जयपुर में डेंगू से 2 की मौत:सरकारी हॉस्पिटल में बेड्स और ब्लड की कमी, रोज आ रहे 35 से ज्यादा मरीज

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल की चरक भवन यूनिट में लगी मरीजों की कतार और वेटिंग में बैठे मरीज। - Dainik Bhaskar
जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल की चरक भवन यूनिट में लगी मरीजों की कतार और वेटिंग में बैठे मरीज।

जयपुर में डेंगू से दो लोगों की मौत हो गई। यह अब महामारी का रूप ले रहा है। हर रोज जयपुर में डेंगू के औसतन 35 से ज्यादा नए मरीज आ रहे हैं। यही कारण है कि जयपुर के सभी सरकारी अस्पतालों में बेड्स फुल हो गए हैं। खून (प्लेटलेट्स) की भी अब किल्लत होने लगी है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से मिली रिपोर्ट के मुताबिक जयपुर जिले में जनवरी से 20 अक्टूबर तक कुल 1571 डेंगू के केस सामने आए है, जिनमें से 975 केस ताे पिछले 29 दिन में ही मिले हैं। हालांकि डेंगू से मौत का आंकड़ा केवल एक ही दर्शाया गया है, जो सितंबर महीने का है, जबकि जयपुर के जेके लॉन हॉस्पिटल और जयपुर के एक निजी हॉस्पिटल में बुधवार को डेंगू से दो मौत हुई थी।

जेके लॉन हॉस्पिटल में एक झुंझुनूं की 5 साल की बच्ची देविका ने मंगलवार देर शाम इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसी तरह जयपुर के मालवीय नगर झालाना क्षेत्र के निवासी अरुण सिंह की बीती रात एक निजी हॉस्पिटल में डेंगू से बीमार होने के बाद मौत हो गई।

10 हजार के पार पहुंची ओपीडी
राजस्थान के सबसे बड़े हॉस्पिटल सवाई मानसिंह में इन दिनों मौसमी बीमारियों से ग्रसित बड़ी संख्या में मरीज पहुंच रहे हैं। यहां रोजाना की ओपीडी संख्या 10 हजार के पार पहुंच गई है। करीब 2400 बेड्स की क्षमता वाले इस हॉस्पिटल में मेडिसिन से संबंधित सभी यूनिट्स फुल हो चुकी हैं। मजबूरन अब मरीजों को दूसरी यूनिट्स में खाली बेड्स पर भर्ती करना पड़ रहा है। वहीं, चर्म एवं नेत्र रोग डिपार्टमेंट (चरक भवन) में इसके लिए नए वार्ड बनाए जा रहे हैं, जहां मरीजों को भर्ती किया जाएगा।

वहीं, जयपुरिया हॉस्पिटल, जेके लॉन, कावंटिया में भी मरीज भर्ती हैं, जिन्हें बेड्स की किल्लत तो कम है, लेकिन यहां मरीजों को प्लेटलेट्स लेने में पसीने छूट रहे हैं। क्योंकि प्लेटलेट्स की डिमांड दो गुना से ज्यादा बढ़ गई है। वहीं, लाइव एसडीपी के लिए भी लोग सामाजिक संस्थाओं, भामाशाह जो ब्लड डोनेशन कैंप लगाते हैं उनसे संपर्क कर रहे हैं।

जयपुर में अब तक कुल 1571 मरीज
जयपुर में जनवरी से 20 अक्टूबर तक सरकारी रिकॉर्ड में कुल 1571 मरीज आए है। सच्चाई ये है कि सरकारी हॉस्पिटल के अलावा निजी में भी बड़ी संख्या में डेंगू के मरीज पहुंच रहे है। निजी हॉस्पिटल में कितने मरीज भर्ती हो रहे है उनमें से कितनों की डेथ हो गई, इसको लेकर अब तक कोई रिकॉर्ड नहीं लिया जा रहा। जयपुर सीएमएचओ डॉ. नरोत्तम शर्मा ने बताया कि डेंगू के जो भी केस आ रहे है उस पर हम लगातार मॉनिटरिंग कर रहे है और उन एरिया में विशेष सर्वे टीम भेजकर रेंडम सर्वे करवा रहे है। उन्होंने बताया कि जयपुर में अब तक 1571 मरीज है, जबकि सितम्बर में ही केवल एक मौत हुई है।

खबरें और भी हैं...