पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परिवहन विभाग:मोटर व्हीकल एक्ट में नियम नहीं पर डीएल रिन्यूवल पर 2 दिन ट्रेनिंग जरूरी

जयपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर ट्रक ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर चेंबर के प्रदेशाध्यक्ष गोपाल सिंह राठौड़ का कहना है कि यह नियम इंस्टीट्यूट को पनपाने के लिए बनाया जा रहा है। इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। अफसरों के मंथली आएगी।  - Dainik Bhaskar
जयपुर ट्रक ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर चेंबर के प्रदेशाध्यक्ष गोपाल सिंह राठौड़ का कहना है कि यह नियम इंस्टीट्यूट को पनपाने के लिए बनाया जा रहा है। इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। अफसरों के मंथली आएगी। 
  • भारी वाहन चलाने वालों के लिए अनिवार्य ताकि ड्राइविंग परखी जा सके

मोटर व्हीकल एक्ट को दरकिनार कर परिवहन विभाग के अधिकारी ड्राइविंग लाइसेंस के रिन्यूवल से पहले भारी वाहनों के ड्राइवरों की दो दिन की ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर संस्थान से आवासीय ट्रेनिंग को अनिवार्य कर रहे हैं। इनका तर्क है कि इस ट्रेनिंग से ड्राइवरों की स्किल को परखा जा सकेगा।

हैरानी की बात यह कि मोटर व्हीकल एक्ट में ऐसी किसी ट्रेनिंग का प्रावधान ही नहीं है। विभाग ने 28 जून को ड्राफ्ट जारी कर 27 जुलाई तक आपत्ति मांगी है। ड्राफ्ट में मोटर वाहन अधिनियम 1988 की धारा 96 (2) का प्रयोग करके नियम बनाने का उल्लेख किया गया है, लेकिन धारा 96 (2) में कहीं भी सरकार को लाइसेंस रिन्यूवल के लिए नियम बनाने की शक्ति नहीं दे रखी है।

एक्ट की धारा 28 में भी शक्ति का प्रावधान है, लेकिन इस तरह का प्रावधान नहीं। एक्ट के तहत विभाग रहने, खाने-पीने और फीस भी निर्धारित नहीं कर सकता। जयपुर ट्रक ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर चेंबर के प्रदेशाध्यक्ष गोपाल सिंह राठौड़ का कहना है कि यह नियम इंस्टीट्यूट को पनपाने के लिए बनाया जा रहा है। इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। अफसरों के मंथली आएगी।

खबरें और भी हैं...