ग्रेड थर्ड टीचर्स के ट्रांसफर पर लगी रोक:अब जिले से जिले में भी नहीं होगा ट्रांसफर, 85 हजार से ज्यादा ने पिछले साल किया था आवेदन

जयपुर4 महीने पहले
शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला बोले जल्दी आएगी ट्रांसफर लिस्ट। (फाइल फोटो)

राजस्थान में पिछले 3 साल से ट्रांसफर का इंतजार कर रहे थर्ड ग्रेड टीचर का इंतजार और बढ़ गया है। शिक्षा विभाग ने थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर पर रोक लगा दी है। जिसके बाद अब जिले से जिले में भी थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर नहीं हो सकेंगे। ऐसे में पिछले 1 साल से ट्रांसफर के लिए आवेदन कर अपनी बारी का इंतजार कर रहे टीचर्स की उम्मीदों पर एक बार फिर पानी फिर गया है।

दरअसल, राजस्थान में इसी सप्ताह से टीचर्स की ट्रांसफर लिस्ट आनी शुरू हो जाएगी। ऐसे में कई मंत्री और विधायकों ने जब शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला से थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर की मांग की। तो उन्होंने साफ इनकार कर दिया। बल्कि जिले से जिले में होने वाले थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर पर भी रोक लगा दी है। मंत्री कल्ला ने कहा कि फिलहाल थर्ड ग्रेड टीचर्स के लिए ट्रांसफर पॉलिसी तैयार नहीं हुई है। ऐसे में फिलहाल फर्स्ट ग्रेड और सेकंड ग्रेड टीचर्स की ट्रांसफर होंगे। थर्ड ग्रेड टीचर्स को ट्रांसफर के लिए थोड़ा और इंतजार करना पड़ेगा।

CS के अप्रूवल का इंतजार
राजस्थान के शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला ने बताया कि शिक्षा विभाग ने थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर के लिए नई ट्रांसफर पॉलिसी बनाई है। जिसे शिक्षा विभाग ने अप्रूवल के लिए मुख्य सचिव को भेज दी है। ऐसे में नई पॉलिसी अप्रूव होने के बाद ने सिरे से ट्रांसफर के लिए आवेदन मांगे जाएगे। वहीं नई शिक्षा नीति के तहत जो भी टीचर उसके अंतर्गत आएगा। उनको ही ट्रांसफर में राहत दी जाएगी।

12 सालों में केवल 2 बार हुए ट्रांसफर
राजस्थान में थर्ड ग्रेड टीचर्स का ट्रांसफर पिछले 12 साल में सिर्फ दो बार हुए हैं। 2010 में कांग्रेस सरकार ने जबकि 2018 में बीजेपी सरकार थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर कर चुकी है। इसके बाद कांग्रेस सरकार ने 2021 में थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर की आवेदन मांगे थे। लेकिन अब तक टीचर्स के ट्रांसफर को लेकर कोई पॉलिसी तैयार नहीं हो पाई है। जिसकी वजह से सरकार बनने के 3 साल से ज्यादा वक्त बीत जाने के बाद भी 85 हजार से ज्यादा टीचर अपने ट्रांसफर का इंतजार कर रहे हैं।

85 हजार ने किया था ट्रांसफर के लिए आवेदन
राजस्थान में पिछले साल अगस्त महीने में शाला दर्पण पर टीचर्स से ट्रांसफर के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे। जिसमें प्रदेश के 2.25 लाख टीचर्स में से 85 हजार ने अपने गृह जिले में आने के लिए आवेदन किया था। लेकिन 11 महीने का वक्त बीत जाने के बाद भी टीचर्स के ट्रांसफर नहीं हुए थे। वहीं ट्रांसफर पर रोक लगने के बाद अब थर्ड ग्रेड टीचर्स ने सरकार के खिलाफ आंदोलन की चेतावनी दी है।