• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Married Woman Gang raped, Then Attempted Murder: Being Taken From Jaipur To Indore Forest On The Pretext Of Getting Work, She Ran Away With Torture, Strangled Her As Dead

विवाहिता से गैंगरेप, फिर हत्या की कोशिश:काम दिलाने के बहाने जयपुर से इंदौर के जंगल में ले जाकर दरिंदगी, गला दबाया, मरा समझकर भागे

जयपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक विवाहिता से गैंगरेप का मामला सामने आया है। जयपुर की पीड़ित महिला को तीन आराेपी काम दिलाने के बहाने इंदौर ले गए, वहां एक जंगल में ले जाकर तीनों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। तीनों ने विवाहिता की गला दबाकर हत्या करने की भी कोशिश की। उसे मरा जानकर वहां से आरोपी निकल भागे। दो महीने पहले हुई इस वारदात में विवाहिता ने बीते 12 जनवरी को जयपुर के कानोता थाने में केस दर्ज कराया है।

काम दिलाने का पीड़िता को दिया था भरोसा
गैंगरेप के इस मामले में दो आरोपी पिता-पुत्र हैं, जो घटना के बाद फरार चल रहे है। मामले की जांच बस्सी एसीपी मेघचंद मीणा कर रहे है। बताया जा रहा है कि कानोता इलाके में जयपुर आगरा रोड पर एक बस्ती में रहने वाली 30 साल की पीड़िता पति के साथ मजदूरी कर परिवार का पेट पालती है। उसे पिछले साल नवंबर में उसे रुपयों की जरुरत थी। काम नहीं मिलने पर ठेकेदारी करने वाले गिरिराज, गंगाधर और गिरधारी ने उसे काम दिलवाने का भरोसा दिया और उसे लेकर मध्य प्रदेश चले गए।

कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर किया बेहाेश, फिर की वारदात
पीड़िता के मुताबिक, तीनों आरोपी उसे बगराना से मध्यप्रदेश लेकर चले गए। वहां इंदौर में सड़क के किनारे एक जंगल में कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया। इसके बाद तीनों आरोपियों ने विवाहिता के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।
होश आने पर राहगीरों की मदद ली आैर पति को बताई आपबीती
काफी संघर्ष करने के बाद भी वह खुद को दुष्कर्मियों के चंगुल से छुड़ा नहीं सकी। इसके बाद गला दबाकर उसकी हत्या करने का प्रयास भी किया। वह निढाल हो गई। तब उसे मरा हुआ समझकर तीनों आरोपी वहां से भाग निकले। होश में आने पर पीड़िता ने राहगीरों की मदद ली। उसने अपने पति से संपर्क कर आपबीती बताई। तब पति व अन्य परिजन उसे इंदौर से जयपुर लेकर आए।
कोर्ट इस्तगासे के जरिए महिला ने थाने में दर्ज कराया केस
एसीपी मेघचंद के मुताबिक महिला ने कोर्ट इस्तगासे के जरिए तीनों आरोपियों के खिलाफ कानोता थाने में केस दर्ज करवाया है। उसके बयान दर्ज कर आरोपियों के बारे में जानकारी हासिल की जा रही है। पीड़िता का मेडिकल मुआयना करवाकर घटनास्थल की तस्दीक भी की जाएगी। इससे सच्चाई सामने आ सके। एसीपी के मुताबिक महिला ने मुकदमा दर्ज करवाने में 2 महीने की देरी क्यों की। इसके बारे में ज्यादा कुछ बोला नहीं है। इससे पहले वह खुद पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज करवाने नहीं आई थी।

खबरें और भी हैं...