काेराेना संक्रमण की जानलेवा रफ्तार:मौतों का सरकारी आंकड़ा 32, पर श्मशान व कब्रिस्तान में काेराेना के 54 शव पहुंचे

जयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीरें गवाह हैं कि जयपुर में हालात बहुत ही खराब हो चले हैं। मौतों का आंकड़ा भी डराने वाला है। बरामदों में 70 और ग्राउंड फ्लोर पर 30 बेड लगाने के बावजूद हाल ये हैं कि ऑक्सीजन के साथ मरीज जमीन पर लेटे हुए हैं। वहीं, कानोता के सुमित को गंभीर हालात में आरयूएचएस लाया गया। 2 घंटे इंतजार के बाद बीलवा जाने को कह दिया गया।   - फोटो: अनिल शर्मा - Dainik Bhaskar
तस्वीरें गवाह हैं कि जयपुर में हालात बहुत ही खराब हो चले हैं। मौतों का आंकड़ा भी डराने वाला है। बरामदों में 70 और ग्राउंड फ्लोर पर 30 बेड लगाने के बावजूद हाल ये हैं कि ऑक्सीजन के साथ मरीज जमीन पर लेटे हुए हैं। वहीं, कानोता के सुमित को गंभीर हालात में आरयूएचएस लाया गया। 2 घंटे इंतजार के बाद बीलवा जाने को कह दिया गया। - फोटो: अनिल शर्मा

काेराेना संक्रमण के कारण बुधवार काे 32 लाेगाें की माैत हुई है, यह सरकारी रिपाेर्ट बता रही है। वहीं हकीकत शहर के कब्रिस्तान व श्मशान बयां कर रहे हैं, जिनमें एक ही दिन में काेराेना के कुल 54 शव पहुंचे है। इनमें 28 शवाें की नगर निगम द्वारा चिह्नित आदर्श नगर स्थित शमशान में अंतिम क्रियाएं की गई हैं, वहीं घाटगेट व शास्त्री नगर कब्रिस्तान में 7 शवाें काे दफनाया गया है।

इनके अलावा चांदपाेल शमशान में 5, लालकाेठी श्मशान में 3 और आदर्श के अन्य शमशान में 11 शवाें का दाह संस्कार किया गया है। बीते 10 दिन की बात की जाए ताे सरकारी रिपाेर्ट अनुसार 135 लाेगाें की काेराेना संक्रमण से माैत हुई है। कब्रिस्तान व शमशान के संचालकाें के बताए अनुसार इस दाैरान कुल 280 काेराेना शवाें की अंतिम क्रियाए की गई हैं।

मौतों का कारण वेंटिलेटर नहीं मिलना; 88 में से एक ही अस्पताल में वेंटिलेटर वाला आईसीयू बेड
जयपुर के 88 अस्पतालोंं में से एकमात्र महिला चिकित्सालय सांगानेरी गेट में एक आईसीयू बेड विथ वेंटिलेटर उपलब्ध है, जबकि पोर्टल पर उपलब्ध संख्या के अनुसार आईसीयू बेड विथ वेंटिलेटर एक भी उपलब्ध नहीं है। आईसीयू बेड विथआउट की संख्या 37 है। इसके अलावा 155 ऑक्सीजन बेडेड है, जबकि सामान्य बेड की संख्या 1027 है।

जयपुर में पिछले तीन माह से जांचों का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। फरवरी माह में जहां रोजाना औसतन 3 हजार जांचें होती थीं। मार्च में 5 हजार और अप्रैल में रोजाना 10 हजार से ज्यादा जांचें हो रही हैं।

बाहरी राज्यों के मरीजों का भार भी राजधानी पर; 25 से ज्यादा मरीज दिल्ली-यूपी के भर्ती हैं आरयूएचएस में
जयपुर में अब तक पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा एक लाख के पार हो चुका है। एक्टिव केसों की संख्या भी बढ़कर 33 हजार 324 तक पहुंच चुकी है। इसके मुकाबले रिकवरी अभी 69,650 ही हुई है। बुधवार को भी 1325 मरीज ही रिकवर हुए। यहां तक की गंभीर मरीजों को भी ऑक्सीजन बेड नहीं मिल रहे हैं। इससे मौतों का आंकड़ा बढ़ रहा है।

इसके साथ ही दिल्ली, यूपी व अन्य पड़ोसी राज्यों से आने वाले मरीजों की संख्या भी आरयूएचएस में बढ़ती जा रही है। सूत्रों के अनुसार यहां 25 से ज्यादा मरीज बाहरी राज्यों के भर्ती हैं। अधिकतर सिफारिश से यहां लाए जा रहे हैं।

तस्वीरें गवाह हैं कि जयपुर में हालात बहुत ही खराब हो चले हैं। मौतों का आंकड़ा भी डराने वाला है। बरामदों में 70 और ग्राउंड फ्लोर पर 30 बेड लगाने के बावजूद हाल ये हैं कि ऑक्सीजन के साथ मरीज जमीन पर लेटे हुए हैं। वहीं, कानोता के सुमित को गंभीर हालात में आरयूएचएस लाया गया। 2 घंटे इंतजार के बाद बीलवा जाने को कह दिया गया।

19 से 28 अप्रैल तक काेराेना से हुई डेथ

  • सरकारी रिपाेर्ट के अनुसार 135 माैत
  • नगर निगम द्वारा चिह्नित आदर्श नगर श्मशान में शव आए 149
  • आदर्श नगर के अन्य श्मशान में शव आए 75
  • लालकाेठी श्मशान में शव आए 10
  • शास्त्रीनगर कब्रिस्तान में शव आए 9
  • चांदपाेल श्मशान में शव आए 24
  • घाटगेट कब्रिस्तान में शव आए 13

(श्मशान व कब्रिस्तान से प्राप्त सूचना के अनुसार)

खबरें और भी हैं...