45 निकायों में बाड़ेबंदी:निवाई से शुरू हुई जोड़-तोड़, कांग्रेस छोड़ एनसीपी के टिकट पर जीते, अब भाजपा का थाम लिया दामन

जयपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीजेपी कार्यालय में एनसीपी के बैनर तले विजयी पार्षदों ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की। - Dainik Bhaskar
बीजेपी कार्यालय में एनसीपी के बैनर तले विजयी पार्षदों ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की।
  • क्राॅस वाेटिंग के खतरे से जूझ रही कांग्रेस-भाजपा, 7 काे होने वाले अध्यक्ष के चुनाव पर टिकी नजर

टोंक जिले के निवाई नगरपालिका से जोड़-तोड़ की शुरुआत हो गई है। यहां के 17 एनसीपी पार्षदों ने सोमवार को भाजपा मुख्यालय पहुंचकर पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इनमें से अधिकतर पार्षद कांग्रेस से बगावत कर एनसीपी के टिकट पर चुनाव जीते।

अब राज्य के 90 में से 45 निकायों में कांग्रेस-बीजेपी, निर्दलीय या अन्य अपना बाेर्ड बनाने के लिए जोड़-तोड़ में लगे हैं। ऐसे में इन निकाय वाली जगहाें पर मजबूत बाड़ेबंदी की व्यवस्थाएं की गई है। चुनाव जीतने वाले सदस्य बाड़े में है। इन्हें अब सात दिन तक रहना हाेगा।

वहीं बीजेपी-कांग्रेस के बहुमत वाले 43 स्थानाें पर टूट फूट के खतरे काे देखते हुए एहतियात के ताैर पर बाड़ेबंदी की है, जिसे प्रशिक्षण का नाम दिया गया है और पार्टी के नेता इन बाड़ेबंदी वाली जगहाें पर दाैरे कर रहे है। बीजेपी-कांग्रेस ने निकाय चुनाव में जाेड़- ताेड़ करने के लिए जिला और प्रदेश स्तर पर माॅनिटरिंग की व्यवस्थाएं की है।

छह निकायाें में बीजेपी और कांग्रेस का बराबर मामला
निकाय चुनावाें में छह जगहाें पर बीजेपी-कांग्रेस के जीतने वाले सदस्याें की संख्या बराबर सी है। ऐसे में निर्दलीय की मदद लेने और क्राॅस वाेटिंग कराने काे लेकर दाेनाे ही पार्टियाें के नेता जुटे हुए है। ऐसे में इन जगहाें पर कई लाेगाें की निगाहें टिकी हुई है। इनमें लक्ष्मणगढ़, छापर, राजलदेशर, सांचाेर, भवानीमंडी और काॅपरेन के निकाय शामिल है।