• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Mixed The Illiterate Person Running The Dhaba As A Bank Manager, Pretended To Get 15 Lakh Loan, Took Three Tractors By Taking Documents

लोन के नाम पर झांसा देकर निकलवाए ट्रैक्टर:ढाबे चलाने वाले अनपढ़ व्यक्ति को बैंक मैनेजर बता कर मिलाया, 15 लाख लोन दिलाने का दिया झांसा, डॉक्यूमेंट्स लेकर खुद ने तीन ट्रैक्टर ले लिए

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लोन दिलाने का झांसा देकर दस्तावेजों पर बैंकों से ट्रैक्टर लेने वाले एक शातिर ठग को अजमेर से गिरफ्तार किया है। यह लोगों को बैंक अधिकारी बनकर लोन दिलाने का झांसा दिलाता है। उनके दस्तावेजों पर साइन करवा कर अलग-अलग बैंकों से लोन लेकर ट्रैक्टर निकलवाता है। ट्रैक्टर लोन पर लेकर उन्हें कहीं दूर गांवों में बेच देता है।

जयपुर ग्रामीण एसपी शंकरदत्त शर्मा ने बताया कि हेमराज वैष्णव(38) पुत्र भंवरलाल निवासी कसाणा सरवाड़ अजमेर को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि 1 अप्रैल 21 को नानूराम कुमावत (50) निवासी जालसू आमेर ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिसमें उसने बताया कि वह अनपढ़ है। केवल हस्ताक्षर करना ही जानता है। वह ढाबा चलाता है। उस पर काफी कर्जा हो गया था। कर्जा उतारने के लिए उसे 15 लाख रुपए के लोन की जरूरत थी। उसने पड़ोसी महेंद्र शर्मा को लोन के बारे में बताया। तब उसने बैंक में जान पहचान होने की बात कहीं। इसके बाद उसने लोन जल्दी दिलाने का आश्वासन दिया। उसने हेमराज शर्मा से मिलवाया और कहा कि ये बैंक मैनेजर है। ये तुम्हें लोन दिला देंगे। जैसा ये कहेंगे, वैसा ही करना होगा। वह उनकी बातों में आ गया।

तीन दिन बाद घर से चैक लिए

महेंद्र और हेमराज शर्मा दोनों तीन दिन के बाद उसके घर पर आए। उसे कहा कि तुम्हे एक बैंक से लोन नहीं मिलेगा। इसके लिए तुम्हारी फाइल तीन बैंकों में लगानी होगी। तुम्हें तीन बैंकों से 5-5 लाख रुपए दिला देंगे। उसने फाइलों पर हस्ताक्षर करवा लिए। उसने तीन बैंकों से लोन के लिए गारंटी के तौर पर खाली चैक पर साइन करने को कहा। उसके पास दो ही बैंक के चेक थे। तब उन दोनों ने अलग से बैंक में खाता खुलवाने के लिए कागज ले लिए। गवाह के तौर पर उसकी पत्नी व बेटे के भी साइन करवा लिए।

लोन पर तीन ट्रैक्टर निकलवाए

दोनों ने उससे तीन चैक पर साइन करवा लिए थे। उसे कहीं से भी लोन नहीं दिलाया था। बाद में उसे पता लगा कि उसके नाम से तीन ट्रैक्टर निकलवाए गए है। उनकी किश्तें बाउंस होने पर बैंक के कर्मचारी घर पर आने लगे। उसे ट्रैक्टर के लोन के बारे में कुछ भी पता नहीं था। पुलिस ने मोबाइल की लोकेशन व जांच के आधार पर अजमेर से आरोपी को पकड़ लिया।

खबरें और भी हैं...