• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Kidnapping Case In Jaipur Breaking The Lock Of The House Picked Up The Young Man Sleeping In The Room, Three Arrested Including Uncle nephew

20 हजार रुपए के लेनदेन में युवक का अपहरण:मकान का ताला तोड़कर कमरे में सो रहे युवक को उठाया, कार में पटककर भाग निकले अपहरणकर्ता, मामा-भांजा सहित तीन गिरफ्तार

जयपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जवाहर सर्किल थाना पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपी - Dainik Bhaskar
जवाहर सर्किल थाना पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपी

उधारी रुपयों के लेनदेन में चल रही रंजिश में एक युवक ने अपने मामा और दोस्त के साथ मिलकर अपने परिचित का अपहरण कर लिया। वारदात के बाद फिरौती मांगकर अपने खाते में 20 हजार रुपए अपने बैंक में ऑनलाइन ट्रांसफर करवाए। इस बीच FIR दर्ज होने के चार घंटे के भीतर पुलिस ने अपहृत युवक को बरामद कर तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। वारदात में प्रयुक्त कार भी बरामद कर ली।

डीसीपी (पूर्व) प्रहलाद कृष्णियां ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी अभिषेक मीना (18) करौली जिले में टोडाभीम तहसील के वालकापुरा गांव का रहने वाला है। वह जयपुर में एयरपोर्ट थाना इलाके में नंदपुरी स्थित एक मकान में किराए से रहता है। दूसरा आरोपी राहुल हरिजन (22) निवासी गांव एदलपुर थाना टोडाभीम जिला करौली है। तीसरा आरोपी लालाराम उर्फ कुंजी मीणा (22) निवासी छतरीपाड़ा सांता थाना महुआ जिला दौसा है। वह जयपुर में सेक्टर 4 खातीपुरा में किराए से रहता है।

वहीं, जिस कपिल मीना नाम के युवक का अपहरण हुआ। वह भी करौली जिले में टोडाभीम तहसील में शेखपुरा गांव का रहने वाला है। करीब डेढ़ महीने पहले कपिल ने मुख्य आरोपी अभिषेक मीना से 20 हजार रुपए उधार लिए थे। अभिषेक तकाजा कर रहा था। लेकिन कपिल उधारी रुपए चुका नहीं रहा था।

इसलिए अभिषेक ने अपने मामा लालाराम और दोस्त राहुल के साथ मिलकर कपिल का अपहरण करने का प्लान बनाया। उसे 12 अक्टूबर को दिनदहाड़े घर के ताले तोड़कर गाड़ी में पटककर भाग निकले। वारदात के बाद कल शाम 6 बजे जवाहर सर्किल थाने को सूचना मिली। तब चार घंटे के भीतर पुलिस ने सायबर सेल की मदद से पीछा कर बस्सी इलाके से कपिल को रात 10 बजे मुक्त करवा लिया। चार अपहरणकर्ताओं को भी गिरफ्तार कर लिया।

यह था मामला
सवाईमाधोपुर जिले में बामनवास तहसील के गांव रामसिंहपुरा की रहने वाली रचना मीना ने 12 अक्टूबर को शाम 6 बजे जवाहर सर्किल थाने पर पहुंचकर एक रिपोर्ट दर्ज करवाई। जिसमें बताया कि वह पति के साथ जवाहर सर्किल इलाके में प्रेम नगर में किराए पर रहती है। उनके साथ देवर कपिल मीणा (22) भी रहता है। 12 अक्टूबर को रचना अपने बेटे कार्तिक को दवा दिलवाने जगतपुरा गई थी। तब कपिल कमरे में सो रहा था। रचना बाहर से कमरे पर ताला लगाकर गई थी। वह दोपहर 12 बजे घर लौटी तब परिचित रेखा रास्ते में मिली।

उसने बताया कि कुछ बदमाश कपिल को जबरदस्ती गाड़ी में पटककर ले गए है। वे कपिल के साथ मारपीट भी कर रहे थे। तब रचना ने घर जाकर देखा तब कमरे पर लगा ताला टूटा हुआ मिला। इसके बाद रचना ने अपने पति सुशील को फोन कर देवर कपिल के अपहरण की खबर दी। वह अपने बच्चे को रेखा के घर छोड़कर कपिल को तलाशने लगी। इसके बाद शाम को पति सुशील के साथ जवाहर सर्किल थाने पहुंची। केस दर्ज करवाया। कपिल के पास उसकी भाभी रचना का मोबाइल भी चला गया।

इसी मोबाइल फोन से बदमाशों ने कपिल की भाभी, भाई और मां को फोन कर फिरौती मांगी। तब उन्होंने घबराकर 20 हजार रुपए अपहरणकर्ताओं के खाते में जमा करवा दिए। वारदात के खुलासे में डीसीपी पूर्व में तकनीकी शाखा में सायबर सेल प्रभारी पुलिस इंस्पेक्टर नवरतन धौलियां ने अहम रोल निभाया। उन्होंने तकनीकी पड़ताल कर एसीपी बस्सी सुरेश सांखला और कानोता थाना पुलिस को सूचना दी। वारदात के खुलासे के लिए एडिशनल डीसीपी आईपीएस राजऋषि वर्मा, एसीपी मालवीय नगर महेंद्र शर्मा के सुपरविजन में तीन टीमें गठित की गई थी।

खबरें और भी हैं...