जयपुर में 7 साल की बच्ची से रेप:टॉफी देने के बहाने पड़ोसी ने बच्ची से किया दुष्कर्म, रोते हुए घर पहुंची तब हुआ खुलासा, आरोपी के बच्चों के साथ ही खेलती थी मासूम, आरोपी फरार

जयपुर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भट्‌टा बस्ती इलाके में सात साल की बच्ची से पड़ोसी द्वारा दुष्कर्म का प्रयास करने का मामला सामने आया है। घटना के बाद से आरोपी फरार है - Dainik Bhaskar
भट्‌टा बस्ती इलाके में सात साल की बच्ची से पड़ोसी द्वारा दुष्कर्म का प्रयास करने का मामला सामने आया है। घटना के बाद से आरोपी फरार है

शहर में सात साल की एक मासूम बच्ची को टॉफी का लालच देकर पड़ोसी युवक ने दुष्कर्म किया। घटना का पता चलने पर पीड़िता बच्ची की मां ने भट्‌टा बस्ती थाने में पॉक्सो एक्ट व अन्य आपराधिक धाराओं में गुरुवार देर रात केस दर्ज करवाया। इस मामले का खुलासा शुक्रवार को हुआ। आरोपी युवक फरार है। पुलिस के अनुसार भट्‌टा बस्ती इलाके में एक कॉलोनी में रहने वाली सात साल की बच्ची 12 मई को अपने घर के बाहर खेल रही थी।

शाम करीब पौने 7 बजे वह रोते बिलखते हुए अपने घर पहुंची। उसकी हालत देखकर बच्ची की मां ने उसे चुप करवाया। तब बातचीत में बच्ची ने बताया कि वह घर के बाहर खेल रही थी। तभी पड़ोस में रहने वाला भूरा उसके पास आया। उसने टॉफी देने का लालच दिया और अपने साथ घर ले गया। वहां कमरे में आरोपी भूरा ने बच्ची के कपड़े उतार दिए और उसके साथ अश्लील हरकतें करने लगा।

इससे बच्ची घबरा गई। वह जोर जोर से रोने लगी तो भूरा ने उसे डराकर चुप करवाया। बाद में उसे घर से बाहर छोड़ आया। घटना का पता चलने पर बच्ची की मां ने आस पड़ोस के लोगों को जानकारी दी। तब वे सभी भूरा के घर पहुंचे। लेकिन तब तक वह कमरे से भाग निकला था। तब परिजन रिपोर्ट दर्ज करवाने थाने पहुंचे।

घर में आना-जाना था युवक का : पीड़िता की मां ने बताया कि पड़ोसी युवक का अक्सर घर पर आना जाना लगा रहता था। वह बच्चों को कुछ न कुछ खाने को देता था। परिवार जैसे संबंधों के कारण कभी भी उन्होंने गलत नहीं सोचा, लेकिन मौका का फायदा उठाकर इतनी गंदी हरकत कर देगा यह पता नहीं था। पुलिस के अनुसार भूरा का भी अपना परिवार है। उसके बच्चे भी पीड़िता बच्ची के साथ खेलते हैं। घटना के वक्त बच्ची जब खेलने गई तब भी वह उन बच्चों के साथ ही खेल रही थी। भूरा की पत्नी भी बाहर गई हुई थी।

बच्ची अब तक सदमे में : मासूम बच्ची घटना को लेकर अभी तक डरी हुई है। वह बार-बार रोने लगती है। मां और आसपड़ोस के लोग उसे संभालते है तब जाकर बच्ची रोना बंद करती है।

खबरें और भी हैं...