• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Jewel Thief Jayesh Rao Ji Arrested By Jaipur Police From Surat Gujrat, 20 Years Ago He Used To Steal Goods While Doing Catering Work In Weddings Hotels, Started Stealing In Five Star Hotels To Become A Millionaire

10 वीं पास ज्वैलथीफ ने की 9 राज्यों में वारदात:20 साल पहले शादियों में कैटरिंग का काम करते वक्त चुराता था सामान, करोड़पति बनने के लिए फाइव स्टार होटलों में करने लगा चोरी

जयपुर2 महीने पहले
20 साल पहले कैटरिंग के काम से चोरी की शुरुआत करने वाले शातिर बदमाश जयेश रावजी को जवाहर सर्किल पुलिस ने सूरत से गिरफ्तार कर लिया।

देश में मुंबई, दिल्ली, राजस्थान, चेन्नई सहित 9 राज्यों के बड़े शहरों में फाइव स्टार होटलों में चोरियां करने वाला शातिर जयेश रावजी सेजपाल (50) जयपुर पुलिस की गिरफ्त में है। जयपुर पुलिस की टीम जयेश को लेकर गुरुवार को जयपुर पहुंची। यहां कोर्ट में पेश किया गया। प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि सिर्फ फाइव स्टार होटलों में वारदातें करने वाला जयेश सिर्फ 10 वीं कक्षा पास है। वह पिछले 20 साल से होटलों में चोरी की वारदातें कर रहा है। वह इन रुपयों को सट्‌टेबाजी और महंगे शौक पूरा करने में खर्च करता था।

कैटरिंग का काम करने वाले से 20 साल में बना करोड़पति चोर

अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा के मुताबिक जयेश 20 साल पहले शादी समारोह में कैटरिंग का काम करता था। तब जयेश मुंबई में नाला सोपारा के रहने वाले दोस्त रमेश भानजी के साथ छोटी मोटा सामान चुराने लगा। वह कभी पकड़ा नहीं गया। उसे लगता था कि बड़े लोग चोरी की छोटी मोटी घटनाओं की परवाह नहीं करते है। वे पुलिस तक भी नहीं पहुंचते है। ऐसे में जयेश पकड़ा नहीं गया।

इससे वह बेखौफ अलग अलग शहरों में घूमकर थ्री स्टार, फाइव स्टार होटलों में वारदातें करने लगा। उसके खिलाफ देशभर में 30 मुकदमे दर्ज है। जयपुर में होटल क्लार्क्स आमेर में 25 नवंबर से पहले उदयपुर में होटल ट्राइडेंट में 20 नवंबर को चोरी की वारदात की। जयपुर में वारदात कर वह 26 नवंबर को भाग निकला। वह पहचान छिपाने के लिए ज्यादातर रोडवेज बस व ट्रेन में जनरल क्लास की बोगी में वारदात करता है। वह जयपुर में नवंबर 2019 में आमेर में एक होटल में वारदात कर चुका है।

कई राज्यों में फाइव स्टार होटलों में चोरी करने वाला शातिर जयेश को जयपुर में जवाहर सर्किल पुलिस ने छह दिन में गिरफ्तार कर लिया।
कई राज्यों में फाइव स्टार होटलों में चोरी करने वाला शातिर जयेश को जयपुर में जवाहर सर्किल पुलिस ने छह दिन में गिरफ्तार कर लिया।

9 राज्यों में बड़े शहरों के 5 स्टार होटलों को बनाया निशाना
प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि जयेश रावजी गुजरात में जाम नगर का रहने वाला है। महाराष्ट्र में मुंबई, गोंदिया, उत्तरप्रदेश में आगरा व लखनऊ, आंध्रप्रदेश में विशाखापट्‌टनम, तमिलनाडु में चेन्नई, राजस्थान में जयपुर, उदयपुर और जोधपुर, पंजाब में जालंधर व चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल में कोलकाता, तेलंगाना में हैदराबाद, केरल में कोच्चि व कोयंबटूर शहरों में थ्री से लेकर फाइव स्टार होटलों में वारदातें की। इनमें होटल ताज, होटल हयात, होटल रमाडा, होटल टाउन प्लाजा, होटल नवोटल, होटल मर्करी, होटल रेडिसन ब्लू, होटल ट्राइडेंट, होटल क्लार्क्स आमेर, होटल चंद्रा इन शामिल है।

