• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • New Provisions Of Certificates Necessary To Take Advantage Of Class Or Category Have Blown Up 1.50 Lakh Candidates Will Be Affected By The New Rules

अभ्यर्थियों की पात्रता पर संकट:वर्ग या श्रेणी का लाभ लेने के लिए जरूरी प्रमाण पत्रों के नए प्रावधानों से 1.50 लाख अभ्यर्थी होंगे प्रभावित

जयपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटवार, वनपाल, कांस्टेबल भर्ती, ग्राम विकास अधिकारी और फायरमैन भर्ती की आवेदन की अंतिम तिथि निकले महीनों बीते - Dainik Bhaskar
पटवार, वनपाल, कांस्टेबल भर्ती, ग्राम विकास अधिकारी और फायरमैन भर्ती की आवेदन की अंतिम तिथि निकले महीनों बीते

राज्य सरकार की ओर से भर्तियों में किसी वर्ग या संबंधित श्रेणी का लाभ देने के लिए जरूरी प्रमाण पत्र को लेकर तय किए गए नए नियमों ने करीब 1.50 लाख अभ्यर्थियों की नींद उड़ा दी है। कई ऐसी बड़ी भर्तियां हैं जिनके लिए अभ्यर्थी आवेदन कर चुके हैं। कुछ भर्तियों की तो परीक्षा भी दे चुके हैं। लेकिन अब पात्रता पर ही संकट खड़ा हो गया है क्योंकि इनके पास संबंधित श्रेणी का प्रमाण पत्र नहीं है।

उन्होंने प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कर रखा है जो अब बनकर आएगा। ऐसे मामले सबसे अधिक अभ्यर्थी पटवार भर्ती, वनपाल, कांस्टेबल भर्ती, ग्राम विकास अधिकारी भर्ती और फायरमैन भर्ती में है। सरकार कह रही है कि कैटेगरी का लाभ तभी मिलेगी जब अभ्यर्थी के पास आवेदन की अंतिम तिथि तक का बना हुआ प्रमाण पत्र होगा। दूसरी तरफ इन भर्तियों की आवेदन की अंतिम तिथि निकले महीनों हो गए हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि नए प्रावधान नई भर्तियों से लागू किया जाए। प्रक्रियाधीन भर्तियों में नए प्रावधान लागू नहीं किया जाना चाहिए।

केस-1
मुरलीपुरा निवासी रविकांत का कहना है कि उसने पटवारी भर्ती के लिए ईडब्ल्यूएस कैटेगरी में आवेदन किया था। इस प्रमाण पत्र को बनवाने की पेचीदगियों के चलते अभी तक उसके पास यह प्रमाण पत्र बनकर नहीं आया है। अब सरकार के नए नियम से तो उसके सामने भर्ती से बाहर होने की नौबत आ गई है।

केस-2
बरकत नगर निवासी मोहन शर्मा का कहना है कि मैंने सहायक अग्निशमन अधिकारी भर्ती के लिए आवेदन कर रखा है। अभी तक जाति प्रमाण पत्र नहीं आया है। वह अगले कुछ दिनों में बनकर आ जाएगा, लेकिन सरकार के नए प्रावधान से तो भर्ती परीक्षा में शामिल हुए बिना ही दौड़ से बाहर होने की नौबत आ गई है।

सरकार ने यह बनाया है नया नियम, मुख्यमंत्री गहलोत दे चुके हैं मंजूरी
विभिन्न भर्तियों में अनुसूचित जाति, जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अति पिछड़ा वर्ग एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के अभ्यर्थियों की पात्रता का मूल्यांकन आवेदन की अंतिम तिथि तक जारी प्रमाण-पत्र के आधार पर ही किया जाएगा। अंतिम तिथि के पश्चात जारी प्रमाण-पत्र के आधार पर अभ्यर्थियों को संबंधित श्रेणी अथवा वर्ग का लाभ नहीं मिलेगा। इस संबंध में कार्मिक विभाग द्वारा सभी विभागों को जारी किए जाने वाले परिपत्र को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंजूरी दे दी है।

नई भर्तियों से लागू करने की मांग

  • सरकार नए प्रावधान नई भर्तियों से लागू करें। प्रक्रियाधीन भर्तियों में अगर इन नियमों को लागू किया गया तो बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों को नुकसान होगा। सरकार को ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र बनाने के नियमों का और अधिक सरलीकरण करना चाहिए। - डॉ. दीपेंद्र शर्मा, संरक्षक, राजस्थान बेरोजगार संघ
  • जिन भर्तियों के आवेदन की अंतिम तिथि निकल चुकी है। ऐसी सभी भर्तियों को नए प्रावधान से बाहर रखा जाए। कार्मिक विभाग जिस दिन यह नियम लागू करे। उसके बाद आने वाली भर्तियों पर ही इन नियमों को लागू किया जाए। - उपेन यादव, प्रदेशाध्यक्ष, राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ
खबरें और भी हैं...