कोरोना के बढ़ते खतरे के बीच जयपुर में पसरा सन्नाटा:चारदीवारी में शाम होते ही बंद हुए बाजार, जो नहीं माने उन्हें गिरफ्तार करने की चेतावनी

जयपुर4 महीने पहले

राजस्थान में बेकाबू होते कोरोना संक्रमण को काबू करने के लिए सरकार ने प्रदेशभर में पाबंदियां लागू कर दी है। वहीं कोरोना हॉटस्पॉट बंद चुके जयपुर में भी सरकार की सख्ती का व्यापक असर नजर आया। इस दौरान शहर के प्रमुख बाजार जहां 8 बजे से पहले ही बंद हो गए। वहीं 11 बजे तक पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम को चालू रखा गया। जिसकी वजह से रात 11 बजे तक शहर की सड़कों पर हलचल नजर आई। लेकिन 11 बजे बाद शहर की सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। सरकार की सख्ती के बाद जयपुर में जहां चारदीवारी के प्रमुख बाजार 7:30 बजे से ही बंद होना शुरू हो गए। वहीं बाहरी क्षेत्र में भी व्यापारियों ने सरकार के फैसले का पालन किया। वैशाली नगर, मालवीय नगर, मानसरोवर के साथ विद्याधर नगर में भी 8 बजने तक सभी बाजारों को बंद कर दिया गया। हालांकि इस दौरान कुछ लोगों द्वारा अपने प्रतिष्ठान बंद नहीं किए गए जहां पुलिस प्रशासन ने पहुंच कानूनी कार्रवाई की और सख्ती के साथ जुर्माना भी वसूला। इस पर कोतवाली पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 24 से अधिक दुकानदारों और लोगों के चालान काट कार्रवाई की। चेतावनी भी दी कि आगे लापरवाही बरतने पर गिरफ्तार किया जाएगा। कुछ दुकानदारों ने जहां आनन-फानन में अपनी दुकानें निर्धारित वक्त से पहले ही बंद कर दी। जबकि कुछ पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए कोरोना गाइडलाइन फॉलो करते नजर आए। हालांकि पुलिस प्रशासन की कार्रवाई का कुछ व्यापारियों ने विरोध भी किया। उनका कहना था कि पहले ही बाजार मंदा चल रहा है। ऐसे में बेवजह पुलिस प्रशासन द्वारा व्यापारियों को परेशान किया जा रहा है। जिसकी वजह से अब ग्राहक भी दुकानों पर आने से कतरा रहे हैं।

राजधानी जयपुर में भी नाइट कर्फ्यू का व्यापक असर नजर आया। शाम 7:30 बजे से ही दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठान बंद करने शुरू कर दिए। इसके बाद 8 बजे तक शहर के सभी प्रमुख बाजार पूरी तरह बंद हो गए। 8 बजे त्रिपोलिया बाजार में पसरा सन्नाटा।
राजधानी जयपुर में भी नाइट कर्फ्यू का व्यापक असर नजर आया। शाम 7:30 बजे से ही दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठान बंद करने शुरू कर दिए। इसके बाद 8 बजे तक शहर के सभी प्रमुख बाजार पूरी तरह बंद हो गए। 8 बजे त्रिपोलिया बाजार में पसरा सन्नाटा।

राजस्थान में मंगलवार को कोरोना के 6366 नए केस मिले हैं, जबकि 4 मरीजों की मौत हुई है। इससे पहले प्रदेश में 4 जुलाई को एक साथ 4 मरीजों की मौत हुई थी। जयपुर सहित 14 जिलों में कोरोना के 100 या उससे ज्यादा केस मिले हैं। करीब 14 दिन के बाद आज ऐसा हुआ है, जब जयपुर में केस बढ़ने के बजाए कम आए हैं। पिछले 24 घंटे के अंदर जयपुर में 2166 नए केस मिले हैं, जो सोमवार की तुलना में 583 कम हैं।

जयपुर में बाजार बंद होने के बाद भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम पूरी तरह चालू रहा। ई-रिक्शा, ऑटो, सिटी बस के साथ ही जयपुर मेट्रो भी रात 9:30 बजे तक संचालित की गई। जिसकी वजह से रात 11 बजे तक शहर की सड़क पर वाहन चलते नजर आए।
जयपुर में बाजार बंद होने के बाद भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम पूरी तरह चालू रहा। ई-रिक्शा, ऑटो, सिटी बस के साथ ही जयपुर मेट्रो भी रात 9:30 बजे तक संचालित की गई। जिसकी वजह से रात 11 बजे तक शहर की सड़क पर वाहन चलते नजर आए।

