मोदी कैबिनेट में राजस्थान से दो मंत्री बनने की उम्मीद:ये छह हैं दावेदार, दो पहले से दिल्ली में मौजूद; अभी किसी के पास नहीं आया फोन

जयपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार का कांउटडाउन शुरू हो चुका है। इसको लेकर राजस्थान के बीजेपी नेताओं में भी हलचल है। राजस्थान के 6 नेता केंद्र में मंत्री बनने की दावेदारी में हैं। ​राजस्थान से एक मंत्री को ड्रॉप करके 2 नए चेहरों को मौका दिए जाने के कयास लगाए जा रहे हैं। केंद्र में राजस्थान से अभी तीन मंत्री हैं, जिनमें से गजेंद्र सिंह कैबिनेट और अर्जुन मेघवाल और कैलाश चौधरी राज्य मंत्री हैं। गजेंद्र सिंह के पास अभी जलशक्ति मंत्रालय है। उनका कद बढ़ाया जा सकता है। एक मंत्री को ड्रॉप करने की चर्चा है। एक नया चेहरा और एक ड्रॉप करने वाले की जगह को मिलाकर 2 मंत्री बनाए जाने की चर्चाएं हैं।

2 सांसद पहुंच चुके हैं दिल्ली

मोदी कैबिनेट विस्तार में चूरू सांसद राहुल कस्वां, सीकर सासंद सुमेधानंद सरस्वती, चित्तौड़गढ़ सांसद सीपी जोशी, राजसमंद सांसद दीया कुमारी, पाली सांसद पीपी चौधरी और राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव के नाम चर्चा में हैं। राजनीतिक गलियारों में राहुल कस्वां, सुमेधानंद सरस्वती और सीपी जोशी के नामों की ज्यादा चर्चा है। सुमेधानंद सरस्वती और राहुल कसवा दिल्ली में ही हैं। सीपी जोशी का भी आज देर रात तक दिल्ली पहुंचने का कार्यक्रम है।
कई सांसदों को फोन का इंतजार! नई ड्रेस भी सिलवा ली
राजस्थान से मंत्री पद के दावेदार कई सांसद शपथ ग्रहण समारोह के फोन का इंतजार कर रहे हैं। दिल्ली में कई नेताओं ने तो शपथ ग्रहण समारोह के लिए नई ड्रेस भी रातों रात सिलवा ली है। दावेदार नेता फोन पर तत्काल उपलब्ध हो रहे हैं।

राजस्थान के दावेदारों के सियासी समीकरण

राहुल कस्वां

राहुल कस्वां चूरू से लगातार दूसरी बार सांसद हैं। राहुल के पिता रामसिंह कस्वा चूरू से सांसद रहे हैं। शेखावाटी के क्षेत्रीय और जातीय सियासी समीकरणों के लिहाज से राहुल कस्वां का नाम दावेदारों में है।

सुमेधानंद सरस्वती

सीकर से लगातार दूसरी बार सांसद सुमेधानंद सरस्वती की निर्विवाद छवि है। आर्य समाज से हैं। आर्य समाज से उत्तर भारत में बड़ा वर्ग जुड़ा है। आर्य समाज के अलावा किसान जातियों में भी उनका अच्छा प्रभाव है। इस वर्ग को मैसेज देने के लिए सुमेधानंद को मंत्री बनाया जा सकता है।
सीपी जोशी

चितौड़गढ़ सांसद सीपी जोशी आरएसएस के नजदीकी हैंं। आरएसएस उनकी पैरवी भी कर रहा है। ढंग से पैरवी हुई तो सीपी जोशी को मौका मिल सकता है। मेवाड़ का केंद्रीय मंत्रिमंडल में अभी प्रतिनिधित्व भी नहीं है।

दीया कुमारी

राजसमंद से सासंद और सवाईमाधोपुर से विधायक रह चुकीं दीया कुमारी जयुपर के पूर्व राजघराने से संबंध रखती हैं। उन्हें मौका देने पर मेवाड़ और जयपुर दोनों क्षेत्रों में मैसेज जाता है। इसलिए उनके नाम की चर्चा है।
भूपेंद्र यादव

राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव बीजेपी में लीगल मामलों में वरिष्ठ नेताओं की मदद करने के साथ संगठनात्मक कामों और इलेक्शन मैनेजमेंट संभालते रहे हैं। यूपी चुनावों को देखते हुए उन्हें मौका दिया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...