मेयर सौम्या कल पेश कर सकती है जवाब:सरकार ने 25 नवंबर तक का दिया है समय; अगले सप्ताह हो सकती है पद से बर्खास्त

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मैयर सौम्या को सरकार की ओर से नोटिस देकर 7 दिन में जवाब पेश करने को कहा गया था। - Dainik Bhaskar
मैयर सौम्या को सरकार की ओर से नोटिस देकर 7 दिन में जवाब पेश करने को कहा गया था।

जयपुर नगर निगम ग्रेटर की मेयर सौम्या गुर्जर आने वाला सप्ताह भारी पड़ सकता है। सरकार ने मेयर को जो जवाब पेश करने का समय दिया है वह 25 नवंबर को पूरा होगा। इस जवाब के बाद ऐसा माना जा रहा है कि सरकार सौम्या पर एक्शन करके उन्हें दोबारा मेयर की कुर्सी से हटा सकती है।

जानकारों की माने तो सरकार अगर सौम्या को दोबारा कुर्सी से हटाती है तो एक बार फिर से सरकार कार्यवाहक मेयर लगा सकती है। क्योंकि 10 नवंबर को जो उपचुनाव करवाए गए थे, उस पर हाइकोर्ट के आदेश का क्या असर रहा इसको लेकर निर्वाचन आयोग को आगे का फैसला करना है।

एक महीने का मांगा था समय
हाईकोर्ट के आदेश के बाद सरकार ने सौम्या गुर्जर को 18 नवंबर तक जवाब पेश करने का समय दिया था। लेकिन इस बीच मेयर ने एक पत्र स्वायत्त शासन निदेशालय के डायरेक्टर को पेश करके उसमें एक महीने का समय मांगा था। तब मेयर ने सरकार के ही एक शपथ पत्र का हवाला दिया था। हालांकि मेयर के इस पत्र के बाद सरकार ने उन्हें 7 दिन का और अतिरिक्त समय दिया था।

काउंटिंग करके जारी कर सकते है परिणाम

स्वायत्त शासन निदेशालय में पूर्व विधि निदेशक रहे अशोक सिंह की माने तो अगर सरकार सौम्या गुर्जर को मेयर के पद से दोबारा बर्खास्त करती है तो उस स्थिति में निर्वाचन आयोग को दोबारा चुनाव करवाने की जरूरत नहीं होगी। 10 नवंबर को जो उपचुनाव हुए थे उन वोटों की काउंटिंग करवाकर आयोग मेयर के चुनाव का रिजल्ट जारी कर सकता है। उन्होंने बताया कि हाईकोर्ट ने जो आदेश रिटर्न में जारी किया है उसमें ये कहीं उल्लेख नहीं किया है कि चुनाव की पूरी प्रक्रिया को रद्द किया जाता है।

खबरें और भी हैं...