्ष्मी विलास (फाइल फोटो)

जयपुर के सेंट्रल पार्क में प्रस्तावित महात्मा गांधी दर्शन म्यूजियम और महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ गवर्नेन्स एवं सोशल साइंसेज फिर विवादों में है। यह हेरिटेज होटल लक्ष्मी विलास और कनक भवन की जमीन पर बनना है। इस मामले में संघर्ष समिति के एडवोकेट विमल चौधरी की ओर से मुख्य सचिव निरंजन आर्य, यूडीएच के सचिव कुंजी लाल मीणा और जेडीए कमीश्नर गौरव गोयल के नाम से यह नोटिस जारी किया गया है। इन संपत्तियों के इंस्टीट्यूशनल उपयोग पर आपत्ति जताते हुए इसे राजस्थान हाईकोर्ट के आदेशों की अवेहलना बताया गया है।

नोटिस में बताया कि मई 2017 में रिट पिटिशन पर सुनवाई के बाद राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को आदेश दिया था कि होटल और कनक भवन की जमीन का कब्जा लें। भविष्य में इस जमीन का उपयोग केवल पार्क या गार्डन के लिए ही किया जाए। अन्य उपयोग में नहीं। यह आदेश संजय त्यागी की ओर से लगाई याचिका पर सुनवाई के बाद दिया था। इसी आदेश के बाद जयपुर जेडीए ने मई 2017 में होटल और भवन की जमीन का कब्जा लिया था।

राज्य सरकार अब यहां टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज और महाराष्ट्र इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलोजी स्कूल ऑफ साइंसेज ऑफ गवर्नेंस की तर्ज पर महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ गवर्नेंस एवं सोशल साइंसेज बनाने जा रही है। इसके लिए बाकायदा होटल के भवन को तोड़कर यहां इंस्टीट्यूट बनाने की योजना तैयार की जा रही है, जो हाईकोर्ट के आदेशों के खिलाफ है।

जमीन का भू-उपयोग परिवर्तन अब तक नहीं
पार्क की जमीन पर भू-उपयोग परिवर्तन को लेकर जेडीए में अभी कार्यवाही चल रही है। जेडीए के चीफ टाउन प्लानर विनय कुमार ने बताया कि लैंडयूज चेंज के मामले में अब तक उनके पास कोई फाइल परीक्षण के लिए नहीं आई है। फाइल आने के बाद ही आगे बता पाऊंगा। इंस्टीट्यूट खोलने के लिए जेडीए को यहां की जमीन का लैंडयूज बदलना होगा।

जेडीए के मास्टर प्लान 2025 में लक्ष्मी विलास होटल की जमीन को कॉमर्शियल उपयोग का दर्शा रखा है, जबकि कनक भवन की जमीन पार्क उपयोग की है। जेडीए को हाईकोर्ट ने स्पष्ट आदेश दे रखे हैं कि होटल की जमीन का उपयोग भविष्य में कॉमर्शियल उपयोग न करके केवल पार्क या गार्डन के लिए ही किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...