• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Nimbaram Was Questioned For Three Hours Over A Bribe Of Rs 20 Crore, Reached ACB Headquarters With The Order Of The High Court, Also Asked Questions And Answers About The Husband Of The Former Mayor

RSS प्रचारक निंबाराम ACB में पेश:20 करोड़ की रिश्वत को लेकर 3 घंटे पूछताछ, पूर्व मेयर के पति के संबंध में भी सवाल हुए

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
RSS प्रचारक निंबाराम। - Dainik Bhaskar
RSS प्रचारक निंबाराम।

जयपुर में बीवीजी इंडिया के 276 करोड़ रुपए का बकाया भुगतान के बदले 20 करोड़ रुपए की रिश्वत मांगने से जुड़े मामले में आरएसएस प्रचारक निंबाराम शुक्रवार को ACB मुख्यालय पहुंचे। ACB में निंबाराम से 3 घंटे तक पूछताछ हुई। वे हाईकोर्ट के ऑर्डर व कुछ दस्तावेज लेकर पहुंचे थे। 29 सितम्बर को ही हाईकोर्ट से निंबाराम को राहत मिली थी। कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर एक सप्ताह तक रोक लगा दी है। कोर्ट ने ACB में जांच के लिए पेश होने के आदेश दिए थे।

निंबाराम हाईकोर्ट के ऑर्डर की कॉपी व कुछ दस्तावेज लेकर शुक्रवार को दोपहर करीब 3 बजे ACB मुख्यालय पहुंचे। वह एडीसीपी राजेंद्र नैन के पास पेश हुए। निंबाराम से कई सवाल-जवाब किए गए। जांच अधिकारी ने उनसे कई दस्तावेज भी मांगे। उन्होंने कुछ दिनों के बाद दस्तावेज देने की बात कही। पूर्व मेयर सौम्या गुर्जर के पति राजाराम गुर्जर और बीवीजी कंपनी के प्रतिनिधि ओमकार सप्रे को लेकर भी पूछताछ की गई। शाम 6 बजे के बाद वे ACB मुख्यालय से निकले।

तीन महीने पहले दर्ज हुई थी एफआईआर

तीन महीने पहले ACB ने नगर निगम ग्रेटर जयपुर की निलंबित महापौर डॉ. सौम्या गुर्जर के पति राजाराम गुर्जर, बीवीजी कंपनी के प्रतिनिधि ओमकार सप्रे, मैनेजर संदीप चौधरी और आरएसएस प्रचारक निंबाराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। निंबाराम पर लेनदेन की बातचीत में सहयोगात्मक भूमिका का आरोप लगाया था। वीडियो में राजाराम, ओमकार सप्रे, संदीप चौधरी के साथ निंबाराम भी बातचीत करते हुए नजर आए थे।

हाईकोर्ट में दायर की थी याचिका
करीब एक महीने पहले निंबाराम ने एसीबी में दर्ज FIR और कार्रवाई को रद्द करवाने के लिए राजस्थान हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। इसमें निंबाराम की ओर से कहा गया कि प्रकरण में याचिकाकर्ता का नाम राजनीतिक द्वेष के चलते शामिल किया है। सत्तारूढ़ पार्टी के नेता सार्वजनिक मंच पर उनके खिलाफ बयानबाजी कर प्रस्ताव पारित कर रहे हैं और उनकी गिरफ्तारी के बयान दे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...