पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत की बात:महिला चिकित्सालय में न तो संक्रमित महिला और ना ही बच्चा भर्ती, जयपुर में 17 नए संक्रमित मरीज दर्ज, लेकिन मौत नहीं

जयपुर2 महीने पहलेलेखक: सुरेन्द्र स्वामी
  • कॉपी लिंक
  • अप्रैल-मई माह में जहां बेड और ऑक्सीजन की मारामारी थी, वहां पर अब वार्ड सूने

राजधानी के लिए राहत वाली खबर है। एक और जहां जुलाई माह में कोरोना संक्रमित मरीजों का ट्रेंड रोजाना का औसत 14 से 17 चल रहा है, वहीं कोविड सेन्टरों पर वार्ड खाली पड़े है। रविवार को 10 क्षेत्रों में 17 नए संक्रमित मरीज मिले है। एक्टिव केसेज की संख्या घटकर 198 रह गई है। प्रदेश के सबसे बड़े बड़े आरयूएचएस कोविड सेन्टर में पिछले पांच दिन से बच्चों का वार्ड खाली पड़ा है।

ये ही नहीं 5 बैड की आईसीयू में भी गुरुवार को भर्ती बच्चे को भी डिस्चार्ज कर दिया। मौजूदा स्थिति में न तो आईसीयू और ना ही वार्ड में एक भी बच्चा भर्ती नहीं है। ऐसे लग रहा है जैसे कोरोना संक्रमण अंतिम सांस ले रहा है। कोरोना की दूसरी लहर में अप्रेल-मई में जहां बैड और आक्सीजन की मारामारी थी। जहां पर वार्ड में एक भी बच्चा भर्ती नहीं है। लेकिन बच्चों में तीसरी लहर के लिए डॉक्टरों ने पहले से अलर्ट कर दिया है।

इधर, डेडिकेटेड कोविड सेन्टर महिला चिकित्सालय सांगानेरी गेट में भी न तो संक्रमित महिला और ना ही बच्चा भर्ती है। महिला चिकित्सालय सांगानेरी गेट की अधीक्षक डॉ.आशा वर्मा ने बताया कि पिछले 20 दिन से एक भी कोविड मरीज भर्ती नहीं है।

अब तक जयपुर की स्थिति

सैंपलिंग- 2086415 पॉजिटिव- 187394 डेथ -1970 रिकवर-185226

(11 जुलाई तक सिर्फ आरयूएचएस अस्पताल के बच्चों का वार्ड)

खबरें और भी हैं...