जयपुर में अब तीन छात्राएं पानी की टंकी पर चढ़ीं:48 घंटे पहले से टंकी पर चढ़े छात्र नेता बोले- आत्मदाह कर लेंगे

जयपुर4 महीने पहले

जयपुर में 48 घंटे से टंकी पर चढ़े छात्र नेताओं को पुलिस अभी उतार नहीं पाई है कि सोमवार दोपहर करीब डेढ़ बजे महारानी कॉलेज की 3 छात्राएं भी टंकी पर चढ़ गईं। छात्र नेता छात्रसंघ चुनाव की तारीख आगे बढ़ाने की मांग कर रहे हैं।हालांकि सरकार पहले ही छात्रसंघ चुनाव की तिथि आगे बढ़ाने से इनकार कर चुकी है। दूसरी ओर, छात्राओं ने कॉलेज प्रबंधन के सामने 5 मांगें रखी हैं। इनमें छात्रा शिक्षा निशुल्क किया जाए, यूजी पीजी में 100 फीसदी प्रवेश हो, कॉलेज में निशुल्क ई मित्र व्यवस्था रहे, ओपन जिम खोला जाए और बंद पड़े बैंक को चालू करने जैसी मांगें शामिल हैं।

टंकी पर चढ़ी तीनों छात्राएं शाम करीब 7 बजे नीचे उतरीं। सिविल डिफेंस, प्रशासन और पुलिस की कोशिशों के बाद तीनों को सुरक्षित नीचे उतारा गया।
टंकी पर चढ़ी तीनों छात्राएं शाम करीब 7 बजे नीचे उतरीं। सिविल डिफेंस, प्रशासन और पुलिस की कोशिशों के बाद तीनों को सुरक्षित नीचे उतारा गया।

तीन छात्र नेता राजस्थान विश्वविद्यालय स्थित पानी की टंकी पर चढ़ कर विरोध जता रहे हैं। उन्होंने स्पष्ट किया है कि मांगों को नहीं माना गया तो वह गलत कदम भी उठा सकते हैं। तीनों छात्राएं गोखले हॉस्टल के सामने स्थित पानी की टंकी पर चढ़ी थीं। इनमें कोमल मोहनपुरिया, गुंजन शर्मा, कोमल वर्मा शामिल थीं। छात्राओं ने चेतावनी दी थी कि मांगों को नहीं मांगा तो वह आंदोलन को और उग्र रूप दे सकती हैं। छात्राओं ने बताया कि उनकी मुख्य मांग छात्रा शिक्षा निशुल्क करने की है। महारानी कॉलेज की वाइस प्रिंसिपल चंद्र सेन के आश्वासन के बाद शाम करीब सात बजे तीनों छात्राएं टंकी से उतर गईं। पुलिस ने इन्हें शांतिभंग में गिरफ्तार भी किया था। बाद में रिहा कर दिया गया।

टंकी पर चढ़ीं कोमल मोहनपुरिया, गुंजन शर्मा, कोमल वर्मा। छात्राओं ने चेतावनी दी है कि मांगों को नहीं मांगा तो वह आंदोलन को और उग्र रूप दे सकती हैं। छात्राओं ने बताया कि उनकी मुख्य मांग छात्रा शिक्षा निशुल्क करने की है।
टंकी पर चढ़ीं कोमल मोहनपुरिया, गुंजन शर्मा, कोमल वर्मा। छात्राओं ने चेतावनी दी है कि मांगों को नहीं मांगा तो वह आंदोलन को और उग्र रूप दे सकती हैं। छात्राओं ने बताया कि उनकी मुख्य मांग छात्रा शिक्षा निशुल्क करने की है।

लिक्विड लेकर कर रहे आंदोलन
छात्र नेता नरेंद्र यादव, मनु दाधीच और राहुल मीणा दो दिन पहले सवा बजे पानी की टंकी पर चढ़े थे। टंकी पर चढ़े छात्र नेता मनु दाधीच और नरेन्द्र यादव ने बताया कि वह तीन फीट चौड़ी जगह पर 48 घंटे से बैठे हैं। प्रशासन की ओर से उन्हें केवल आश्वासन दिया जा रहा है। पिछले दो दिन से लिक्विड लेकर वह आंदोलन कर रहे हैं। यहां पर शौच की कोई व्यवस्था नहीं है। अगर प्रशासन ने उनकी बात नहीं मानी तो वह गलत कदम भी उठा सकते हैं। इसकी जिम्मेदारी राजस्थान सरकार, राजस्थान विश्वविद्यालय प्रशासन की होगी।

नरेंद्र यादव ने कहा कि जब तक सरकार 100% एडमिशन की प्रक्रिया पूरी नहीं कर लेती, छात्रसंघ चुनाव नहीं होने चाहिए। ऐसा करने से लोकतंत्र के महापर्व में छात्र शामिल नहीं हो सकेंगे। अगर सरकार ने फिर भी ऐसा किया तो हम आत्मदाह कर लेंगे।

पानी की टंकी पर मौजूद छात्र नेता नरेंद्र यादव, मनु दाधीच और राहुल मीणा। नरेंद्र यादव ने कहा कि जब तक सरकार 100% एडमिशन की प्रक्रिया पूरी नहीं कर लेती, छात्रसंघ चुनाव नहीं होने चाहिए। ऐसा करने से लोकतंत्र के महापर्व में छात्र शामिल नहीं हो सकेंगे। अगर सरकार ने फिर भी ऐसा किया तो हम आत्मदाह कर लेंगे।
पानी की टंकी पर मौजूद छात्र नेता नरेंद्र यादव, मनु दाधीच और राहुल मीणा। नरेंद्र यादव ने कहा कि जब तक सरकार 100% एडमिशन की प्रक्रिया पूरी नहीं कर लेती, छात्रसंघ चुनाव नहीं होने चाहिए। ऐसा करने से लोकतंत्र के महापर्व में छात्र शामिल नहीं हो सकेंगे। अगर सरकार ने फिर भी ऐसा किया तो हम आत्मदाह कर लेंगे।

राजस्थान में छात्रसंघ चुनाव 26 अगस्त को होने हैं। 27 अगस्त को मतगणना होगी। गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव ने छात्रसंघ चुनाव की तिथि आगे बढ़ाने से इनकार किया है। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में हाल ही में हुई जनसुनवाई के बाद मीडिया से बात करते हुए राजेंद्र यादव ने कहा था कि प्रदेश में छात्रसंघ चुनाव तय समय पर ही होंगे।

छात्र संगठनों की मांग- चुनाव की डेट आगे बढ़े
कांग्रेस और भाजपा से जुड़े छात्र संगठन चाहते हैं कि चुनाव को लेकर तिथि आगे बढ़ाई जाए। संगठनों का दावा है कि एडमिशन की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई हैं। ऐसे में छात्र संघ चुनाव की तिथि आगे बढ़ाई जाए। प्रदेश के विभिन्न जिलों में भी तिथि आगे बढ़ाने की मांग जोर पकड़ती जा रही है।

ये भी पढ़ें...

पेट्रोल की बोतल लेकर पानी की टंकी ​पर चढ़े छात्र:गले में फंदा लगाकर रेलिंग से बांधा, बोले- मांगे नहीं मानी तो करेंगे सुसाइड