ओमिक्रॉन के लिए कितना तैयार है राजस्थान:तीसरी लहर से निपटने के लिए 300 ICU समेत 1200 ऑक्सीजन सपोर्ट बेड तैयार

जयपुर6 महीने पहले

तेजी से पैर पसारते कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने राजस्थान में भी दस्तक दे दी है। इस नए वैरिएंट के एक साथ 9 मरीज जयपुर में मिलने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। इन सभी को राजस्थान के सबसे बड़े कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (RUHS) में भर्ती किया गया है। अब नए वैरिएंट के केस बढ़ने की आशंका भी गहराने लगी है। कुल मिलाकर तीसरी लहर से इनकार नहीं किया जा सकता। तीसरी लहर से निपटने के लिए राजस्थान सरकार की तैयारियां क्या हैं? जानिए इस रिपोर्ट में।

RUHS में लगे लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट।
RUHS में लगे लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट।

7 हजार सिलेंडर ऑक्सीजन का बैकअप

RUHS के सुप्रिटेंडेंट डॉ. अजीत सिंह के मुताबिक, इस हॉस्पिटल में नए वैरिएंट से लड़ने के लिए 7 हजार सिलेंडर का बैकअप प्लान है। यहां एक लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट पहले से लगा है। इतनी ही क्षमता का एक प्लांट और लग गया है। इसका इंस्टॉलेशन हो गया है। एक-दो दिन में वर्किंग करने लगेगा। इसके अलावा 5 ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाए गए हैं। इसमें 3600 सिलेंडर प्रतिदिन की क्षमता के साथ ऑक्सीजन जनरेशन होगा। इसके अलावा ऑक्सीजन कॉन्सन्ट्रेट और सलेंडर का बैकअप अलग है। कोरोना की दूसरी लहर के समय 1700 सिलेंडर लिक्विड ऑक्सीजन टैंक से और 600 ऑक्सीजन सिलेंडर समेत कुल 2400 सिलेंडर के जरिए मरीजों का इलाज किया था। अब इस कैपेसिटी को बढ़ाकर 7 हजार सिलेंडर तक पहुंचा दिया गया है।

हॉस्पिटल में ऑक्सीजन सपोर्ट के जनरल बेड।
हॉस्पिटल में ऑक्सीजन सपोर्ट के जनरल बेड।

1200 ऑक्सीजन बेड की कैपेसिटी
RUHS में कुल 1200 बेड हैं। इनमें 300 बेड ICU और वेंटिलेटर के हैं। 900 बेड ऑक्सीजन सपोर्ट वाले हैं। इनमें 90 फीसदी से ज्यादा बेड पर पाइपलाइन के जरिए ऑक्सीजन सप्लाई हो रही है। RUHS के सुप्रिटेंडेंट ने बताया कि जरूरत पड़ने पर ऑक्सीजन सिलेंडर वाले बेड की संख्या को करीब 100 और बढ़ाया जा सकता है। अप्रैल-मई में जब कोरोना की दूसरी लहर में बड़ी संख्या में मरीज आए थे, तब बरामदों और ग्राउंड फ्लोर पर ओपन में बेड लगाकर मरीजों का इलाज किया था और उन्हें सिलेंडर के जरिए ऑक्सीजन दी गई थी।

ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट।
ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट।

ओमिक्रॉन के मरीजों के लिए 60 बेड का डेडिकेटेड फ्लोर रिजर्व
9 मंजिला RUHS हॉस्पिटल में 5वें फ्लोर को ओमिक्रॉन संदिग्ध मरीजों या पॉजिटिव मरीजों के लिए रिजर्व कर दिया गया है। इस फ्लोर पर 60 हाई फ्लो ऑक्सीजन के जनरल बेड हैं। इसके अलावा तीसरे फ्लोर पर बने आईसीयू सेक्शन में 20 बेड की एक यूनिट को भी ओमिक्रॉन मरीजों के लिए रिजर्व कर दिया गया है। इसके अलावा छोटे बच्चों के लिए 20 बेड का ICU वार्ड भी अलग है।

राजस्थान में मिले ओमिक्रॉन के 9 केस:दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के 4 लोग, संपर्क में आए 5 रिश्तेदारों की रिपोर्ट पॉजिटिव

राजस्थान आ गया ओमिक्रॉन, एक्सपर्ट से जानें कैसे बचें:घातक है नया वैरिएंट, डबल डोज ले चुके लोग भी इसे हल्के में न लें

खबरें और भी हैं...