कार्रवाई:‘ब्लेंडेड एडिबल वेजिटेबल ऑयल’ की क्वालिटी की जांच करेगा चिकित्सा विभाग

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना में ‘ब्लेंंडेड एडिबल वेजिटेबल ऑयल’ में मिलावट करने वालों की खैर नहीं है। दूध, मसालों के बाद ब्लेंडेड एडिबल ऑयल के लिए अभियान चलाया जाएगा। इससे खाद्य तेल की क्वालिटी और मिलाए जाने वाले तेल का प्रतिशत का पता चल सकेगा।

मौजूदा स्थिति में एफएसएसएआई ने राजस्थान समेत देशभर के सभी राज्यों में ब्लेंडेड एडिबल वेजिटेबल ऑयल के लिए सर्विलेन्स के आधार पर सैंपल लेकर जांच करने और रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं।  फूड सेफ्टी एक्ट के अनुसार मिश्रित किया तेल 20 फीसदी से कम नहीं होना चाहिए।

लेबलिंग में खाद्य तेल का नाम व प्रतिशत के साथ ही स्वास्थ्य पर असर अंकित होना चाहिए। निदेशक (जन स्वास्थ्य) एवं फूड सेफ्टी कमिशनर डॉ. केके शर्मा का कहना है कि कोरोनाकाल में खाद्य पदार्थों में मिलावट की जांच के लिए सैंपलिंग करके लैब में भेजने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा है।

खबरें और भी हैं...