राजस्थान में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच पाबंदियां लगाई जा चुकी हैं। 10 फीसदी से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले इलाकों में कभी भी लॉकडाउन जैसी सख्ती लगाई जा सकती हैं। गृह विभाग की गाइडलाइन में इसका प्रावधान किया गया है। प्रदेश के जयपुर सहित 10 जिलों में हालात अच्छे नहीं हैं। इन जिलों में 10 फीसदी से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट है। इनमें जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, भरतपुर, अलवर, चित्तौड़गढ़, दौसा, कोटा, उदयपुर और पाली शामिल हैं।

कोरोना के बढ़ते खतरे के बाद भी लापरवाह व्यापारियों के खिलाफ जयपुर पुलिस एक्शन मोड में नजर आई। पुलिस ने शहर के प्रमुख बाजारों में कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं करने वाले व्यापारियों के साथ लापरवाह राहगीरों के भी चालान काट जुर्माना वसूला।
कोरोना के बढ़ते खतरे के बाद भी लापरवाह व्यापारियों के खिलाफ जयपुर पुलिस एक्शन मोड में नजर आई। पुलिस ने शहर के प्रमुख बाजारों में कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं करने वाले व्यापारियों के साथ लापरवाह राहगीरों के भी चालान काट जुर्माना वसूला।

जयपुर में पिछले साल 28 दिसंबर से लगातार केस बढ़ रहे हैं। 27 दिसंबर को जयपुर में 43 केस आए थे। यह बढ़ते-बढ़ते 2749 तक पहुंच गए थे। जयपुर में पिछले एक सप्ताह की रिपोर्ट देखें तो 13 हजार 262 केस मिल चुके हैं। 6 लोगों की मौत हो चुकी है। जयपुर में संक्रमण की दर भी अब 15 फीसदी के पार जा चुकी है। इसी वजह से यह जिला रेड जोन में है।

सरकार ने सख्ती के बाद जहां प्रमुख बाजारों को 8 बजे तक बंद करने का फैसला किया है वही रेस्टोरेंट्स को रात 10 बजे तक की रियायत दी गई है। जिनमें 50% क्षमता के साथ खाना खिलाया जा सकता है।
सरकार ने सख्ती के बाद जहां प्रमुख बाजारों को 8 बजे तक बंद करने का फैसला किया है वही रेस्टोरेंट्स को रात 10 बजे तक की रियायत दी गई है। जिनमें 50% क्षमता के साथ खाना खिलाया जा सकता है।

पूरे प्रदेश में शनिवार रात 11 बजे से लेकर सोमवार सुबह पांच बजे तक लॉकडाउन रहेगा, सरकार ने इसका नाम जन अनुशासन कर्फ्यू दिया है। संडे लॉकडाउन में सभी बाजार, ऑफिस, कमिर्शयल कॉम्प्लेक्स बंद रहेंगे।

8 बजे बाजार बंद करने के फैसले का जयपुर के व्यापारियों ने भी स्वागत किया। उन्होंने कहा कि आमतौर पर ग्राहक 8 बजे पहले ही खरीदारी कर लेता है। ऐसे में सरकार का यह फैसला व्यापारियों के लिए राहत और रियायत दोनों साथ लेकर आया है।
8 बजे बाजार बंद करने के फैसले का जयपुर के व्यापारियों ने भी स्वागत किया। उन्होंने कहा कि आमतौर पर ग्राहक 8 बजे पहले ही खरीदारी कर लेता है। ऐसे में सरकार का यह फैसला व्यापारियों के लिए राहत और रियायत दोनों साथ लेकर आया है।

जिन फैक्ट्रियों में लगातार प्रोडक्शन होता हो, नाइट शिफ्ट वाली फैक्ट्रियों को चालू रखने की छूट होगी। इनके कर्मचारियों को भी छूट होगी। आईटी, टेलीकॉम सेवाएं, मेडिकल दुकानें। शादी समारोह, इमरजेंसी सेवाओं वाले ऑफिस, माल लाने ले जाने वाले सभी वाहनों के साथ रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और एयरपोर्ट आने जाने वाले यात्रियों को छूट रहेगी।

8 बजे बाजार बंद करने के फैसले का फुटकर और थड़ी-ठेला व्यापारियों ने विरोध किया। उन्होंने कहा कि रेस्टोरेंट्स की तर्ज पर हमें भी रियायत मिलनी चाहिए क्योंकि हमारे यहां भी लोग देर रात ही पहुंचते हैं। लेकिन सरकार की सख्ती के बाद अब हम अपना व्यापार भी नहीं कर पा रहा है। ऐसे में दो वक्त की रोटी का जुगाड़ पाना भी मुश्किल हो जाएगा।
8 बजे बाजार बंद करने के फैसले का फुटकर और थड़ी-ठेला व्यापारियों ने विरोध किया। उन्होंने कहा कि रेस्टोरेंट्स की तर्ज पर हमें भी रियायत मिलनी चाहिए क्योंकि हमारे यहां भी लोग देर रात ही पहुंचते हैं। लेकिन सरकार की सख्ती के बाद अब हम अपना व्यापार भी नहीं कर पा रहा है। ऐसे में दो वक्त की रोटी का जुगाड़ पाना भी मुश्किल हो जाएगा।

