REET के बाद अब RAS परीक्षा में धांधली का आरोप:किरोड़ी बोले- कोचिंग संस्थान को फायदा देने के लिए बदला सिलेबस, परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाएं सरकार

जयपुर7 महीने पहले
RAS अभियर्थियों के साथ धरने पर बैठे सांसद किरोड़ी लाल मीणा। - Dainik Bhaskar
RAS अभियर्थियों के साथ धरने पर बैठे सांसद किरोड़ी लाल मीणा।

राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर हर दिन नया विवाद सामने आ रहा है। रीट के बाद अब RAS मुख्य परीक्षा में धांधली का नया मामला सामने आया है। राज्यसभा सांसद डॉक्टर किरोडी लाल मीणा ने आरोप लगाया है कि सरकार ने निजी कोचिंग संस्थान को फायदा पहुंचाने के लिए RAS मुख्य परीक्षा का सिलेबस बदला है। ताकि कोचिंग संस्थान के ज्यादा से ज्यादा बच्चे RAS मुख्य परीक्षा पास कर सके।

मीणा ने आरोप लगाया कि इसके अलावा बीएम शर्मा और राजीव गांधी स्टडी सर्किल से जुड़े हुए लोग जयपुर में टारगेट सिविल के नाम से एक कोचिंग संस्थान चला रहे हैं। इस संस्थान को फायदा पहुंचाने के लिए RAS मुख्य परीक्षा का सिलेबस आखरी वक्त में बदला गया है। इतना ही नहीं बल्कि यह सिलेबस राजीव गांधी स्टडी सर्किल के लोगों और बीएम शर्मा ने तैयार किया है। उन्होंने बताया कि जब भी किसी परीक्षा की अधिसूचना जारी होती है। तो उसके साथ सिलेबस भी जारी होता है। ऐसे में उस सिलेबस को किसी भी परिस्थिति में नहीं बदला जा सकता। लेकिन सिर्फ एक कोचिंग को फायदा पहुंचने के लिए RAS मुख्य परीक्षा का सिलेबस बदल दिया गया है। जो हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन भी है।

RAS अभ्यर्थियों के साथ हो रहा अन्याय
मीणा ने कहा कि बीएम शर्मा महात्मा गांधी इंस्टिट्यूट ऑफ गवर्नेंस एंड सोशल साइंस संस्थान के अध्यक्ष होते हुए भी कोचिंग चला रहे है। उन्होंने ही अपने कोचिंग में पढ़ने वाले बच्चों को फायदा देने के लिए RAS मुख्य परीक्षा 40 से 50 फीसदी बदला गया है। मीणा ने कहा कि RAS अभ्यर्थियों की परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग जायज है। जिसे सरकार को मानना चाहिए। लेकिन सिर्फ कुछ लोगों को फायगा देने के लिए सरकार युवाओं कि मांग नहीं मान रही है। लेकिन अगर RAS परीक्षा की तारीख भी आगे नहीं बढ़ी तो RAS परीक्षा में भी रीट जैसी धांधली होगी।

काली पट्टी बांध विरोध मार्च निकलते RAS अभ्यर्थी।
काली पट्टी बांध विरोध मार्च निकलते RAS अभ्यर्थी।

वहीं इससे पहले राजस्थान यूनिवर्सिटी में धरना दे रहे RAS मुख्य परीक्षा के अभ्यर्थियों ने काली पट्टी बांध विरोध जुलूस निकाला। उन्होंने कहा कि सरकार ने उनके भविष्य को अंधकार में डाल दिया है। इसलिए आज काली पट्टी बांध विरोध निकाल रहे हैं ताकि सरकार हमें देख अपने गलत फैसले को फिर से सुधार सकें। धरना दे रहे छात्रों ने कहा कि जब तक सरकार मुख्य परीक्षा की तारीख आगे नहीं बढ़ा देती, हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं...