पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Jaipur Municipal Corporation Now Has Only 18 Thousand Liters Of Sodium Hypochlorite Left, 50 Liters Spent In Sanitizing A Body

कैसे रुकेगा कोरोना संक्रमण:जयपुर नगर निगम के पास अब सिर्फ 18 हजार लीटर सोडियम हाइपोक्लोराइट बचा, एक शव को सैनिटाइज करने में 50 लीटर खर्च

जयपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर नगर निगम, (फाइल फोटो)
  • शवों, घरों व क्वारेंटाइन सेंटर्स को कर रहे सैनिटाइज
  • अब सिर्फ 360 शवों को सैनिटाइज करने का केमिकल बचा

प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या प्रतिदिन एक हजार से ज्यादा होने लगी है। अकेले जयपुर में आंकड़ा 90 तक पहुंच चुका है। लेकिन निगम के अफसरों का दायरा अब क्वारेंटाइन सेंटर और मरीजों के घरों तक ही सीमित रह गया। नगर निगम के पास 18 हजार लीटर सोडियम हाइपोक्लोराइट है। इस केमिकल का छिड़काव ज्यादातर कोराेना संक्रमित मरीज की मौत हो जाने के बाद उसके शव को सेनेटाइज करने के लिए ही किया जा रहा है।

एक शव पर निगम के अफसर 50 लीटर केमिकल का छिड़काव कर रहे है। ताकि दाह संस्कार के दौरान निगम कर्मी संक्रमित नहीं हाे। ऐसे में निगम के पास 360 शवों को सेनेटाइज करने के लिए ही केमिकल रखा हुआ है। जबकि पहले जयपुर शहर में लॉक डाउन लगने के बाद पांच मरीज मिलने पर ही पूरी कॉलोनी ही नहीं, जबकि शहर में छिड़काव किया जा रहा था। ऐसे में अफसरों की कार्यशैली पर सवाल उठने लगे है।

लॉकडाउन खुलने से पहले किया था सवा लाख लीटर का छिड़काव
23 मार्च को लॉक डाउन लगा दिया गया था। 28 मार्च से निगम ने शहर में केमिकल का छिड़काव करना शुरू कर दिया। रोज 40 दमकलों से केमिकल का छिड़काव किया जा रहा था। लॉकडाउन खुलने तक निगम के अफसर करीब सवा लाख लीटर सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव किया जा चुका था। लेकिन लॉकडाउन खुलने के बाद निगम ने छिड़काव की व्यवस्था बंद कर दी और महज क्वारेंटाइन सेंटर व मरीज के घर के आस-पास ही छिड़काव किया जा रहा है।

^शव को सैनिटाइज किया जा रहा है। साथ में ही क्वारेंटाइन सेंटर व मरीज के घर पर भी छिड़काव कर रहे है। छिड़काव करना बंद नहीं किया है। जहां शिकायत मिल रही है, वहां भी छिड़काव कर रहे है। - सोनिया अग्रवाल, हेल्थ ऑफिसर, नगर निगम

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपका कोई सपना साकार होने वाला है। इसलिए अपने कार्य पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित रखें। कहीं पूंजी निवेश करना फायदेमंद साबित होगा। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता संबंधी परीक्षा में उचित परिणाम ह...

और पढ़ें