• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • On The Pretext Of Selling A Tortoise, Two Vicious Thugs Of The Gang Used To Grab Money By Luring Them To Double The Money In Jaipur

जयपुर में पकड़ी गई कछुआ गैंग:कछुआ बेचने के बहाने धन दुगना करने का लालच देकर हड़पे दो लाख रुपए, फिर मारपीट कर रकम छीनी, गिरोह के दो शातिर ठग गिरफ्तार

जयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर जिले में अलग अलग जगह कछुआ बेचने के बहाने धन दुगना करने वाली गैंग के दो बदमाशों को गोविंदगढ़ थाना पुलिस गिरफ्तार कर लिया। - Dainik Bhaskar
जयपुर जिले में अलग अलग जगह कछुआ बेचने के बहाने धन दुगना करने वाली गैंग के दो बदमाशों को गोविंदगढ़ थाना पुलिस गिरफ्तार कर लिया।

धन दुगना करने का लालच देकर धोखाधड़ी करने वाली कछुआ गैंग का पर्दाफाश कर पुलिस ने दो शातिर ठगों को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। यह कार्रवाई जयपुर ग्रामीण जिले में गोविंदगढ़ थाना पुलिस ने की। यह गैंग तालाब से पकड़े गए कछुओं को खुद कम पैसे में खरीदते है। फिर भोले भाले लोगों को इन कछुओं को मोटी रकम में बेचते है। इसके बदले लालच देते है कि इस कछुए को रखने से धन दुगना हो जाएगा। ऐसे ही दो लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आने पर पुलिस ने इस गैंग के दो ठगों को धरदबोचा।

जयपुर ग्रामीण एसपी शंकरदत्त शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी विजय बावरिया उर्फ दीपू उर्फ अन्नू उर्फ पोल्यो बावरिया (19) है। वह डूंगरी खुर्द, रेनवाल जयपुर का रहने वाला है। जबकि दूसरा आरोपी ठग विनय यादव (22) निवासी धाना का बास, रेनवाल जयपुर है।

यह है ठगी का पूरा मामला

एएसपी धर्मेंद्र यादव के मुताबिक सरुंड गांव के रहने वाले मुकेश कुमार मीणा ने 13 जून को एक मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसमें बताया कि मैं अपने घर पर मौजूद था। तभी मेरे पास खेत की रखवाली करने वाले लालचंद बावरिया के परिचित दीपू बावरिया का फोन आया। उसने आप मुझे दो लाख रुपए की व्यवस्था कर दो। मैं आपको यह पैसा डबल करके लौटा दूंगा। तब दीपू की लालची बातों में आकर मुकेश मीणा अपनी बाइक से 2 लाख रुपए लेकर जाटावाली बस स्टैंड, पहुंचा। वहां दीपू और उसके साथ विनय यादव बाइक पर बैठे मिले। इनमें दीपू का साथी मेरी बाइक पर बैठ गया। जहां से दोनों बदमाश उसे कालाडेरा से तीन चार किलोमीटर आगे एक जगह ले गए।

गैंग में शामिल महिला और पुरुष से कछुआ खरीदने का नाटक कर रुपए हड़पे

वहां पहले से एक महिला और एक व्यक्ति खड़े थे। उनके पास एक प्लास्टिक कट्‌टा था। जिसमें एक कछुआ रखा था। दीपू बावरिया ने इस कछुए को खरीदने का नाटक किया और मुकेश मीणा से दो लाख रुपए लेकर गैंग में शामिल महिला-पुरुष को दे दिए। इसके बाद दीपू बावरिया ने एक और जरुरी काम होना बताया और पीड़ित मुकेश मीणा को अपने साथ किसी और जगह लेकर पहुंचा।

दो लाख रुपए हड़पने के बाद दो साथियों की मदद से लूटे 60 हजार रुपए

वहां बाइक सवार दो व्यक्ति मिले। जिन्होंने मुकेश मीणा की बाइक को रुकवाकर चाबी निकाल ली। उसे मारपीट कर धमकाया। फिर मुकेश के पास रखे 60 हजार रुपए छीन लिए। इस बीच दीपू वहां से भाग निकला। तब बदमाशों ने मुकेश को उसकी बाइक छीनने की धमकियां भी दी। वारदात के बाद पीड़ित मुकेश ने गोविंदगढ़ थाने पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज करवाई।

तब गोविंदगढ़ सीओ संदीप सारस्वत, थानाप्रभारी हरवेंद्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने बाइक के नंबरों और मोबाइल कॉल डिटेल्स के आधार पर दीपू और उसके साथी विनय यादव को धरदबोचा। पूछताछ में कछुआ गैंग ने जयपुर जिले में फुलेरा, जोबनेर, कालवाड़, चौमूं व आसपास के क्षेत्रों में कछुआ खरीदने बेचने का झांसा देकर धन दुगना करने के बहाने ठगी की आठ वारदातें करना बताया।

खबरें और भी हैं...