जयपुर जेडीए की सीकर रोड पर कार्रवाई:33 बीघा जमीन पर खड़ी बाजरे की फसल को जेसीबी से रौंदा, 20 दिन पहले दिया था जमीन खाली करने का नोटिस

जयपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर में सीकर रोड जाहोता में सरकारी जमीन पर कब्जा करके की खेती को जेसीबी से हटाते हुए। - Dainik Bhaskar
जयपुर में सीकर रोड जाहोता में सरकारी जमीन पर कब्जा करके की खेती को जेसीबी से हटाते हुए।

जयपुर विकास प्राधिकरण (जेडीए) ने जयपुर में सीकर रोड स्थित जाहोता के पास एक बड़ी कार्रवाई की है। यहां जेडीए की प्रवर्तन टीम ने 33 बीघा जमीन पर खड़ी बाजरे की फसल पर जेसीबी चलाकर उसे खाली करवाया और जमीन का कब्जा लिया। बताया जा रहा है कि ये जमीन जेडीए की है और इस पर आस-पास के किसानों ने कब्जा करके खेती कर रखी थी। जमीन को खाली करने के लिए जेडीए ने 20 दिन पहले नोटिस भी दिया था।

जेडीए के मुख्य नियंत्रक प्रवर्तन रघुवीर सैनी ने बताया कि जोन 12 क्षेत्र में सीकर रोड़ स्थित ग्राम जाहोता तहसील आमेर में ढाणी प्रतेहपुरा में यह जमीन खाली करवाई। यहां खसरा न. 959, 1232, 1233 की कुल 33 बीघा जमीन जेडीए स्वामित्व की है, जिस पर काश्तकारों लम्बे समय से कब्जा कर रखा था। इस जमीन पर कब्जा खाली करने के लिए जेडीए ने 15 जुलाई को लोगों को नोटिस भी जारी किए, लेकिन बावजूद उसके जमीन खाली नहीं की। आज जब टीम मौके पर आई तो जेसीबी से जमीन पर उगी बाजरे की खेती को नष्ट करवाया और वहां बने छोटे-मोटे निर्माण को हटाकर जमीन का कब्जा लिया। उन्होंने बताया कि इस जमीन की मार्केट वैल्यू करीब 13 करोड़ रुपए है।

पीएचईडी को आवंटित जमीन से भी खाली करवाया कब्जा
इसी तरह जेडीए की टीम ने जोन 8 क्षेत्र में मानसरोवर के पास नारायण विहार बी योजना में पी.एच.ई.डी. को आवंटित 1000 वर्गगज जमीन पर हुए कब्जे को भी खाली करवाया। इस जमीन पर कुछ लोगों ने और आस-पास के काश्तकार ने बाउण्ड्रीवाल, तारबंदी करके सब्जियां उगा रखी थी, जिसे हटवाया और जमीन को खाली करवाया। ये जमीन पिछले दिनों जल स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग (पीएचईडी) को वॉटर टैंक बनाने और ऑफिस खोलने के लिए जमीन आवंटित की थी।

खबरें और भी हैं...