पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Less Than One Thousand Corona Cases In The State After 65 Days; The State Reached Number 14 In The Whole Country In Terms Of Active Cases

65 दिन बाद राजस्थान में सबसे कम केस:31 मार्च के बाद एक हजार से कम मिले कोरोना संक्रमित; हमारे यहां अब गुजरात, पंजाब समेत 13 राज्यों के मुकाबले कम एक्टिव मरीज

जयपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान में शनिवार को कोरोना के 942 नए मरीज मिले हैं। 31 मार्च के बाद यह पहला ऐसा दिन है, जब मरीजों की संख्या एक हजार से भी कम रही। अब यहां एक्टिव केस भी घटकर 21,550 हो गए हैं। राजस्थान में एक्टिव केस अब गुजरात और पंजाब से भी कम हो गए। इससे पहले राजस्थान में एक्टिव मरीज इन राज्यों से ज्यादा थे। इसके चलते राज्य एक्टिव केस के मामले में देश में 14वें नंबर पर आ गया है।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट को देखें तो राज्य में पिछले 5 दिनों से लगातार कोरोना की संक्रमण दर 3 फीसदी से भी नीचे बनी हुई है। कहा जाता है कि किसी भी राज्य में अगर कोरोना की दर एक सप्ताह तक 5 फीसदी से भी कम रहती है तो वहां स्थिति नियंत्रित मानी जाती है और लॉकडाउन की जरूरत नहीं पड़ती। अगर दो-तीन दिन भी यही स्थिति रही तो सरकार लॉकडाउन में और ज्यादा ढील दे सकती है। हालांकि, हेल्थ सेक्टर से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना कम होने के पीछे एक बड़ा कारण लॉकडाउन है। अगर आगे भी हमने ऐसी ही सावधानी बरती तो ठीक है, वरना केस वापस बढ़ सकते हैं।

5 जिलों में 50 से ज्यादा मरीज मिले
रिपोर्ट के मुताबिक राज्य के 33 में 5 ही जिले ऐसे हैं, जहां संक्रमित केसों की संख्या 50 से ज्यादा है। जयपुर में 170, अलवर में 133, झुंझुनूं 70, जोधपुर 60 और बीकानेर में 57 नए केस मिले हैं। इन जिलों के अलावा 13 जिले ऐसे भी हैं, जहां संक्रमितों की संख्या 10 से भी कम है। सबसे कम एक केस सवाई माधोपुर में मिला है।

9 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 1 फीसदी से कम
राजस्थान में जिलेवार पॉजिटिविटी रेट देखें तो 9 जिलों में यह एक फीसदी से भी कम रही। इसमें जालौर, धौलपुर, सवाई माधोपुर, कोटा, प्रतापगढ़, सिरोही, नागौर, करौली और गंगानगर शामिल है। सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दौसा में 3.92 फीसदी रही। राज्य में कुल 3,364 मरीज रिकवर हुए, जबकि कोरोना से 32 लोगों की जान चली गई।

खबरें और भी हैं...