धार्मिक स्थल श्रद्धालुओं के लिए सुबह 5 से रात 8 बजे तक खुले रहेंगे। फूल माला, प्रसाद, चादर लेकर जाने पर रोक रहेगी। इसके साथ ही सरकार ने नई गाइडलाइन में लोगों से मकर सक्रांति और लोहड़ी का पर्व घर पर ही मनाने की अपील की है।

गृह विभाग से जारी की गई पाबंदियों की गाइडलाइन के अनुसार शहरों में शादी समारोह से लेकर हर तरह के सार्वजनिक इवेंट में केवल 50 लोग ही शामिल हो सकेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में शादी से लेकर सार्वजनिक आयोजनों में 100 लोगों की लिमिट रहेगी।
गृह विभाग से जारी की गई पाबंदियों की गाइडलाइन के अनुसार शहरों में शादी समारोह से लेकर हर तरह के सार्वजनिक इवेंट में केवल 50 लोग ही शामिल हो सकेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में शादी से लेकर सार्वजनिक आयोजनों में 100 लोगों की लिमिट रहेगी।
राजस्थान में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बाद लागू हुई सख्ती का असर सैलानियों पर भी नजर आया। हमेशा देशी-विदेशी सैलानियों से गुलजार रहने वाले हवामहल पर मंगलवार शाम इक्का-दुक्का लोग ही नजर आए।
राजस्थान में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बाद लागू हुई सख्ती का असर सैलानियों पर भी नजर आया। हमेशा देशी-विदेशी सैलानियों से गुलजार रहने वाले हवामहल पर मंगलवार शाम इक्का-दुक्का लोग ही नजर आए।
सरकार की सख्ती के बाद बाजार के साथ सिनेमा, थिएटर, मल्टीप्लेक्स, अम्यूजमेंट पार्क, 50 फीसदी क्षमता के साथ रात 8 बजे तक ही खुलेंगे। इनमें भी केवल वैक्सीन की डबल डोज वाले ही जा सकेंगे।
सरकार की सख्ती के बाद बाजार के साथ सिनेमा, थिएटर, मल्टीप्लेक्स, अम्यूजमेंट पार्क, 50 फीसदी क्षमता के साथ रात 8 बजे तक ही खुलेंगे। इनमें भी केवल वैक्सीन की डबल डोज वाले ही जा सकेंगे।
शहर के बाजार बंद होने के बाद बरामदे में हाड़ कपाती सर्दी में गुजर बसर करने को मजबूर मजदूर सरकार के फैसले से काफी मायूस थे। उनका कहना था कि सरकार की सख्ती के बाद अब काम मिलना और ज्यादा मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में दो वक्त की रोटी भी शायद ही नसीब होगी।
शहर के बाजार बंद होने के बाद बरामदे में हाड़ कपाती सर्दी में गुजर बसर करने को मजबूर मजदूर सरकार के फैसले से काफी मायूस थे। उनका कहना था कि सरकार की सख्ती के बाद अब काम मिलना और ज्यादा मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में दो वक्त की रोटी भी शायद ही नसीब होगी।
रात 11 बजे लागू हुए लॉकडाउन के बाद शहर के प्रमुख बाजार पूरी तरह खाली हो गए। इस दौरान पुलिस के अलावा दूर-दूर तक कोई इंसान नजर नहीं आया। ऐसा ही नजारा शहर के त्रिपोलिया बाजार में भी सामने आया। जहां हमेशा शहरवासियों की भीड़ से आबाद रहने वाला बाजार पूरी तरह सुनसान दिखाई दिया।
रात 11 बजे लागू हुए लॉकडाउन के बाद शहर के प्रमुख बाजार पूरी तरह खाली हो गए। इस दौरान पुलिस के अलावा दूर-दूर तक कोई इंसान नजर नहीं आया। ऐसा ही नजारा शहर के त्रिपोलिया बाजार में भी सामने आया। जहां हमेशा शहरवासियों की भीड़ से आबाद रहने वाला बाजार पूरी तरह सुनसान दिखाई दिया।
जयपुर के चारदीवारी में नाइट कर्फ्यू का व्यापक असर नजर आया। चौड़ा रस्ता, जौहरी बाजार, बड़ी चौपड़, छोटी चौपड़, त्रिपोलिया बाजार, गणगौरी बाजार, किशनपोल, चांदपोल के साथ बाहरी क्षेत्र में भी बाजार 8 बजने के साथ ही बंद हो गए।
जयपुर के चारदीवारी में नाइट कर्फ्यू का व्यापक असर नजर आया। चौड़ा रस्ता, जौहरी बाजार, बड़ी चौपड़, छोटी चौपड़, त्रिपोलिया बाजार, गणगौरी बाजार, किशनपोल, चांदपोल के साथ बाहरी क्षेत्र में भी बाजार 8 बजने के साथ ही बंद हो गए।