तकनीकी टीम ने लोकेशन ट्रेस कर पीछा किया, छह दिन में पकड़ा गया जयेश
वारदात के बाद डीसीपी (पूर्व) प्रहलाद कृष्णियां के सुपरविजन में पड़ताल शुरु की। जवाहर सर्किल थानाप्रभारी राधारमण गुप्ता, डीएसटी प्रभारी इंस्पेक्टर रण सिंह के नेतृत्व में पुलिस ने होटल में लगी सीसीटीवी फुटेज खंगाली। जिसमें जयेश का चेहरा व हुलिया सामने आया। इसके बाद जयपुर पुलिस ने अन्य राज्यों की पुलिस से संपर्क किया। उनको सीसीटीवी फुटेज भेजी। वारदात का तरीका बताया। तब चेन्नई, गुजरात और मुंबई में जयेश राव जी का नाम सामने आया। वह अकेला रहता था। वारदात के वक्त मोबाइल फोन को चालू नहीं रखता था। ऐसे में पुलिस ने सोशल गुप्स पर भी फोटो साझा किए। तब कुछ और अहम जानकारी हाथ लगी।

20 साल में 9 राज्यों में कई बड़े शहरों में फाइव स्टार होटलों में वारदात करने वाला जयेश सीसीटीवी फुटेज में नजर आया था
20 साल में 9 राज्यों में कई बड़े शहरों में फाइव स्टार होटलों में वारदात करने वाला जयेश सीसीटीवी फुटेज में नजर आया था

तकनीकी ब्रांच को मिले अहम सुराग, पीछा करते हुए गुजरात पहुंची पुलिस

इसके बाद जयेश के मोबाइल नंबर पुलिस को मिले। वे बंद आ रहे थे। तब डीसीपी पूर्व ऑफिस में सायबर सेल के तकनीकी प्रभारी कांस्टेबल विजय राठी ने अहम रोल निभाया। उनको फरार चोर जयेश की लोकेशन के बारे में अहम सुराग हाथ लगे। तब सबइंस्पेक्टर कृष्ण कुमार, एएसआई अशोक सिंह व अन्य पुलिसकर्मियों की टीम को गुजरात भेजा गया। वहां बुधवार को सूरत शहर में एक होटल में दबिश देकर जयेश को पुलिस ने पकड़ लिया। इसके लिए स्थानीय पुलिस का भी सहयोग लिया।

एक दिन पहले पहुंचा था जयपुर

जयपुर के होटल क्लार्क्स आमेर में 26 नवंबर को सीसीटीवी फुटेज में हुलिया सामने आने के बाद पुलिस ने प्रदेश के अन्य जिलों व बाहरी राज्यों की पुलिस से संपर्क किया तो उसकी पहचान हो गई। प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया कि होटल क्लार्क्स आमेर में वारदात के लिए जयेश 25 नवंबर को जयपुर पहुंचा था। यहां बनीपार्क इलाके में एक होटल में ठहरा था।

ऑटोरिक्शा से दो बार होटल पहुंचा था जयेश

जयेश सिंधी कैंप बस स्टैंड से एक ऑटोरिक्शा लेकर 25 नवंबर को होटल क्लार्क्स आमेर पहुंचा था। उसने छत्तीसगढ़ के कारोबारी राजीव बोथरा की बेटी की शादी में आए मेहमानों के साथ होटल में प्रवेश किया। उनके रिश्तेदार राहुल बंथिया को टारगेट किया। सुबह करीब तीन-चार घंटे होटल में ठहरकर वापस अपने होटल चला गया। शाम को जयेश दोबारा होटल क्लार्क्स आमेर पहुंचा। वहां मेहमानों के महिला संगीत समारोह में जाने के बाद राहुल बंथिया के कमरे का लॉक खुलवाया और तिजोरी में रखे जेवर लेकर भाग निकला।

मेहमानों के साथ ही होटल में एंट्री करता है

जयेश फाइव सितारा होटल में मेहमानों के आने का इंतजार करता है। उनके साथ ही एंट्री करता है। जयेश इतना शातिर है कि रिसेप्शन के आसपास खड़ा रहकर लगेज टैगिंग के वक्त मेहमानों पर नजर रखता है। कौन किस कमरे में रुकेगा, किसके पास क्या सामान है, कौन सा मेहमान अपना सामान को होटल कर्मी को नहीं सौंप रहा है, यह सब देखता है। फिर उसी मेहमान को टारगेट कर कमरा नंबर नोट कर लेता है। जब मेहमान शादी समारोह में चले जाते हैं, तब जयेश होटल में कमरे वाले का नाम बताकर लॉक खुलवाता है। फिर वारदात कर भाग जाता है। वह बस से ही सफर करता है।