पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डामर सप्लाई:काेटक अस्फाल्ट ने पीडब्ल्यूडी की परमिशन खत्म होने के बारे में ठेकेदारों को दे दी थी जानकारी

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जुलाई 2020 मे विभाग के पत्र के अनुसार 20 लाख रुपए की एफडीआर करा दी थी, लेकिन कोरोना की वजह से अप्रूवल रिन्यूवल होने में समय लग गया। - Dainik Bhaskar
जुलाई 2020 मे विभाग के पत्र के अनुसार 20 लाख रुपए की एफडीआर करा दी थी, लेकिन कोरोना की वजह से अप्रूवल रिन्यूवल होने में समय लग गया।

सार्वजनिक निर्माण विभाग में कोटक अस्फाल्ट की ओर से की गई डामर सप्लाई में नया मोड आ गया है। कोटक अस्फाल्ट के उच्च अधिकारी ने बताया कि 10 दिसंबर 2020 काे परमिशन खत्म हो रही थी। उससे पूर्व ही इसकी सूचना सार्वजनिक निर्माण विभाग के हमारे संबंधित ठेकेदारों को दे दी गई थी।

यह भी बता दिया गया था कि जब तक परमिशन रिन्यूअल नहीं होती है तब तक सार्वजनिक निर्माण विभाग के कामाें में डामर का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। वहीं कंपनी से खरीदी जाने वाली डामर का यूज ठेकेदार और अन्य विभागों के सड़क निर्माण में भी करते हैं। ऐसे में ठेकेदार किस बिल काे किस काम में लगाता है, यह कंपनी की जानकारी में नहीं रहता।

पीडब्ल्यूडी में नहीं हुआ डामर का यूज़ : जनवरी 2021 मे 8 लाख 67 हजार की डामर सप्लाई जो मैसर्स सांकेत एंटरप्राइज को की गई थी जो की ट्रेडर है। ठेकेदार खरीदी गई डामर का यूज पीडब्ल्यूडी के काम में नहीं किया। कंपनी ने अप्रूवल रिन्यूवल के लिए मई 2020 माह में ही आवेदन कर दिया था और उसके बाद जुलाई 2020 मे विभाग के पत्र के अनुसार 20 लाख रुपए की एफडीआर करा दी थी, लेकिन कोरोना की वजह से अप्रूवल रिन्यूवल होने में समय लग गया।

अब 15 अप्रैल 2021 को कंपनी की अप्रूवल सभी जांच और दस्तावेजों पर विचार विमर्श करने के बाद नए दिशा-निर्देशों के अनुसार अप्रूव हो गई है। कंपनी 10 साल से डामर सप्लाई का काम कर रही है और राजस्थान में 2017 से सार्वजनिक निर्माण विभाग की गाइडलाइन के तहत काम रही है और ठेकेदार कंपनी के क्वालिटी और काम से संतुष्ट है।

खबरें और भी हैं...