पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जयपुर नगर निगम ग्रेटर आयुक्त से मारपीट का मामला:जेल गए तीनों निलंबित पार्षदों को अपर जिला एवं सेशन कोर्ट से मिली जमानत; सौम्या गुर्जर की जमानत को आधार बनाकर लगाई अर्जी

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर निगम ग्रेटर जयपुर में आयुक्त संग मारपीट के मामले में जेल गए तीनों निलंबित पार्षदों को आज कोर्ट से जमानत मिल गई। अपर जिला एवं सेशन कोर्ट ने आज फैसला सुनाते हुए तीनों को 50-50 हजार के जमानत नामे और 1 लाख रुपए के मुचलके पर जमानत दी है। इस याचिका में सौम्या गुर्जर को मिली जमानत को आधार बनाया गया और कहा कि जब निचली कोर्ट ने FIR में उल्लेखित मुख्य षडयंत्रकर्ता को जमनात दे दी तो इन्हे जमानत क्यों नहीं मिल सकती।

इस मामले में बहस एडवोकेट सुरेन्द्र सिंह नरूका और सतीश शर्मा ने की। नरूका ने बताया कि पारस जैन, अजय चौहान और रामकिशोर प्रजापत ने 19 जुलाई को निचली कोर्ट में सरेंडर किया था। जहां उन्हें ज्यूडिशरी कस्टडी में भेज दिया था। 20 जुलाई को तीनों की जमानत के लिए अपर जिला एवं सेशन कोर्ट संख्या 3 में अर्जी लगाई थी। जहां न्यायाधीश सुमन सहारण ने याचिका पर सुनवाई के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, जिसे आज सुनाते हुए तीनों को जमानत पर छोड़ दिया।

एडवोकेट नरूका ने बताया कि बहस में हमने बताया कि जो मुकदमा इन तीनों पर दर्ज किया गया है वह राजनीति द्वैषता के कारण किया गया, जबकि ये तीनों नगर पालिका की धारा 66 के अनुरूप लोक सेवक है। इसी के तहत अपने कर्त्तव्य की पालना कर रहे थे। उन्होंने बताया कि हमने कोर्ट के समक्ष यह भी मुद्दा रखा कि निलंबित मेयर को इस FIR में मुख्य षडयंत्र कर्ता बताया है, लेकिन उन्हें ही निचली कोर्ट जमानत दे ही दी है और अभियुक्तों के खिलाफ पुलिस ने जो जांच की है वह भी पूरी हो चुकी है। ऐसे में इस मामले में अब इन्हे भी जमानत दी जानी चाहिए।

ये है मामला

आपको बता दें कि एसीएमएम कोर्ट 8 ने ग्रेटर नगर निगम जयपुर के कमिश्नर से मारपीट और अभद्रता के मामले में ज्योति नगर थाना पुलिस की ओर से निलंबित आरोपी पार्षदों पारस जैन, अजय सिंह, शंकर शर्मा और रामकिशोर प्रजापत के खिलाफ पेश चालान पर प्रसंज्ञान लिया था। इसके बाद कोर्ट ने चारों आरोपी पार्षदों के खिलाफ एक जुलाई को गिरफ्तारी वारंट जारी किए थे। गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद से ये लोग फरार चल रहे थे। 19 जुलाई को तीनों ने अपने अधिवक्ताओं की मौजूदगी में कोर्ट में सरेंडर किया था।

खबरें और भी हैं...