7 करोड़ के जेवरात लूटने वाले दो कोरियर बॉय गिरफ्तार:दोस्तों को लालच देकर कराई लूट की वारदात,करोड़ों का माल हुआ बरामद

जयपुरएक महीने पहले

जयपुर से साढ़े सात करोड़ के जवाहरात ले जाने वाले दो कोरियर बॉय गिरफ्तार को पुलिस ने आखिर गिरफ्तार कर लिया है। सिंधी कैम्प थाना पुलिस ने एक माह पूर्व कोरियर कर्मचारियों की ओर से की गई साढ़े सात करोड़ रुपए जवाहरात ले जाने वाली वारदात का खुलासा करते हुए दो जनों को गिरफ्तार किया है। बदमाशों के पास से पुलिस ने ज्वैलरी के 185 आइटम बरामद किए हैं। वहीं अभी दो मुल्जिमों की तलाश अभी जारी है। डीसीपी वैस्ट ऋचा तोमर ने बताया कि 24 अप्रेल 2022 को सिंधी कैम्प थाना क्षेत्र में कोरियर कंपनी मैनेजर को विश्वास में लेकर कंपनी से 7.50 करोड़ रुपए कीमत के हीरे-जवाहरात लेकर कम्पनी के कर्मचारी सवाई माधोपुर निवासी विकास कुमार गुर्जर, हरिओम गुर्जर, सुरेन्द्र कुमार गुर्जर, सीताराम गुर्जर फरार हो गए थे। इस रिपोर्ट पर एसीपी सदर जुल्फिकार समेत एक टीम का गठन किया गया। टीम में शामिल सिंधी कैम्प के कांस्टेबल गंगाराम, कमल और मोती डूंगरी थाने के हैड कांस्टेबल अविनाश शर्मा और कांस्टेबल कुमेर के प्रयासों से दो आरोपी विकास गुर्जर और हरिओम गुर्जर को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपित विकास गुर्जर (24) पुत्र हंसराज बड़ी झोंपड़ी बामनवास सवाई माधोपुर और हरिओम गुर्जर (25) पुत्र ज्ञानसिंह देहरी बाटोदा सवाई माधोपुर का रहने वाला है वारदात में फरार राधेश्याम उर्फ राधे ठेकला (35) पुत्र हंसराज सालोदा उदई मोड गंगापुर सिटी सवाईमाधोपुर और ब्रह्म सिंह उर्फ लुक्का (32) भरत फौजी मोतीपुरा गंगापुर सदर सवाई माधोपुर की तलाश पुलिस कर रही है।

ऐसे रची थी साजिश

मुल्जिम विकास ने अपने दोस्त राधेश्याम व ब्रह्मसिंह उर्फ लुक्का के साथ मिलकर कोरियर कम्पनी में आने वाले पार्सल के माल को ले जाने की साजिश एक माह पूर्व बनाई। राधेश्याम और लुक्का गंगापुर सीटी सवाई माधोपुर में मादक पदार्थों की अवैध रूप से खरीद फरोख्त करते हैं। इन्हें विकास ने बताया कि वह जिस कम्पनी में काम करता है उस कम्पनी में कोरियर से मंहगी ज्वैलरी आती है। 23 अप्रेल को कोरियर कम्पनी का ज्यादा माल आना था। इसकी सूचना विकास को 22 अप्रेल को रात में परिवादी मैनेजर धर्मेन्द्र पाण्डे ने दी थी क्योंकि उस दिन परिवादी मैनेजर छुट्टी पर था। पीछे से सारा काम विकास गुर्जर के जिम्मे कर गया था। जब सामान ले जाने के लिए हरिओम ने मना कर दिया उसे यू-ट्यूब वीडियो भी दिखाए और कहा कि किस तरह छोटे अपराधों में जमानत हो जाती है। इसके बाद हरिओम भी तैयार हो गया।