अंगदान-महादान:जयपुर में अब 5 मेडिकल कॉलेज ब्रेन डेड मरीजों के अंग निकालकर भेज सकेंगे

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकार ने अजमेर, बीकानेर, कोटा, जोधपुर एवं झालावाड़ मेडिकल कॉलेज में रिट्राइवल सेन्टर की अनुमति दी

किडनी, दिल, पेन्क्रियाज जैसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे मरीजों के लिए राहत वाली खबर है। अजमेर, कोटा, बीकानेर, जोधपुर एवं झालावाड़ मेडिकल कॉलेज ब्रेन डेड मरीजों के परिजनों से काउंसलिंग व सहमति, ब्रेन डेड सर्टिफाइड और अंग निकालकर जयपुर स्थित ट्रांसप्लांट सेन्टर पर भेज सकेंगे। इन सेन्टरों को नॉन ट्रांंसप्लांट ऑर्गन रिट्राइवल सेन्टर के नाम से जाना जाएगा। कॉलेज ऑर्गन सरकार की ओर से मान्यता प्राप्त ट्रांसप्लांट सेन्टरों पर ही भेज सकेंगे।

केडेवर ट्रांसप्लांट के स्टेट नोडल अधिकारी डॉ. मनीष शर्मा का कहना है कि रिट्राइवल सेन्टरों को सरकार ने अनुमति दे दी है। और अब ब्रेन डेड मरीजों का अंग निकालकर ट्रांसप्लांट सेन्टरों को भेजने से वेटिंग कर रहे अंग लेने वालों को नई जिन्दगी मिल सकेगी।

कहां किस अस्पताल में किस ट्रांसप्लांट की सुविधा

1. किडनी : जयपुर (एसएमएस, महात्मा गांधी, मोनीलेक, एपेक्स, फोर्टिस, निम्स, ईएचसीसी, एसडीएमएच, रुकमणि बिरला हॉस्पिटल, मणिपाल), श्रीगंगानगर, उदयपुर 2. लीवर : एसएमएस, महात्मा गांधी, निम्स जयपुर 3. हार्ट : एसएमएस, महात्मा गांधी, नारायणा, ईटरनल, फोर्टिस 4. लंग्स: महात्मा गांधी अस्पताल 5. पेन्क्रियाज: महात्मा गांधी अस्पताल 6. कॉर्निया: रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ ऑफ्थेल्मोलोजी जयपुर

कहां कितने ट्रांसप्लांट
किडनी 67
लीवर 32
हार्ट 18
लंग्स 1
पेन्क्रियाज 1
कॉर्निया 12
हार्ट वाल्व 02
(विभिन्न अस्पतालों में हुए ट्रांसप्लांट)

खबरें और भी हैं...