सीएम के ओएसडी को दिल्ली पुलिस के नोटिस पर सवाल:महेश जोशी बोले- राजस्थान के मामले की दिल्ली में एफआईआर कैसे हो सकती है?

जयपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी - Dainik Bhaskar
सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी

फोन टैपिंग मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा को दिल्ली क्राइम ब्रांच के पूछताछ के नोटिस पर सरकारी मुख्य सचतेक महेश जोशी ने सवाल उठाए है। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने गहलोत के ओएसडी को 22 अक्टूबर को पूछताछ के लिए बुलाया है। सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी ने कहा- यह एफआईआर ही गलत है। यह बता रहे हैं कि सारा मामला राजस्थान का है, जयपुर का है, उसकी एफआईआर दिल्ली में कैसे हो सकती है?

जोशी ने कहा- अगर एक बार ऐसी परंपरा बन गई तो फिर केरल वाला दिल्ली में या राजस्थान में एफआईआर कराएगा, फिर कर्नाटक हिमाचल या लेह लद्दाख में होने शुरू हो जाएंगे। यह परंपरा नहीं होनी चाहिए। यह संवैधानिक भी नहीं है और इस तरीके की परंपरा को बढ़ावा नहीं दिया जाना चाहिए।

फोन टेपिंग मामले में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की शिकायत पर दिल्ली क्राइम ब्रांच ने 25 मार्च को एफआईआर दर्ज की थी। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने 25 जून को महेश जोशी को भी पूछताछ के लिए बुलाया था लेकिन उन्होंने सीनियर सिटीजन होने का हवाला देकर पूछतज्ञद के लिए जाने से इनकार कर दिया। सीएम के ओएसडी लोकेश शर्मा को इससे पहले 24 जुलाई को पूछताछ के लिए बुलाया था। लोकेश शर्मा की गिरफ्तारी पर 13 जनवरी तक दिल्ली हाईकोर्ट ने रोक लगा रखी हैं सीएम के ओएसडी ने दिल्ली क्राइम ब्रांच की एफआईआर को क्षेत्राधिकार के आधार पर चुनौती दे रखी है।

खबरें और भी हैं...