• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • No Water Supply, Department Of Public Affairs; Roads Worth 13 Crores Were Broken In Laying A Pipeline Of 51 Crores, Daily Accidents

अमृत योजना:जलदाय नहीं, जनकष्ट विभाग; 51 करोड़ की पाइप लाइन डालने में 13 करोड़ की सड़कें तोड़ीं, रोज हादसे

जयपुर4 महीने पहलेलेखक: शिव प्रकाश शर्मा
  • कॉपी लिंक
37 किमी पाइप लाइन डालने का काम 2 साल पहले शुरू हुआ था...अभी पूरा नहीं - Dainik Bhaskar
37 किमी पाइप लाइन डालने का काम 2 साल पहले शुरू हुआ था...अभी पूरा नहीं

सरकारी एजेंसियां जनता के दर्द के प्रति कितनी संवेदनशील हैं, इसकी बानगी परकोटे की सड़कों पर बिखरी पड़ी है। जलदाय विभाग ने अमृत योजना में परकोटे में 2 साल में 51.35 कराेड़ खर्च कर यहां 37 किमी लंबी पेयजल पाइप लाइन बदली है। इसके लिए 13 करोड़ की तो सड़कें तोड़ दीं। रोड कट के 13 करोड़ हेरिटेज निगम में जमा कराने थे लेकिन 2.5 करोड़ ही जमा कराए। ये रुपए भी निगम लेकर बैठ गया है।

ऐसे में हर दिन यहां हादसे हो रहे हैं। निगम ने राेड कट के लिए किशनपोल जाेन क्षेत्र में 8 कराेड़ और हवामहल जाेन में 5 कराेड़ रुपए मांगे हैं। जलदाय ने केवल किशनपोल जाेन के 2.5 कराेड़ रुपए जमा कराए, हवामहल जोन की राशि नहीं दी है।

यहां लाइन बदली, अब गड्‌ढे मुसीबत बन गए हैं
चौकड़ी मोदीखाना, चौकड़ी विश्वेश्वर, चौकड़ी सरद, चौकड़ी रामचंद्र में 37 किमी लंबी पाइप लाइन बदली गई है। सुभाष चाैक, चांदी की टकसाल, हवामहल राेड, ब्रह्मपुरी राेड, जौहरी बाजार आदि क्षेत्र में गड्‌ढों काे मिट्टी से भरकर छोड़ दिया, पक्का नहीं किया गया है। ऐसे में राहगीरों और वाहन चालकों को परेशानी हाे रही है।

राेड कट से वाहनों काे बचाने के प्रयास में जौहरी बजार, हवामहल राेड आमेर राेड पर आए दिन हादसे होते हैं। चारदीवारी क्षेत्र व आमेर में पर्यटकों की आवाजाही रहती है। इससे पर्यटकों की नजर में शहर की छवि भी बिगड़ रही है। कई वाहन तो गड्‌ढों में इस कदर फंसे कि ट्रैफिक पुलिस काे क्रेन की मदद से निकालना पड़ा।

वाहन फंस जाते हैं, लोग परेशान, सुनवाई नहीं
सुभाष चाैक निवासी अजय सक्सेना, निरंजन शर्मा, रणजीत माेदी कहते हैं, हवामहल राेड, चांदी की टकसाल मुख्य राेड सहित गलियाें में गड्ढों में वाहन फंस जाते हैं। हादसे की आशंका रहती है। कई वाहनाें काे तो क्रेन के जरिए निकालना पड़ता है। लगातार जाम लगा रहता है।

  • जमा राशि के तहत टेंडर प्रक्रिया चल रही है। राेड जल्द दुरुस्त होंगे। बाकी पैसा पीएचईडी से मांग रहे हैं। - मुनेश गुर्जर, मेयर, हेरिटेज निगम
खबरें और भी हैं...