पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पूछताछ में रोज नए-नए खुलासे:प्रोजेक्ट की डिजाइन अप्रूव नहीं करने पर एक कंसलटेंट पर भी फायरिंग का प्रयास करवा चुका करणदीप

जयपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गोली मारकर दहशत फैलाने वाले बदमाशों की पूछताछ में रोज नए-नए खुलासे हो रहे है। - Dainik Bhaskar
गोली मारकर दहशत फैलाने वाले बदमाशों की पूछताछ में रोज नए-नए खुलासे हो रहे है।

वैशाली नगर में 11 दिन पहले एनएचएआई ऑफिस के बाहर दिन दहाड़े एनएचएआई की कंसलटेंट एजेंसी के एडवाइजर को गोली मारकर दहशत फैलाने वाले बदमाशों की पूछताछ में रोज नए-नए खुलासे हो रहे है।

कंसलटेंट एडवाइजर गुड़गांव निवासी राजेन्द्र कुमार चावला की हत्या के आरोप में पकड़े गए ई-5 इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी के एमडी करणदीप श्योराण इससे पहले भी गुड़गांव में एक कंसलटेंट को डराने के लिए फायरिंग का प्रयास करवा चुके है, लेकिन वहां भीड़ होने के कारण वहां पर सफल नहीं हो पाएं। क्योंकि कंसलटेंट आरोपियों के जूनागढ़ प्रोजेक्ट की डिजाइन अप्रूव्ड नहीं कर रहे थे। पुलिस टीमें तस्दीक कर रही है। क्योंकि उस वक्त भी करणदीप ने कंसलटेंट पर फायरिंग करवाने की जिम्मेदारी विकास को दी थी।

एडिशनल डीसीपी रामसिंह ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ में सामने आई बातों की तस्दीक करवाई जा रही है। इसके अलावा अभी तक फरार चल रहे शूटर रामदया, इंजीनियर प्रदीप गुर्जर व शेखर मिश्रा को पकड़ने के लिए टीमें संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है।

वारदात से पहले बदमाशों को अंदेशा था कि चावला मीटिंग खत्म होते ही सिगरेट पीने निकलेंगे। इसलिए शूटरों को पहले ही ऑफिस के बाहर खड़ा कर दिया। ताकि हत्या करने में कोई परेशानी नहीं हो। पुलिस टीमे मीटिंग में शामिल अधिकारी और इस प्रोजेक्ट जुड़े लोगों की भूमिका की जांच के लिए रिकॉर्ड खंगालने में जुट गई। क्योंकि मीटिंग बुलाने के बाद भी कई लोग शामिल नहीं हुए थे और ई-5 इन्फ्रास्ट्रक्चर कई लोग शामिल हो गए।

गौरतलब है कि चावला कि हत्या के आरोप में पुलिस ने 3 सितंबर को गुड़गांव की ई-5 इन्फ्रास्ट्रक्चर के एमडी करणदीप श्योरण, लाइजनर विकास देवंदा, चंडीगढ़ प्रोजेक्ट मैनेजर नवीन बिस्ला, परचेजिंग मैनेजर अमित नेहरा व शूटर धर्मेंद्र को गिरफ्तार कर लिया, जो अभी पुलिस रिमांड पर चल रहे है।

गिरोह में ज्यादातर बदमाश विकास के साथ इंजीनियरिंग करने वाले साथी है। ऐसे में विकास जैसे ही इस कंपनी में राष्ट्रीय लाइजनर लगे तो धीरे-धीरे सब को भर्ती कर लिया। इसलिए इस बार चावला को मारने की योजना भी विकास ने तैयार की थी।

खबरें और भी हैं...